Friday, May 29, 2020
होम सोशल ट्रेंड 'लीगल एक्सपर्ट' जावेद अख्तर की बोलती बंद, जामिया पर IPS अधिकारी ने पूछा- हमें...

‘लीगल एक्सपर्ट’ जावेद अख्तर की बोलती बंद, जामिया पर IPS अधिकारी ने पूछा- हमें भी बताएँ एक्ट

“प्रिय लीगल एक्सपर्ट, प्लीज लॉ ऑफ लैंड, सेक्शन नंबर और ऐक्ट आदि के नाम को थोड़ा विस्तार से समझाएँ ताकि हम भी इसके बारे में अच्छे से जान सकें।”

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जामिया मिलिया इस्लामिया में हिंसक प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शनकारियों ने चार सरकारी बसों को आग लगा दी गई और सौ से अधिक निजी वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ी। इस पर वामपंथी बुद्धिजीवी जावेद अख्तर ने प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए पुलिस के यूनिवर्सिटी में प्रवेश करने पर सवाल उठाया है। उनका कहना है कि पुलिस ने बिना अनुमति के यूनिवर्सिटी कैंपस के अंदर घुसकर ‘लॉ ऑफ लैंड’ का उल्लंघन किया है।

दरअसल, जामिया में प्रदर्शन को कवर करते वक्त एक हिंदी चैनल के महिला पत्रकार के साथ बदसलूकी की गई। एक यूजर ने ABP न्यूज की महिला पत्रकार के साथ छात्रों की बदतमीजी का वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया। इस विडियो में यूजर ने जावेद अख्तर समेत अन्य कुछ लोगों को टैग करते हुए लिखा, “जामिया के छात्र उस मीडिया पर अटैक कर रहे हैं, जो उन्हें उनके द्वारा किए जा रहे शांतिपूर्ण विरोध का आईना दिखा रहे हैं। लेकिन ऐंटी-नेशनल और सेक्युलर लोग इसकी निंदा नहीं करेंगे। ये शहरी आतंकवादी हैं।”

इसका जवाब देते हुए जावेद अख्तर ने ट्वीट किया, “लॉ ऑफ लैंड के मुताबिक, किसी भी परिस्थिति में पुलिस किसी भी यूनिवर्सिटी के कैंपस में यूनिवर्सिटी के अधिकारियों की इजाजत के बिना नहीं घुस सकती। जामिया कैंपस में बिना इजाजत घुसकर पुलिस ने एक ऐसी मिसाल कायम की है जो हर यूनिवर्सिटी के लिए एक खतरा है।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जावेद अख्तर के इस ट्वीट पर आईपीएस अधिकारी संदीप मित्तल ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए पूछा कि वो पुलिस के जिस लैंड ऑफ लॉ के बारे में बात करते हुए कह रहे हैं कि पुलिस ने कैंपस के अंदर घुसकर कानून का उल्लंघन किया है। वो जरा उस लैंड ऑफ लॉ, उस सेक्शन और उस ऐक्ट के बारे में बताएँ। उन्होंने जावेद अख्तर को ‘लीगल एक्सपर्ट’ कहकर तंज कसते हुए ट्वीट किया, “प्रिय लीगल एक्सपर्ट, प्लीज लॉ ऑफ लैंड, सेक्शन नंबर और ऐक्ट आदि के नाम को थोड़ा विस्तार से समझाएँ ताकि हम भी इसके बारे में अच्छे से जान सकें।”

आईपीएस अधिकारी के इस ट्वीट के बाद जावेद अख्तर ने चुप्पी साध ली। इस ट्वीट पर उनका कोई जवाब नहीं आया। वैसे जावेद अख्तर का ट्वीट करना कई सोशल मीडिया यूजर को रास नहीं आया और उन्होंने उन्हें ट्रोल कर दिया। एक यूजर ने लिखा, “सर तो शायर हैं, उन्हें कानून वानून का कहाँ पता होगा… व्हाट्सऐप पे आया होगा, कॉपी कर के चिपका दिए।”

एक ने लिखा, “जावेद साहब लॉ की जानकारी बराबर रखना मँह से थूकने जितना सरल नहीं है।”

एक ट्विटर यूजर ने लिखा, “चचा जिहादी बसों में आग लगाते रहें, सड़कों को जाम कर दें, ईंट-पत्थर फेकें, पुलिस चुपचाप शान्ति से देखे और फूल बरसाएँ ये चाहते हो।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके अलावा एक अन्य यूजर ने लिखा, “क्या आप कहना चाहते हैं कि यदि कोई व्यक्ति किसी को मारकर परिसर या मस्जिद के अंदर छिप जाता है, तो पुलिस बिना अनुमति के अंदर प्रवेश नहीं कर सकती है?”

BHU छात्रों को कलंक, करणी सेना को आतंकी कहने वाले फरहान अख्तर इस्लामी मजहबी उन्माद पर मौन

कैसे मंज़र सामने आने लगे हैं, गाते-गाते लोग चिल्लाने लगे हैं: BJP को ट्रोल करने वाले जावेद अख़्तर को समर्पित पंक्तियाँ

हिन्दुओं को भला-बुरा कह ‘कूल’ बनीं शबाना: बड़े मियाँ तो बड़े मियाँ, दूसरी बीवी सुभान अल्लाह

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

चीन से सीमा विवाद पर ‘अच्छे मूड’ में नहीं हैं पीएम मोदी, ट्रम्प ने बातचीत में की मदद की पेशकश

भारत-चीन सीमा विवाद पर मध्यस्थता की पेशकश के बाद अब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का बड़ा बयान आया है। ट्रंप ने मध्यस्थता के अपने ऑफर को दोहराते हुए कहा है कि भारत- चीन सीमा विवाद को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी का 'मूड ठीक नहीं' है।

इस्कॉन-भक्तों को ‘हरामी पोर्न वाले’ कहने पर कॉमेडियन सुरलीन कौर, शेमारू के खिलाफ शिकायत दर्ज

इस्कॉन ने अभिनेत्री और स्टैंड-अप कॉमेडियन सुरलीन कौर और मनोरंजन कंपनी शेमारू (Shemaroo) के खिलाफ संगठन और हिंदुओं के अपमान करने के की शिकायत दर्ज कराई है।

राम मंदिर निर्माण से क्यों सुलगे लिबरल, श्रमिक ट्रेन में मौतों पर प्रपंच क्यों: हर सवाल का जवाब दे रहे अजीत भारती

जब हर कोई कोरोना से मुक्ति के उपाय तलाश रहा है, लिब्रांडुओं का गिरोह फेक न्यूज फैलाने की अपनी जिम्मेदारियों से बाज नहीं आ रहा। उनकी धूर्तता का धागा खोलता अजीत भारती का वीडियो।

Covid-19: भारत में अब तक 158333 संक्रमित, दिल्ली में 24 घंटों में 1024 नए मामले

देश में कोरोना मामलों की संख्या 1,58,333 हो गई। इनमें से 86,110 केस वर्तमान में एक्टिव हैं। 67,691 लोग स्वस्थ हो चुके हैं।

इस बार NDTV ने आतंकी को बताया ‘ड्राइवर’, 40 किलो विस्फोटक के साथ कार लेकर आया था पुलवामा

आतंकियों के लिए इंडियन इंजीनियर, टीचर जैसे शब्दों का इस्तेमाल करने वाले एनडीटीवी ने अपना ट्रैक रिकॉर्ड बरकरार रखा है।

…जब सावरकर ने लेनिन को लंदन में 3 दिन के लिए दी थी शरण

वीर सावरकर ने एक बार लंदन में लेनिन को 3 दिन तक शरण दी थी। कम्युनिस्ट यह स्वीकार नहीं कर पाते कि सावरकर को कई प्रमुख वामपंथियों ने वीर कहने का साहस किया था।

प्रचलित ख़बरें

‘पिंजरा तोड़’: वामपंथनों का गिरोह जिसकी भूमिका दिल्ली दंगों में है; ऐसे बर्बाद किया DU कैम्पस, जानिए सब कुछ

'पिंजरा तोड़' वामपंथी विचारधारा की विष-बेल बन दिल्ली यूनिवर्सिटी को बर्बाद कर रही है। दंगों में भी पुलिस ने इनकी भूमिका बताई है, क्योंकि दंगों की तैयारी के दौरान इनके सदस्य उन इलाकों में होते थे।

‘पूरी डायन हो, तुझे आत्महत्या कर लेनी चाहिए’: रुबिका लियाकत की ईद वाली फोटो पर टूट पड़े इस्लामी कट्टरपंथी

रुबिका लियाकत ने पीले परिधान वाली अपनी फोटो ट्वीट करते हुए ईद की मुबारकबाद दी। इसके बाद कट्टरपंथियों की पूरी फौज उन पर टूट पड़ी।

‘हम पाकिस्तानी, पाकिस्तान का हिस्सा हो कश्मीर’: AMU के शाकिब और शेख ने किया देश विरोधी पोस्ट, FIR

AMU के दो छात्रों पर देश विरोधी पोस्ट करने को लेकर एफआईआर दर्ज कराई गई है। इनके नाम शाकिब रसूल भट्ट और शेख अरफात हैं।

‘नीच’ कॉन्ग्रेस ने लड़की के साथ मोदी की तस्वीर लगाई, लिखा ऐशो-आराम की ज़िंदगी में मस्त… जानिए सच

कॉन्ग्रेस ने PM मोदी की उस तस्वीर का इस्तेमाल किया है, जो अप्रैल 2016 में मैडम तुसाद म्यूजियम में उनकी वैक्स प्रतिमा के लिए ली गई थी।

जब अंग्रेज सावरकर को कोल्हू में बैल की जगह जोतते थे, जब गाँधी अफ्रीका से भारत लौटे भी नहीं थे: कहानी कालापानी की

उनसे छिलके कूटवाए जाते। कोल्हू का बैल बना कर दिन भर जोता जाता। उन्हें रस्सी बाँटने का काम दिया जाता। प्रताड़ना ऐसी कि आत्महत्या के ख्याल आते।

हमसे जुड़ें

208,969FansLike
60,614FollowersFollow
243,000SubscribersSubscribe
Advertisements