Monday, March 1, 2021
Home सोशल ट्रेंड कोर्ट में राम मंदिर के खिलाफ बिना जानकारी के दिए बयान: वामपंथी 'इतिहासकारों' ने...

कोर्ट में राम मंदिर के खिलाफ बिना जानकारी के दिए बयान: वामपंथी ‘इतिहासकारों’ ने स्वीकारा

JNU की प्रोफेसर सुवीरा जायसवाल ने स्वीकार किया कि वो बाबरी मस्जिद के बारे में कुछ नहीं जानती थीं। इस मुद्दे पर उन्हें जो भी जानकारी थी वह मीडिया रिपोर्ट्स और ‘हिस्टोरियंस रिपोर्ट टू द नेशन’ से मिली थी, जिसे SupremeCourt ने पूरी तरह से ख़ारिज कर दिया था......

सदियों बाद अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फ़ैसला आया जिसका सभी ने स्वागत किया। फ़ैसले के साथ ही राम जन्मभूमि पर एक भव्य राम मंदिर के निर्माण का रास्ता भी साफ़ हो गया। लेकिन इस फ़ैसले के बाद, वामपंथी, इतिहासकारों, प्रोफेसरों के ऐसे कई बयान और शपथपत्र सामने आए हैं जो इन्होंने इलाहबाद हाईकोर्ट में दिए थे, ये इनके ज्ञान और कहीं न कहीं इनकी द्वारा शिक्षित छात्रों की भयावह तस्वीर उजागर करती है। वैसे इन सबने सोशल मीडिया पर भी इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपना दु:ख व्यक्त किया है।

ट्विटर यूजर @PeeliHaldi ने ट्विटर पर, वामपंथी इतिहासकारों द्वारा पेश किए गए कुछ हास्यास्पद प्रमाणों का उल्लेख किया। 

जेएनयू की एक प्रोफेसर सुवीरा जायसवाल ने स्वीकार किया कि वो बाबरी मस्जिद के बारे में कुछ नहीं जानती थीं। जब वह अस्तित्व में आई तो उसे यह नहीं पता था कि इस मुद्दे पर उन्हें जो भी जानकारी थी वह मीडिया रिपोर्ट्स और ‘हिस्टोरियंस रिपोर्ट टू द नेशन’ से मिली थी, जिसे अदालती कार्यवाही के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पूरी तरह से ख़ारिज कर दिया था। 

एक अन्य इतिहासकार एससी मिश्रा ने कोर्ट में कहा था कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि जज़िया क्या था। उन्होंने कहा, ”मुझे याद नहीं है कि जज़िया केवल हिन्दुओं पर लगाया गया था।” इसके आगे उन्होंने कहा, “मैंने बाबरी मस्जिद के निर्माण के बारे में कई किताबें पढ़ी हैं, लेकिन मुझे इस वक़्त किसी किताब का नाम याद नहीं है।”

Ram Mandir

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पीएचडी डिग्रीधारी सुशील श्रीवास्तव ने निष्कर्ष निकाला कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि मस्जिद किसी मंदिर को ध्वस्त करने के बाद बनाई गई थी, भले ही वह फारसी पढ़ या लिख ​​नहीं सकते थे, अरबी नहीं पढ़ सकते थे और संस्कृत का भी ज्ञान उन्हें नहीं था। इसके लिए उन्होंने अपने ससुर एसआर फारूकी की मदद ली थी।

अगर यह सब विचित्र नहीं था, तो इसके आगे उन्होंने जो कहा उसे पढ़िए, “मुझे एपिग्राफी का कोई ज्ञान नहीं है। मुझे न्यूमिज़माटिक का कोई ज्ञान नहीं है। मैंने पुरातत्व में कोई विशेषज्ञता हासिल नहीं की। मैंने भूमि के सर्वेक्षण के बारे में कोई ज्ञान हासिल नहीं किया…”

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में एक सेवानिवृत्त प्रोफेसर सूरज भान ने भी श्रीवास्तव के बारे में बहुत कुछ कहा। उनका मानना ​​है कि रामायण मूल रूप से तुलसी दास द्वारा लिखी गई थी। एक इतिहासकार के रूप में दिल्ली विश्वविद्यालय के आरसी ठकरान ने “समाचार पत्रों और पत्रिकाओं को ज्ञान का स्रोत माना” और स्वीकार किया कि उन्होंने “इस संबंध में किसी इतिहासकार द्वारा एक पुस्तक नहीं पढ़ी।” ठकरान ने खुद को एक ‘फील्ड पुरातत्वविद्’ की बजाए ‘टेबल पुरातत्वविद्’ के रूप में वर्णित किया। ।

Ram Mandir

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त प्रोफेसर डी मंडल ने कहा था, “मैं कभी अयोध्या नहीं गया। मुझे बाबर के के इतिहास का कोई विशेष ज्ञान नहीं है।” उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि उन्हें ‘यज्ञ’ या ‘वेद’ का अर्थ नहीं पता था। शायद इसकी जानकारी उन्हें JNU की पीएचडी (हैदराबाद विश्वविद्यालय) होल्डर सुप्रिया वर्मा से मिली।

सुप्रिया वर्मा के मुताबिक, “यह कहना ग़लत है कि ‘यक्ष’ या ‘यक्षी’ का संबंध केवल हिन्दू धर्मशास्त्र तक सीमित है। वास्तव में, यह बौद्ध धर्म से भी जुड़ा हुआ है।” इसके बाद, अपने शब्दों का रुख़ मोड़ते हुए उन्होंने कहा, “मैं यह नहीं कह सकती कि ‘यक्ष’ या ‘यक्षी’ शब्द बौद्ध धर्म की किस धार्मिक पुस्तक में उल्लेखित है।”

ग़ौर करने वाली बात यह है कि ये वो इतिहासकार हैं जिन्होंने राम मंदिर मामले पर अपना वामपंथी प्रोपेगेंडा फैलाने का काम किया। कोर्ट में दिए गए इनके बयानों से लोगों के भरोसे को ठेस पहुँचेगी और साथ ही इससे हमारे देश की शिक्षा प्रणाली के प्रति लोगों का विश्वास भी कम होगा। यह विश्वास करना लगभग मुश्किल है कि इस तरह के बयान शपथ के तहत एक संतुलित दिमाग वाले लोगों द्वारा दिए गए थे।

इससे भी अधिक चिंता का विषय यह है कि इन लोगों ने उन छात्रों को भी शिक्षित किया जो भविष्य में सैकड़ों लोगों को शिक्षित करेंगे। यह हमारी शिक्षा की स्थिति की एक भयानक तस्वीर को उजागर करता है। इससे यह बात भी स्पष्ट हो जाती है कि वर्तमान सरकार को प्राथमिकता के आधार पर छात्रों को पढ़ाए जाने वाले इतिहास के पाठ्यक्रम में संशोधन की आवश्यकता क्यों है?

* इस रिपोर्ट में उपयोग की गई सभी तस्वीरों को @PeeliHaldi से लिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसे लगेगा वैक्सीन, कहाँ कराएँ रजिस्ट्रेशन, कितने रुपए होंगे खर्च… 9 सवाल और उसके जवाब से जानें हर एक बात

कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण 1 मार्च 2021 के साथ शुरू हो गया है। दूसरे फेज में 60 साल से ज्यादा और गंभीर रोग से ग्रस्त लोगों को...

केरल में कॉन्ग्रेस ने मुस्लिम वोटरों पर लगाया बड़ा दाँव, मुस्लिम लीग को दे दी 26 सीटें

केरल में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कॉन्ग्रेस ने 'इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML)' के साथ सीट शेयरिंग फॉर्मूला फाइनल कर लिया है।

’50 करोड़ भारतीय मर जाए’ – यह दुआ करने वाले मौलाना को कॉन्ग्रेस-लेफ्ट गठबंधन में 30 सीटें, फिर भी दरार!

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले वामदलों, कॉन्ग्रेस और मौलाना अब्बास सिद्दीकी के ISF के बीच हुए गठबंधन में दरार दिख रही है।

असम का गमछा, पुडुचेरी की नर्स: PM मोदी ने हँसते-हँसते ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

अब जब आम लोगों को कोरोना के खिलाफ बनी वैक्सीन लगनी शुरू हो गई है, पीएम नरेंद्र मोदी ने मार्च 2021 के पहले ही दिन कोरोना वैक्सीन की डोज ली।

यूपी में सभी को दी जाएगी एक यूनिक हेल्थ आईडी, शहरों में हजारों गरीबों को घर देने की तैयारी में योगी सरकार

जल्द व बेहतर इलाज उपलब्ध कराने के लिए उत्तर प्रदेश के सभी लोगों के स्वास्थ्य का इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड तैयार किया जाएगा। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन (एनडीएचएम) के अंतर्गत प्रदेश सरकार ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है।

सोनिया को राहुल बाबा को PM बनाने की चिंता, स्टालिन को उधयनिधि को CM- 2जी, 3जी, 4जी सब तमिलनाडु में: अमित शाह

गृह मंत्री ने कहा कि सोनिया गाँधी को राहुल बाबा को प्रधानमंत्री बनाने की चिंता है और स्टालिन जी को उधयनिधि को मुख्यमंत्री बनाने की चिंता है। इन्हें ना देश की चिंता है और ना तमिलनाडु की, उनको बस अपने परिवार की चिंता है।

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।

पत्थर चलाए, आग लगाई… नेताओं ने भी उगला जहर… राम मंदिर के लिए लक्ष्य से 1000+ करोड़ रुपए ज्यादा मिला समर्पण

44 दिन तक चलने वाले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान से कुल 1100 करोड़ रुपए आने की उम्मीद की गई थी, आ गए 2100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा।

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

असम-पुडुचेरी में BJP की सरकार, बंगाल में 5% वोट से बिगड़ रही बात: ABP-C Voter का ओपिनियन पोल

एबीपी न्यूज और सी-वोटर ओपिनियन पोल के सर्वे की मानें तो पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी की सरकार बनती दिख रही है।

‘मैं राम मंदिर पर मू$%गा भी नहीं’: कॉन्ग्रेस नेता राजाराम वर्मा ने की अभद्र टिप्पणी, UP पुलिस ने दर्ज किया मामला

खुद को कॉन्ग्रेस का पदाधिकारी बताने वाले राजाराम वर्मा ने सोशल मीडिया पर अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर को लेकर अभद्र टिप्पणी की है।

माँ बन गई ईसाई… गुस्से में 14 साल के बेटे ने दी जान: लाश के साथ ‘जीसस के चमत्कार’ की प्रार्थना

झारखंड के चतरा स्थित पन्नाटांड़ में एक किशोर ने कुएँ में कूद कर आत्महत्या कर ली क्योंकि वो अपने माँ के ईसाई धर्मांतरण से दुःखी था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe