Friday, May 24, 2024
Homeसोशल ट्रेंडजुबैर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने वालों को मिलेगा बड़ा इनाम, अरबपति की घोषणा:...

जुबैर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने वालों को मिलेगा बड़ा इनाम, अरबपति की घोषणा: हिन्दू देवी-देवताओं के अपमान का मामला

मोहम्मद ज़ुबैर के पुराने पोस्टों यह पता चला है कि AltNews के सह-संस्थापक का स्वयं हिंदू धर्म और हिंदू देवताओं के बारे में अपमानजनक पोस्ट करने का इतिहास रहा है।

ट्विटर पर हिन्दू धर्म के समर्थन में बोलने वाले प्रमुख आवाजों में से एक भारतीय मूल के अरबपति व्यवसायी अरुण पुदुर ने ऑल्ट-न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर के खिलाफ उसके हिन्दूफोबिक विचारों और हिन्दुओं के खिलाफ चलाए जा रहे नैरेटिव से लड़ने के लिए पुरष्कारों की घोषणा की है। लड़ाई लड़ी है। पुदुर ने उन लोगों के लिए आर्थिक मदद की घोषणा की है जो जुबैर के खिलाफ उसके हिंदूफोबिक कार्यों के कारण कानूनी कार्रवाई करने के इच्छुक हैं।

पुदुर, जो एक सॉफ्टवेयर फर्म सेल्फ्रेम टेक्नोलॉजी ग्रुप ऑफ कंपनीज चलाते हैं, उन्होंने यह घोषणा ट्विटर पर की है। पुरस्कार के अनुसार, जो व्यक्ति जुबैर को हिंदूफोबिया का दोषी ठहराते हुए लम्बे समय तक जेल भेजेगा, उसे पुदुर की तरफ से ₹ ​​50,000 / – का पुरस्कार दिया जाएगा।

वहीं कानूनी कार्रवाई के माध्यम से जुबैर के लिए जेल की सजा का प्रावधान सुनिश्चित करने वालों को ₹10,000/- और मोहम्मद जुबैर और उसके ‘फैक्ट चेक’ पोर्टल ऑल्ट न्यूज़ के खिलाफ हर भारतीय राज्य और केंद्र शासित प्रदेश में दर्ज की गई पहली FIR के लिए ₹1,000/- मिलेंगे।

यह तब हुआ जब मोहम्मद जुबैर ने अपना फेसबुक अकाउंट डिलीट कर दिया। शायद हिंदू धर्म और हिंदू देवताओं के खिलाफ अपनी विवादास्पद सामग्री को हटाने के लिए। कई नेटिज़न्स के अनुसार जुबैर, नूपुर शर्मा विवाद के बीच हिंदू धर्म और हिंदू देवताओं का मजाक उड़ाते हुए उसके पुराने ट्वीट्स के ऑनलाइन सामने आने के बाद से गुस्से में है।

अरुण पुदुर द्वारा की गई घोषणा के अनुसार, मोहम्मद जुबैर के खिलाफ कार्रवाई कानूनी होनी चाहिए। अपनी घोषणा के बारे में बात करते हुए पुदुर लिखते हैं, “जुबैर ने लंबे समय से मीडिया का दुरुपयोग किया, झूठ बोला और हेरफेर किया। यह समय है कि वह अपने अपराधों की सजा भुगते। उसके झूठ की वजह से बहुत से लोग घायल हुए, दंगे हुए और मौतें हुईं, अब इसे रोकना होगा!”

बता दें कि मलेशिया के पुदुर ने मोहम्मद जुबैर के अपराधों पर, खासकर हिंदू धर्म के खिलाफ उसके द्वारा किए गए अपमानजनक सोशल मीडिया पोस्ट को गंभीरता से संज्ञान लेने का फैसला किया है। जुबैर के फेसबुक अकाउंट को डिलीट किए जाने के बाद लोग हिंदू देवी-देवताओं का मजाक उड़ाने वाले उसके पुराने ट्वीट्स खोज-खोज कर शेयर कर रहे हैं।

गौरतलब है कि नूपुर शर्मा पहले ही बता चुकी हैं कि कैसे जुबैर ने पैगंबर मोहम्मद पर उनकी टिप्पणियों का एडिटेड वीडियो साझा करके उनके खिलाफ ईशनिंदा का माहौल बनाया और उन्हें लगातार धमकी देने के लिए मुस्लिम उम्माह को उकसायाहै। जबकि अब खुद उसी के पुराने पोस्टों यह पता चला है कि AltNews के सह-संस्थापक का स्वयं हिंदू धर्म और हिंदू देवताओं के बारे में अपमानजनक पोस्ट करने का इतिहास रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा...

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा।

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -