Sunday, October 17, 2021
Homeसोशल ट्रेंडनाम: मीनू हांडा, कंपनी: गूगल (डायरेक्टर, कॉरपोरेट कम्युनिकेशन), काम: PM मोदी के खिलाफ घृणा...

नाम: मीनू हांडा, कंपनी: गूगल (डायरेक्टर, कॉरपोरेट कम्युनिकेशन), काम: PM मोदी के खिलाफ घृणा दिखाना

यह पहली बार नहीं है जब किसी कंपनी के किसी बड़े अधिकारी ने अपने राजनैतिक द्वेष का प्रदर्शन किया हो।

सोशल मीडिया पर गुरुवार (27 मई) को मीनू हांडा का एक पोस्ट वायरल होता रहा। इस पोस्ट में हांडा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक आपत्तिजनक ग्राफिक शेयर किया था। हांडा गूगल में कॉरपोरेट कम्युनिकेशन की डायरेक्टर बताई जा रही है।

यह पोस्ट सबसे पहले एलेन शॉ नाम के एक यूजर ने शेयर किया था। उसने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के लिए जारी नई गाइडलाइंस पर पीएम मोदी को निशाने पर लिया। शॉ ने लिखा, “डियर गवर्नमेंट, प्लीज एक पब्लिक टॉयलेट को अपने सिंहासन के साथ कन्फ्यूज मत करो।“

एलेन शॉ का पोस्ट (सोर्स : ट्विटर)

पोस्ट के वायरल होने के बाद मीनू हांडा ने अपना ट्विटर अकाउंट लॉक कर दिया। हालाँकि हांडा के सोशल मीडिया प्रोफाइल को जाँचने के बाद कई ऐसे पोस्ट मिले जिसमें पीएम मोदी और वर्तमान केंद्र सरकार के लिए आलोचना और घृणा ही दिखाई दी। इसके अलावा हांडा ने फेक न्यूज फैलाने वाले प्रशांत भूषण और कुणाल कामरा, लिबरल पत्रकार शेखर गुप्ता और कॉन्ग्रेस के नेताओं श्रीवत्स वाईबी और गौरव पाँधी जैसे लोगों के ट्वीट, रीट्वीट किए हैं।

प्रशांत भूषण का ट्वीट (सोर्स : ट्विटर)
कोविड केस के लिए मोदी को जिम्मेदार ठहराने वाला पोस्ट (सोर्स : ट्विटर)
(सोर्स : ट्विटर)
सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर मीनू हांडा की पोस्ट (सोर्स : ट्विटर)
(सोर्स : ट्विटर)
रिपब्लिक चैनल के अर्नब गोस्वामी पर आपत्तिजनक पोस्ट को हांडा द्वारा रीट्वीट किया जाना (सोर्स : ट्विटर)

हाल ही में हांडा ने राणा आयूब की एक पोस्ट को रीट्वीट किया जिसमें उमर खालिद का लिखा हुआ लेख था। खालिद फरवरी 2020 में हुए दिल्ली में हिन्दू विरोधी दंगों के आरोप में जेल में है। राणा आयूब, पीएम मोदी के खिलाफ लगातार प्रोपेगेंडा चलाने के लिए जानी जाती है।

राणा आयूब द्वारा शेयर किए गए उमर खालिद के लेख को हांडा द्वारा रीट्वीट किया जाना (सोर्स : ट्विटर)

बड़ी कंपनियों के उच्च अधिकारियों का राजनैतिक द्वेष

यह पहली बार नहीं है जब किसी कंपनी के किसी बड़े अधिकारी ने अपने राजनैतिक द्वेष का प्रदर्शन किया हो। 2018 में ट्विटर इंडिया की पॉलिसी हेड महिमा कौल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट शेयर किए थे। जून 2020 में फेसबुक ने सिद्धार्थ मजूमदार को पॉलिसी हेड के तौर पर नियुक्त किया। मजूमदार का ट्विटर अकाउंट पीएम मोदी के लिए घृणा वाले पोस्ट से भरा हुआ था। इसके अलावा मजूमदार ने केन्द्रीय मंत्रियों की पोस्ट पर भी अस्वीकार्य भाषा में कमेन्ट किए थे।

अगस्त 2020 में यह सामने आया था कि फेसबुक की कर्मचारी विजया मूर्ति मोदी विरोधी और कॉन्ग्रेस पार्टी की एक समर्पित फॉलोवर हैं। मूर्ति की लिंक्डइन प्रोफाइल में पोस्ट के तौर पर फेसबुक इंडिया में पॉलिसी मैनेजर लिखा हुआ था। इसके अलावा फेसबुक इंडिया के पूर्व पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर अँखी दास, जिन्हें विपक्ष ने भाजपा का एजेंट कहा था, टीएमसी की ममता बनर्जी और आम आदमी पार्टी के लिए अपना खुला समर्थन जाहिर कर चुके हैं।  

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में दुर्गा विसर्जन से लौट रहे श्रद्धालुओं पर बम से हमला, कई घायल, पुलिस ने कहा – ‘हमलावरों की अभी तक पहचान...

हमलावर मौके से फरार हो गए। सूचना पाकर पहुँची पुलिस ने लोगों की भीड़ को हटाकर मामला शांत किया और घायलों को अस्पताल भेजा।

राहुल गाँधी सहित सभी कॉन्ग्रेसियों ने दम भर खाया, 2 साल से नहीं दे रहे 35 लाख रुपए: कैटरिंग मालिक ने दी आत्महत्या की...

कैटरिंग मालिक खंडेलवाल का आरोप है कि उन्हें 71 लाख रुपए का ठेका दिया गया था। 36 लाख रुपए का भुगतान कर दिया गया है जबकि 35 लाख रुपए...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe