Wednesday, December 1, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'कोरोना मुस्लिमों को नपुंसक बनाने की चाल, नर्स अगर हिंदू हो तो उसे लगा...

‘कोरोना मुस्लिमों को नपुंसक बनाने की चाल, नर्स अगर हिंदू हो तो उसे लगा दो इंजेक्शन’- AIMIM नेता अबु फैजल

"मेरे पास पर्याप्त सबूत हैं कि कोरोना का तो केवल बहाना है। वास्तविकता में सरकार और डॉक्टर मिलकर मुस्लिम महिलाओं को ऐसा इंजेक्शन दे रहे हैं, जिनसे उनके बच्चे न हों और मुस्लिम आबादी न बढ़े। मुस्लिम किसी तरह का इंजेक्शन न लें और अगर कोई बार-बार बोले तो उसका हाथ तोड़ दें या फिर वो इंजेक्शन पहले उसको लगा दें।"

कोरोना महामारी के बीच असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के नेता अबु फैजल का एक वीडियो सामने आया है। वीडियो में पार्टी नेता संक्रमण के बारे में बात करते हुए समुदाय विशेष अर्थात मुस्लिमों को इसका इलाज कराने से मना कर रहे हैं। वीडियो में फैजल दावा कर रहे हैं कि उनके पास पर्याप्त सबूत हैं कि कोरोना का तो केवल बहाना है, वास्तव में सरकार और डॉक्टर मिलकर समुदाय विशेष की महिलाओं को ऐसा इंजेक्शन दे रहे हैं, जिनसे उनके बच्चे न हों और मुस्लिम आबादी न बढ़े।

अपनी वीडियो में फैजल अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए समुदाय विशेष के लोगों को सख्त तौर पर हिदायत दे रहे हैं कि वे किसी तरह का इंजेक्शन न लें और अगर कोई बार-बार बोले तो उसका हाथ तोड़ दें या फिर वो इंजेक्शन पहले उसके लगा दें।

वीडियो में फैजल समुदाय विशेष की महिलाओं को बोलते हैं कि अगर नर्स इंजेक्शन लगाने पास आए तो उसका नाम पूछो अगर वे मुस्लिम नहीं है, और कोई ‘लिंडी’ यानी हिंदू है, तो आधा इंजेक्शन उसे दे दो।

अपनी बात को साबित करने के लिए अबु इस दौरान एक ऑडियो भी चलाते हैं। हालाँकि, ये ऑडियो किसकी होती है, इस पर वह कुछ नहीं कहते, लेकिन इस ऑडियो में एक व्यक्ति ये कहता सुनाई पड़ता है कि पहले मुस्लिमों को पकड़ा जाता है, फिर मारा जाता है और बाद में बच्चों-बुजुर्गों को छोड़ दिया जाता है। इसके बाद जवानों को अपने साथ ले जाकर ऐसी दवा देते हैं, जिससे मुस्लिम या तो नपुंसक हो जाता है या फिर धीरे-धीरे बीमार होकर मर जाता है।

अबु फैजल की वीडियो इतने के बाद भी नहीं खत्म होती। आगे की वीडियो में फैजल विश्व भर में हाहाकार मचा रही बीमारी को ही खारिज कर देता है। फैजल कहते हैं कि कोरोना-शोरोना कुछ नहीं है। ये आरएसएस वायरस चल रहा है। सारी मीडिया को एक काम पर लगा दिया गया है कि समुदाय विशेष और इस्लाम को टारगेट करते रहो, ताकि देश का माहौल खराब हो सके और जो लोग गौ मूत्र पर अमल करते हैं, उनके जेहन में गौ-मूत्र चलता रहे।

उनका कहना है कि इन्हीं सबके कारण समुदाय विशेष को कारोबार करने नहीं दिया जा रहा है। समुदाय विशेष को कुछ बेचने नहीं दिया जा रहा है और उन्हें कहीं आने-जाने पर भी रोक है। वे इन हालातों को सरकार की साजिश बताते हैं।

https://www.youtube.com/watch?v=9ZG0iXFcsHU

अपनी वीडियो में वे सभी मुस्लिमों से एकत्रित होने की बात करते हैं और गौ मूत्र पीने वालों को सबक सिखाने की बात करते हैं। वे कहते हैं, “सभी कलमा पढ़ने वाले एक हो जाओ, ये वक्त बहुत खतरनाक है। रही बात उनकी जो तलवार दिखा रहे हैं, तो बता दें इससे हमारी औरतें सब्जी काटती हैं। जब वक्त आएगा तो इनके ***में घुसा देगें।” आगे फैजल धमकी देते हैं कि रमजान हैं इसलिए वे शांत हैं और तमीज से बात कर रहे हैं। वरना पूरे भगवा को फाड़कर रख दें।

इसके बाद आरएसएएस का नाम लेते हुए उनके समर्थकों गाली देते हैं। वे कहते हैं, “पापियों, दरिंदो, आरएसएस के चट्टुओं, चोरों, फ्रॉडियों, मूत्र पीने वालों तुम्हारे शरीर में अगर खून होता, तो तुम इंसानियत की सोचते, इंसानों की सोचते। लेकिन तुम तो सुअर की औलाद हो, तुम्हारे अंदर मूत्र दौड़ता है। तुम तो टट्टी खाते हो, टट्टी से नहाते हो.. तो इंसानियत कहाँ से होगी तुम्हारे पास?”

वो कहते हैं कि तुम्हें पहले मुस्लिमों से इज्जत मिलती थी। लेकिन अब नहीं मिलेगी। तुम जानवर की औलाद हो। तुम्हारी असलियत दुनिया जान चुकी है। तुम आतंकी हो। याद रखो जब हम मारना शुरू करेंगे तो कहीं जगह नहीं मिलेगी और न कोई भगवा में छिप सकोगे।

अब यहाँ बता दें, पिछले काफी समय से हम लोग इस बात को लेकर आश्चर्य जताते रहे है कि कि राजस्थान से लेकर कर्नाटक तक आखिर किस मानसिकता के लोग हैं, जो कोरोना योद्धाओं का सहयोग करने की बजाय उनपर हमला कर रहे हैं। तो शायद अब ये ऑडियो सुनकर और इसमें कही बातों के मुख्य बिंदु पढ़कर हमें समझ आए कि आखिर किस तरह की अफवाहें और नेतृत्व के कारण पूरे देश में स्वास्थकर्मियों पर हमला हुआ और अधिकतर आरोपित समुदाय विशेष के लोग रहे। जो समय-समय पर नर्सो, आशाकर्मियों और डॉक्टरों को देखकर इल्जाम लगाते रहे कि वे उनकी जानकारी एनआरसी आदि के लिए इकट्ठा कर रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,742FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe