Sunday, August 1, 2021
Homeसोशल ट्रेंडगाय कह कर भैंस का आँकड़ा: क्योंकि अभिसार शर्मा सिर्फ गेहूँ को ही धान...

गाय कह कर भैंस का आँकड़ा: क्योंकि अभिसार शर्मा सिर्फ गेहूँ को ही धान नहीं कहता

सोशल मीडिया पर यह भी कहा जा रहा है कि जिस अभिसार शर्मा को धान और गेहूँ में ही अंतर पता न हो, उससे बीफ, गाय का माँस और बफ़ेलो यानी, भैंस के मांस में अंतर पता होने की उम्मीद करना बेवकूफी है।

धान को गेहूँ बताकर चर्चा में आने वाले एबीपी न्यूज के पत्रकार अभिसार शर्मा सोशल मीडिया ट्रोल बनकर ‘व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी’ का काम कर रहे हैं। मेनस्ट्रीम मीडिया को त्यागने के बाद अभिसार शर्मा यूट्यूब और ट्विटर पर खूब सक्रीय हैं, और इसमें भी सबसे ज्यादा सक्रीय हैं फर्जी खबर फैलाने में।

ट्विटर पर अभिसार शर्मा का एक वीडियो शेयर किया जा रहा है जिसमें वो विश्व में एक्सपोर्ट किए जा रहे बीफ के आँकड़ो पर बात करते हुए देखे जा रहे हैं। हालाँकि, दुर्भाग्यवश जिस बीफ को अभिसार शर्मा गाय का माँस बता रहे हैं उसके आगे स्पष्ट शब्दों में ‘Buffalo Meat’ यानी भैंस का माँस लिखा हुआ है, फिर भी अभिसार शर्मा इसे गाय का माँस बताकर लोगों को गुमराह करते हुए देखे जा रहे हैं।

यह जानना आवश्यक है कि बीफ आवश्यक रूप से गाय का माँस नहीं होता है, बल्कि यह बीफ शब्द भैंस की विभिन्न नस्लों के माँस के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन सच्चाई से बिलकुल हटकर अभिसार शर्मा जैसे ‘पत्थरकार’ अक्सर यह बात लोगों को पता तक नहीं चलने देते हैं।

विभिन्न देशों द्वारा बीफ एक्सपोर्ट की रैंकिंग हम इस लिंक पर देख सकते हैं। यहाँ स्पष्ट शब्दों में दिया गया है कि भारत द्वारा एक्सपोर्ट किया जाने वाला बीफ Carabeef है ना कि गाय का माँस। इसका आशय ‘रेड मीट’ से होता है ना कि गाय के माँस से।

इस वीडियो में अभिसार शर्मा सरकार के कथित ‘दोहरे मापदंड को एक्सपोज’ करते हुए नजर आ रहे हैं। उनका कहना है कि एक ओर यह सरकार गाय की बात करती है जबकि दूसरी ओर बीफ एक्सपोर्ट का यह आँकड़ा हमारे सामने है। इसके बाद अभिसार शर्मा एक सूची के जरिए ये बताते नजर आ रहे हैं कि बीफ एक्सपोर्ट में भारत का विश्व में दूसरा स्थान है। अभिसार शर्मा द्वारा भाजपा सरकार के ‘दोहरे मापदंड को एक्सपोज’ करने वाले इस कथित वीडियो में दिखाई गई ‘रिपोर्ट’ वर्ष 2016 की है।

सबसे मजेदार बात यह है कि इस रिपोर्ट में बीफ के आगे स्पष्ट शब्दों में Buffalo Meat लिखा गया है, जिसे अभिसार शर्मा बहुत चालाकी से या तो पढ़ नहीं पाए या फिर उन्होंने इसे बताना जरूरी नहीं समझा। अभिसार शर्मा यह भी बताते हैं कि ब्राजील ने कुछ ही समय पहले भारत से आगे स्थान बनाया है वर्ना कुछ साल पहले तक हमारा देश इसमें पहले स्थान पर था।

अभिसार शर्मा मेनस्ट्रीम मीडिया में रहते हुए भी अक्सर इस तरह की गलतियाँ करते आए हैं। उनका सबसे ज्यादा विवादास्पद और चर्चित वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया जाता है जिसमें वो धान को गेहूँ बताते नजर आए थे। सोशल मीडिया पर यह भी कहा जा रहा है कि जिस अभिसार शर्मा को धान और गेहूँ में ही अंतर पता न हो, उससे बीफ, गाय का माँस और बफ़ेलो यानी, भैंस के मांस में अंतर पता होने की उम्मीद करना बेवकूफी है।

अभिसार शर्मा यूट्यूब से लेकर अपने ट्विटर अकाउंट पर फर्जी खबरों की फैक्ट्री चला रहे हैं। हाल ही में ISRO के चंद्रयान-2 मिशन के दौरान भी अभिसार शर्मा ने एक फर्जी खबर को सच मानकर एक वीडियो बनाकर न्यूज़ चैनल आज तक (Aaj Tak) और उसकी पत्रकार चित्रा त्रिपाठी पर हमला करते हुए देखे गए थे। हालाँकि, इसमें भी वो फोटोशॉप तस्वीर के साथ फर्जी खबर चलाते हुए रंगे हाथ पकड़े गए थे और इसके लिए ट्विटर यूजर्स ने उन्हें जमकर लताड़ भी लगाई थी।

इस फर्जी वीडियो को शेयर करने के बाद जब अभिसार शर्मा सोशल मीडिया पर फटकारे गए तो उन्होंने अपना ट्वीट और वीडियो दोनों डिलीट कर दिए थे। उन्होंने वीडियो के इस हिस्से को एडिट करके फिर से अपलोड भी किया, लेकिन उन्होंने अपनी इस फर्जी खबर के लिए लोगों से माफी अभी तक नही माँगी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

गोविंद देव मंदिर: हिंदू घृणा के कारण औरंगजेब ने जिसे आधा ढाह दिया… और उसके ऊपर इस्लामिक गुंबद बना नमाज पढ़ी

भगवान गोविंद देव अर्थात श्रीकृष्ण का यह मंदिर वृंदावन के सबसे पुराने मंदिरों में से एक। मंदिर के विशालकाय दीपक की चमक इसकी शत्रु साबित हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,352FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe