Tuesday, May 21, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'लीगल एक्सपर्ट' जावेद अख्तर की बोलती बंद, जामिया पर IPS अधिकारी ने पूछा- हमें...

‘लीगल एक्सपर्ट’ जावेद अख्तर की बोलती बंद, जामिया पर IPS अधिकारी ने पूछा- हमें भी बताएँ एक्ट

“प्रिय लीगल एक्सपर्ट, प्लीज लॉ ऑफ लैंड, सेक्शन नंबर और ऐक्ट आदि के नाम को थोड़ा विस्तार से समझाएँ ताकि हम भी इसके बारे में अच्छे से जान सकें।”

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जामिया मिलिया इस्लामिया में हिंसक प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शनकारियों ने चार सरकारी बसों को आग लगा दी गई और सौ से अधिक निजी वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ी। इस पर वामपंथी बुद्धिजीवी जावेद अख्तर ने प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए पुलिस के यूनिवर्सिटी में प्रवेश करने पर सवाल उठाया है। उनका कहना है कि पुलिस ने बिना अनुमति के यूनिवर्सिटी कैंपस के अंदर घुसकर ‘लॉ ऑफ लैंड’ का उल्लंघन किया है।

दरअसल, जामिया में प्रदर्शन को कवर करते वक्त एक हिंदी चैनल के महिला पत्रकार के साथ बदसलूकी की गई। एक यूजर ने ABP न्यूज की महिला पत्रकार के साथ छात्रों की बदतमीजी का वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया। इस विडियो में यूजर ने जावेद अख्तर समेत अन्य कुछ लोगों को टैग करते हुए लिखा, “जामिया के छात्र उस मीडिया पर अटैक कर रहे हैं, जो उन्हें उनके द्वारा किए जा रहे शांतिपूर्ण विरोध का आईना दिखा रहे हैं। लेकिन ऐंटी-नेशनल और सेक्युलर लोग इसकी निंदा नहीं करेंगे। ये शहरी आतंकवादी हैं।”

इसका जवाब देते हुए जावेद अख्तर ने ट्वीट किया, “लॉ ऑफ लैंड के मुताबिक, किसी भी परिस्थिति में पुलिस किसी भी यूनिवर्सिटी के कैंपस में यूनिवर्सिटी के अधिकारियों की इजाजत के बिना नहीं घुस सकती। जामिया कैंपस में बिना इजाजत घुसकर पुलिस ने एक ऐसी मिसाल कायम की है जो हर यूनिवर्सिटी के लिए एक खतरा है।”

जावेद अख्तर के इस ट्वीट पर आईपीएस अधिकारी संदीप मित्तल ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए पूछा कि वो पुलिस के जिस लैंड ऑफ लॉ के बारे में बात करते हुए कह रहे हैं कि पुलिस ने कैंपस के अंदर घुसकर कानून का उल्लंघन किया है। वो जरा उस लैंड ऑफ लॉ, उस सेक्शन और उस ऐक्ट के बारे में बताएँ। उन्होंने जावेद अख्तर को ‘लीगल एक्सपर्ट’ कहकर तंज कसते हुए ट्वीट किया, “प्रिय लीगल एक्सपर्ट, प्लीज लॉ ऑफ लैंड, सेक्शन नंबर और ऐक्ट आदि के नाम को थोड़ा विस्तार से समझाएँ ताकि हम भी इसके बारे में अच्छे से जान सकें।”

आईपीएस अधिकारी के इस ट्वीट के बाद जावेद अख्तर ने चुप्पी साध ली। इस ट्वीट पर उनका कोई जवाब नहीं आया। वैसे जावेद अख्तर का ट्वीट करना कई सोशल मीडिया यूजर को रास नहीं आया और उन्होंने उन्हें ट्रोल कर दिया। एक यूजर ने लिखा, “सर तो शायर हैं, उन्हें कानून वानून का कहाँ पता होगा… व्हाट्सऐप पे आया होगा, कॉपी कर के चिपका दिए।”

एक ने लिखा, “जावेद साहब लॉ की जानकारी बराबर रखना मँह से थूकने जितना सरल नहीं है।”

एक ट्विटर यूजर ने लिखा, “चचा जिहादी बसों में आग लगाते रहें, सड़कों को जाम कर दें, ईंट-पत्थर फेकें, पुलिस चुपचाप शान्ति से देखे और फूल बरसाएँ ये चाहते हो।”

इसके अलावा एक अन्य यूजर ने लिखा, “क्या आप कहना चाहते हैं कि यदि कोई व्यक्ति किसी को मारकर परिसर या मस्जिद के अंदर छिप जाता है, तो पुलिस बिना अनुमति के अंदर प्रवेश नहीं कर सकती है?”

BHU छात्रों को कलंक, करणी सेना को आतंकी कहने वाले फरहान अख्तर इस्लामी मजहबी उन्माद पर मौन

कैसे मंज़र सामने आने लगे हैं, गाते-गाते लोग चिल्लाने लगे हैं: BJP को ट्रोल करने वाले जावेद अख़्तर को समर्पित पंक्तियाँ

हिन्दुओं को भला-बुरा कह ‘कूल’ बनीं शबाना: बड़े मियाँ तो बड़े मियाँ, दूसरी बीवी सुभान अल्लाह

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों का कहर जारी: हिंदुओं और बौद्धों के जलाए गए 5000 घर, आँखों के सामने सब कुछ लूटा

म्यांमार में सैन्य नेतृत्व वाले जुंटा और जातीय विद्रोही समूहों के बीच चल रही झड़पों से पैदा हुए तनाव में हिंदुओं और बौद्धों के 5000 घरों को जला दिया गया।

कॉन्ग्रेस और उसके साथियों ने पीढ़ियाँ बर्बाद की, अम्बेडकर नहीं होते तो नेहरू नहीं देते SC/ST को आरक्षण: चम्पारण में बोले पीएम मोदी

पीएम मोदी ने बिहार के चम्पारण में एक रैली को संबोधित किया। यहाँ उन्होंने राजद के जंगलराज और कॉन्ग्रेस पर विकास ना करने को लेकर हमला बोला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -