Tuesday, July 27, 2021
Homeसोशल ट्रेंडचुनाव जीतने के लिए पुलवामा, बिहार चुनाव के लिए गलवान: डीयू के प्रोफेसर देव...

चुनाव जीतने के लिए पुलवामा, बिहार चुनाव के लिए गलवान: डीयू के प्रोफेसर देव कुमार ने बलिदानी सैनिकों का उड़ाया मजाक

"केंद्रीय चुनाव जीतने के लिए पुलवामा किया गया। गलवान बिहार का चुनाव है। बिहार बटालियन को उभारा गया। झूलने वाले दोस्तों ने यह रचा। देश का भूभाग कब्जा करवाया। बिहार जीतना है। दोहन किया जाएगा। देखना है बिहारी जनता कैसे रिस्पॉन्स करती है?"

हमारे देश में एक पूरी जमात है जो सरकार के विरोध के नाम पर राष्ट्र के खिलाफ खड़ी हो जाती है। आम जनता की भावनाओं को कुचल कर अभिव्यक्ति की आजादी का हुंकार भरती है। अपने प्रोपेगेंडा में सैनिकों के बलिदान को घसीटकर उसका अपमान करती है।

ऐसे ही एक शख्स देव कुमार (Deo Kumar)। फेसबुक प्रोफाइल पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार देव कुमार दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) के राजधानी कॉलेज में सहायक प्रोफेसर हैं। एक फेसबुक पोस्ट में उन्होंने दावा किया है कि गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प बिहार चुनाव को ध्यान में रखकर में हुई है। बीते साल पुलवामा में हुए आतंकी हमलों को उन्होंने 2019 के आम चुनाव से जोड़ा है।

देव कुमार ने लिखा है, “केंद्रीय चुनाव जीतने के लिए पुलवामा किया गया। गलवान बिहार का चुनाव है। बिहार बटालियन को उभारा गया। झूलने वाले दोस्तों ने यह रचा। देश का भूभाग कब्जा करवाया। बिहार जीतना है। दोहन किया जाएगा। देखना है बिहारी जनता कैसे रिस्पॉन्स करती है?”

देव कुमार ने यह कॉमेंट ऐसे समय में किया है जब चीनी सै​निकों के धोखे से किए वार में भारत के 20 जवान बलिदान हुए हैं। 43 चीनी सैनिकों के मारे जाने की भी खबर है।

पुलवामा में हुई आतंकी घटना के साथ ही देव कुमार ने चीन के साथ हुई झड़प को जोड़ते हुए कहा है कि ये दोनों घटनाएँ केंद्र सरकार द्वारा चुनाव जीतने के लिए करवाई गईं और अब बिहार में आने वाले चुनाव के लिए यह करवाया गया है।

देव कुमार की फेसबुक टाइमलाइन तमाम ऐसे पोस्ट से भरी हुई है, जिनमें सत्ता ही नहीं बल्कि बहुसंख्यकों पर भी कटाक्ष किए गए हैं।

देव कुमार आजकल कोरोना संकट, जाति और पूँजी पर ‘ऑनलाइन ज्ञान’ भी दे रहे हैं –

वहीं एक पोस्ट में देव कुमार ने लिखा है – “फ़ासीवाद का उग्र रूप। अब भी किसी को डाउट है तो फिर उसकी समझ में कुछ गड़बड़ी है। #सॉलिसिटर जेनरल, सुप्रीम कोर्ट, लेफ्ट-लिबरल ,डेमोक्रेट्स और बहुजन तबके का दमन/जेल।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe