माओवादियों से संबंध के आरोप में UAPA के तहत, उस्मानिया यूनिवर्सिटी का प्रोफेसर गिरफ्तार

"हमने जगन को गिरफ्तार किया है, जो उस्मानिया विश्वविद्यालय में एक सहायक प्रोफेसर है। जगन को हमने गैरकानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम (UAPA) के तहत गिरफ्तार किया है।...."

तेलंगाना पुलिस ने उस्मानिया विश्वविद्यालय के एक सहायक प्रोफेसर डॉ के जगन को कथित माओवादियों के लिंक के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। तेलंगाना पुलिस ने प्रतिबंधित माओवादी दलों के कथित संबंधों वाले व्यक्तियों पर अपनी कार्रवाई जारी रखते हुए हैदराबाद के उस्मानिया विश्वविद्यालय में कार्यरत एक सहायक प्रोफेसर डॉ के जगन के आवास पर तलाशी ली। 

डॉ जगन के हैदराबाद के तरनाका स्थित निवास पर ली गई तलाशी के दौरान भड़काऊ सामग्री, माओवादी पार्टी के लेटरहेड और प्रतिबंधित साहित्य बरमाद हुई। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस अधिकारी जोगुलाम्बा गडवाल ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा, “हमने जगन को गिरफ्तार किया है, जो उस्मानिया विश्वविद्यालय में एक सहायक प्रोफेसर है। जगन को हमने गैरकानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम (UAPA) के तहत गिरफ्तार किया है। अब तक मामले में चार सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें एक छात्र संगठन अध्यक्ष भी शामिल है।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पुलिस के मुताबिक, प्रोफेसर के पास से नक्सलियों को लिखे गए पत्र भी बरामद किए गए। जोगुलाम्बा गडवाल ने कहा, “हमने उनके लैपटॉप में माओवादी पार्टी से संबंधित अन्य दस्तावेज भी जब्त किए हैं। आरोपित लगातार माओवादी पार्टी के सदस्यों के संपर्क में थे और उनमें से एक उनके लिए भर्ती भी था।” वहीं दूसरी ओर, विप्लव रचायतुला संगम (क्रांतिकारी लेखक संघ) के सदस्यों ने गिरफ्तारी की निंदा करते हुए जगन की तत्काल रिहाई की माँग की है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: