आरिफ और रियाज ने ‘बोल बम’ का नारा लगाने पर की काँवड़ियों की पिटाई, इलाके में तनाव

पुलिस ने आरिफ व रियाज के विरुद्ध दलित उत्पीड़न सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया। मामले में एक आरोपित को हिरासत में भी ले लिया गया है।

सावन महीने के पहले सोमवार (जुलाई 22, 2019) को शिव मंदिरों में जलाभिषेक के लिए काँवड़िया गंगा जल लेकर पहुँचने लगे हैं। इसी कड़ी में जब काँवड़ियों का एक समूह ‘बोल बम’ का नारा लगाते हुए यूपी के जौनपुर के मड़ियाहूँ थाना क्षेत्र से गुजर रहा था, तो मुस्लिम समुदाय के लोगों ने दो काँवड़ियों की बेरहमी से पिटाई कर दी। इसमें दोनों काँवड़िया गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों काँवड़ियों को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इनमें से एक काँवड़िया की हालत बेहद नाजुक है। उन्हें जिला अस्पताल रेफर किया गया है।

जानकारी के मुताबिक, ठाकुर प्रसाद के पुत्र विकास गौतम मड़ियाहूँ विंध्याचल से जल लेकर विवेकानंद स्थित शिव मंदिर की ओर जा रहे थे। इस दौरान जैसे ही काँवड़ियों का समूह नगर के कजियाना मुहल्ले मे पहुँचा, वहाँ के समुदाय विशेष ने काँवड़ियों को धार्मिक नारा ‘बोल बम’ लगाने पर आपत्ति जताई। मगर कांँवड़ियों का समूह फिर भी नारा लगाता रहा। इसके बाद गुस्से में आकर समुदाय विशेष ने उनकी पिटाई कर दी।

साथी काँवड़ियों की पिटाई से आक्रोशित काँवड़ियों ने मड़ियाहूँ जौनपुर मार्ग पर कजियाना मोहल्ले में सड़क जाम कर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। मौके पर पहुँची पुलिस ने सड़क जाम कर रहे काँवड़ियों को समझाया और पीड़ित विकास गौतम की शिकायत पर कजियाना निवासी आरिफ व रियाज के विरुद्ध दलित उत्पीड़न सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया। मामले में एक आरोपित को हिरासत में भी ले लिया गया है। जिसके बाद पुलिस अधीक्षक विपिन कुमार मिश्रा, अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण संजय कुमार राय, प्रभारी निरीक्षक लाइन बाजार संजीव कुमार मिश्रा, क्षेत्राधिकारी मडियाहूँ अवधेश कुमार शुक्ला ने आरोपित के विरुद्ध कार्रवाई का आश्वासन देकर सड़क जाम समाप्त करवाया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: