Tuesday, August 4, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे तुलसी बाबा ने यूॅं ही नहीं लिखा- झूठइ लेना झूठइ देना, झूठइ भोजन झूठ...

तुलसी बाबा ने यूॅं ही नहीं लिखा- झूठइ लेना झूठइ देना, झूठइ भोजन झूठ चबेना

दलीलें देने और सुनने की हमारी परंपरा पुरानी है। कैकेयी ने भी मंथरा और खुद राम ने धोबिन की दलीलें सुनी थी। नतीजा दोनों में एक जैसा ही निकला था- वन गमन!

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

तुलसीदास भी गजबे थे। राम पर पूरा रामचरितमानस लिख दिया। जन्म से लेकर कलयुग तक का खाका खींच दिया। पर जो लिखना था वो न लिखा। नहीं बताया कि राम किस गली के कितने नंबर मकान में पैदा हुए। कायदे से दशरथ के प्लॉट (राजमहल) का खतिहान ही लिखा जाना चाहिए था।

लेकिन, तुलसी बाबा उत्तर कांड में केवल इतना लिख ठहर गए;
जन्मभूमि मम पुरी सुहावनि। उत्तर दिसि बह सरजू पावनि॥
जा मज्जन ते बिनहिं प्रयासा। मम समीप नर पावहिं बासा॥

यानी, यह सुहावनी पुरी मेरी जन्मभूमि है। इसके उत्तर दिशा में जीवों को पवित्र करने वाली सरयू नदी बहती है, जिसमें स्नान करने से मनुष्य बिना परिश्रम मेरे समीप निवास अर्थात मुक्ति पा जाते हैं।

इससे साबित क्या होता है? यह किस बात का साक्ष्य है? जानने से पहले इन दलीलों पर गौर करें,

  • यह विश्वास है कि भगवान राम वहॉं पैदा हुए थे। हमें साक्ष्य देकर बताया जाए कि आखिर किस जगह भगवान राम पैदा हुए थे।
  • ये दलील काफी नहीं है कि भगवान राम के जन्मस्थान के बारे में आस्था है कि वह अमुक जगह है और इसी आधार पर जन्मस्थान को कानूनी व्यक्ति मान लिया जाए।
  • पिलर पर भगवान की कोई तस्वीर नहीं है। कमल, गरूड़ की तस्वीर और सिंहद्वार होने भर से वह हिंदुओं का स्थान हो जाएगा ऐसा नहीं है। ये सजावट के लिए हो सकता है।
  • पूरे जन्मस्थान को पूजा की जगह बता मुस्लिम पक्ष के दावे को कमजोर करने की कोशिश की जा रही।

ये चुनिंदा दलीले हैं वरिष्ठ वकील राजीव धवन की। वे अयोध्या मामले की सुप्रीम कोर्ट में चल रही नियमित सुनवाई के दौरान सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से अपना पक्ष रख रहे हैं। वैसे, दलीलें देने और सुनने की हमारी परंपरा पुरानी है। कैकेयी ने भी मंथरा और खुद राम ने धोबिन की दलीलें सुनी थी। नतीजा दोनों में एक जैसा ही निकला था- वन गमन!

राजीव धवन को बतौर वकील दलीलें पेश करने का अधिकार भी है और उसे सुनना मी लॉर्ड का दायित्व। दलीलों से यह भी जाहिर होता है कि धवन भी राम को मानते हैं। सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा भी है, “भगवान राम की पवित्रता पर कोई विवाद नहीं है। इसमें भी विवाद नहीं है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में कहीं हुआ था।” उनकी आपत्ति केवल जन्मस्थान को कानूनी तौर पर व्यक्ति मानने को लेकर है। आपत्ति केवल यह है कि किसी भी पुस्तक में ये वर्णित नहीं है कि अयोध्या के किस खास जगह पर भगवान राम का जन्म हुआ था। राम में उनकी आस्था इतनी है गहरी है कि उन्होंने अदालत में इकबाल का एक शेर भी पढ़ा, “है राम के वजूद पे हिन्दोस्ताँ को नाज़, अहल-ए-नज़र समझते हैं उसको इमाम-ए-हिंद।”

कहने को कबीर भी कह गए हैं;
कबीर निरभै राम जपि, जब लग दीवै बाति।
तेल घट्या बाती बुझी, (तब) सोवैगा दिन राति॥

कहते हैं कि अवध के वाजिद अली शाह के कृपानिधान भी राम ही थे। किस्सा यूॅं है कि वाजिद अली शाह बेदखल हो कलकता जाने लगे तो अफवाह उड़ी कि अंग्रेज उन्हें लंदन ले जा रहे हैं। तब औरतों ने जमा होकर गाया था-हजरत जाते लंदन, कृपा करो रघुनंदन।लेकिन, जो सबसे जरूरी था वह किसी ने न लिखा, न गाया। राम किस प्लॉट में पैदा हुए थे?

हालाँकि, रामलला के वकील एससी वैद्यनाथन सुप्रीम कोर्ट को बता चुके हैं कि राम का जन्म बाबरी मस्जिद के गुंबद के नीचे हुआ था। भारतीय पुरातत्व विभाग की खुदाई से मिले सबूत भी बताते हैं कि बाबरी मस्जिद के नीचे जो स्ट्रक्चर था उसकी बनावट उसमें मिली भगवान की तस्वीरें, मूर्तियॉं सब पहले से मंदिर के होने की गवाही देते हैं। लेकिन, आपत्ति जताने वाले यह भी पूछते हैं कि एक ही कालखंड में होने के बावजूद तुलसीदास ने राम मंदिर को तोड़ कर मस्जिद बनाए जाने का जिक्र क्यों नहीं किया?

वैसे, तुलसी बाबा यह भी लिख गए हैं;
झूठइ लेना झूठइ देना। झूठइ भोजन झूठ चबेना॥
बोलहिं मधुर बचन जिमि मोरा। खाई महा अहि हृदय कठोरा॥

यह भी कि;
ऐसे अधम मनुज खल कृतजुग त्रेतॉं नाहिं।
द्वापर कछुक बृंद बहु होइहहिं कलजुग माहिं॥

यानी, ऐसे नीच और दुष्ट मनुष्य सतयुग और त्रेता में नहीं होते। द्वापर में थोड़े से होंगे और कलियुग में तो इनके झुंड-झुंड होंगे।

खैर, बहस जारी रहे…क्योंकि हमने तो पाहुन राम से कहा था- जो आनंद विदेह नगर में, देह नगर में कहूॅं ना।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ख़ास ख़बरें

‘इंशाअल्लाह, न कभी भूलेंगे, न माफ करेंगे’: भूमि पूजन से पहले जामिया वाली लदीदा ने दिखाई नफरत

जामिया में लदीदा के जिहाद के आह्वान के बाद हिंसा भड़की थी। अब उसने भूमि पूजन से पहले हिंदुओं के प्रति नफरत दिखाते हुए पोस्ट किया है।

मुंबई पुलिस को फरवरी में बताया था बेटे की जान खतरे में, पर कोई कारवाई नहीं की: सुशांत के पिता

सुशांत के पिता ने एक वीडियो जारी कर कहा है कि 25 फरवरी को उन्होंने बांद्रा पुलिस को आगाह किया था कि उनके बेटे की जान खतरे में है। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।

‘आज देख लेंगे हिंदुओं को… शाहरुख भाई वो रहा हिंदू, मारो साले को’: राजधानी स्कूल वाले फैजल फारुख पर चार्जशीट

फैजल फारुख। राजधानी स्कूल का मालिक। दिल्ली दंगों के दौरान हिंदुओं को निशाना बनाने के लिए क्या, कब और कैसे किया। सब कुछ है इस चार्जशीट में।

4-5 अगस्त को घरों में दीप जलाएँ, अखंड रामायण पाठ करें, मंदिर के लिए बलिदान हुए पूर्वजों को याद करें: CM योगी आदित्यनाथ

राम मंदिर भूमिपूजन के ऐतिहासिक पल का साक्षी बनने के लिए CM योगी आदित्यनाथ ने 4-5 अगस्त को घरों में दीप जलाने और अखंड रामायण पाठ की अपील की है।

‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ कहने वाले इकबाल अंसारी को भूमि पूजन का पहला कार्ड, कहा- एक समुदाय के नहीं, सबके हैं राम

इकबाल अंसारी के पिता हाशिम बाबरी मस्जिद के मुद्दई थे। उनके इंतकाल के बाद इकबाल ने कानूनी लड़ाई जारी रखी थी।

ग्राउंड रिपोर्ट: नहीं बजा सकते हनुमान चालीसा, घर बेचने/छोड़ने पर मजबूर, मुस्लिम देते हैं धमकी

"...रहना तो हमें ही है। छोड़ कर जाना होगा। 'मकान बिकाऊ है' वाला पोस्टर देख कर वे कहते हुए निकल जाते हैं कि यह मकान तो वही खरीदेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

‘इससे अल्लाह खुश होता है, तो शैतान किससे खुश होगा?’ गाय को क्रेन से लटकाया, पटका फिर काटा

पाकिस्तान का बताए जाने वाले इस वीडियो में देखा जा सकता है कि गाय को क्रेन से ऊपर उठाया गया है और कई लोग वहाँ तमाशा देख रहे हैं।

‘खड़े-खड़े रेप कर दूँगा, फाड़ कर चार कर दूँगा’ – ‘देवांशी’ को समीर अहमद की धमकी, दिल्ली दंगों वाला इलाका

"अपने कुत्ते को यहाँ पेशाब मत करवाना नहीं तो मैं तुझे फाड़ कर चार कर दूँगा, तेरा यहीं खड़े-खड़े रेप कर दूँगा।" - समीर ने 'देवांशी' को यही कहा था।

‘राम-राम नहीं, जय भीम बोलो’: दरोगा रमेश राम ने माँ का श्राद्ध कर रहे परिजनों को जम कर पीटा, CM योगी ने लिया संज्ञान

जातिवादी टिप्पणी करते हुए दरोगा रमेश राम ने कहा कि वो ब्राह्मणों और ठाकुरों को सबक सिखाने के लिए ही पुलिस में भर्ती हुआ है। घायलों में सेना का जवान भी शामिल।

रवीश जी, आपका हर शो चुटकुला ही है, फिर कॉमेडी के लिए इतना परिश्रम काहे भाई!

भारत की पत्रकारिता में यह रवीश का सबसे बड़ा योगदान है। अच्छी योजनाओं और सरकारी कार्यों में भी, खोज-खोज कर कमियाँ बताई जाने लगी हैं। देखा-देखी बाकी वामपंथी एंकरों और पुराने चावल पत्रकारों ने भी, अपनी गिरती लोकप्रियता बनाए रखने के लिए, अपने दैनिक शौच से पहले और फेफड़ों से चढ़ते हर खखार (हिन्दी में बलगम) के बाद, मोदी और सरकार को गरियाना अपना परम कर्तव्य बना लिया है।

‘इंशाअल्लाह, न कभी भूलेंगे, न माफ करेंगे’: भूमि पूजन से पहले जामिया वाली लदीदा ने दिखाई नफरत

जामिया में लदीदा के जिहाद के आह्वान के बाद हिंसा भड़की थी। अब उसने भूमि पूजन से पहले हिंदुओं के प्रति नफरत दिखाते हुए पोस्ट किया है।

तवलीन सिंह ने बेटे आतिश तासीर का किया बचाव, अमित शाह पर उगला जहर

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के कोरोना पॉजीटिव होते ही कट्टरपंथियों और 'सेकुलर लिबरल' जश्न मनाते दिखे। इनमें पत्रकार तवलीन सिंह का बेटा आतिश तासीर भी शामिल है।

‘इंशाअल्लाह, न कभी भूलेंगे, न माफ करेंगे’: भूमि पूजन से पहले जामिया वाली लदीदा ने दिखाई नफरत

जामिया में लदीदा के जिहाद के आह्वान के बाद हिंसा भड़की थी। अब उसने भूमि पूजन से पहले हिंदुओं के प्रति नफरत दिखाते हुए पोस्ट किया है।

मुंबई पुलिस को फरवरी में बताया था बेटे की जान खतरे में, पर कोई कारवाई नहीं की: सुशांत के पिता

सुशांत के पिता ने एक वीडियो जारी कर कहा है कि 25 फरवरी को उन्होंने बांद्रा पुलिस को आगाह किया था कि उनके बेटे की जान खतरे में है। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।

दिल्ली हिंदू विरोधी दंगा: फैजल फारुख की बेल के लिए बीवी ने बनाए फर्जी सर्टिफिकेट

दिल्ली पुलिस ने राजधानी स्कूल के मालिक फैजल फारुख, उसकी पत्नी, डॉक्टर और वकील के खिलाफ जमानत के लिए फर्जी दस्तावेज जमा करने का केस दर्ज किया है।

‘आज देख लेंगे हिंदुओं को… शाहरुख भाई वो रहा हिंदू, मारो साले को’: राजधानी स्कूल वाले फैजल फारुख पर चार्जशीट

फैजल फारुख। राजधानी स्कूल का मालिक। दिल्ली दंगों के दौरान हिंदुओं को निशाना बनाने के लिए क्या, कब और कैसे किया। सब कुछ है इस चार्जशीट में।

4-5 अगस्त को घरों में दीप जलाएँ, अखंड रामायण पाठ करें, मंदिर के लिए बलिदान हुए पूर्वजों को याद करें: CM योगी आदित्यनाथ

राम मंदिर भूमिपूजन के ऐतिहासिक पल का साक्षी बनने के लिए CM योगी आदित्यनाथ ने 4-5 अगस्त को घरों में दीप जलाने और अखंड रामायण पाठ की अपील की है।

22 साल के बलिदानी बेटे मोहसिन खान को बकरीद के दिन अंतिम विदाई, हाल ही में हुई थी सगाई

कश्मीर में पाकिस्तानी फायरिंग में बलिदान हुए 22 वर्षीय मोहसिन खान को 1 अगस्त को अंतिम विदाई दी गई।

हैप्पी रक्षाबंधन मेरा स्वीट सा बेबी… आप हमेशा हमारा गर्व रहोगे: रक्षाबंधन पर सुशांत की बहन का इमोशनल पोस्ट

सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने इंस्टाग्राम पर भाई के साथ बिताए पलों को याद करते हुए भावनात्मक मैसेज पोस्ट किया है।

टाइम्स नाउ के दावे को BJP ने बताया फर्जी, कहा था- 4 MP, 1 MLA सहित 21 नेता टीएमसी में शामिल हो सकते हैं

बंगाल भाजपा के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय ने टाइम्स नाउ की उस रिपोर्ट को बकवास बताया है जिसमें राज्य के 21 पार्टी नेताओं के टीएमसी में शामिल होने का दावा किया गया था।

‘शुभ कार्य पर असुर बाधा पैदा करते हैं, दिग्विजय सिंह वही कर रहे’: कॉन्ग्रेस सांसद ने भूमि पूजन के मुहूर्त को बताया था अशुभ

कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्विटर पर राम मंदिर भूमि पूजन की तारीख को अशुभ बताते हुए भ्रामित करने की कोशिश की।

‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ कहने वाले इकबाल अंसारी को भूमि पूजन का पहला कार्ड, कहा- एक समुदाय के नहीं, सबके हैं राम

इकबाल अंसारी के पिता हाशिम बाबरी मस्जिद के मुद्दई थे। उनके इंतकाल के बाद इकबाल ने कानूनी लड़ाई जारी रखी थी।

हमसे जुड़ें

243,759FansLike
64,271FollowersFollow
288,000SubscribersSubscribe
Advertisements