Saturday, July 20, 2024
Homeसोशल ट्रेंड28 बीवी, 135 बच्चे, 126 पोते-पोतियों के सामने 37वीं बार निकाह: Video वायरल

28 बीवी, 135 बच्चे, 126 पोते-पोतियों के सामने 37वीं बार निकाह: Video वायरल

इससे पहले, ताइवान के एक व्यक्ति ने एक ही महिला से चार बार शादी की और 37 दिनों की अवधि में उसे तीन बार तलाक दिया था।

हमने राजा-महाराजाओं की कई शादियों के किस्से सुने हैं। हालाँकि, आज के वैज्ञानिक युग में कई ऐसे समाज हैं जहाँ बहुविवाह प्रचलित है। लेकिन यह 2-4 शादियों तक ही सीमित हैं। आधुनिक एवं सभ्य समाज इन्हें सहर्ष स्वीकार नहीं करता। लेकिन, इसी वैज्ञानिक युग में कोई व्यक्ति 37वीं शादी करे तो आश्चर्यचकित होना लाजमी है।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि एक बुजुर्ग 37वीं शादी कर रहा है। बुजुर्ग की इस शादी में उसकी 28 पत्नियाँ, 135 बच्चे और 126 पोते-पोतियाँ भी शामिल हैं।

45 सेकंड की इस क्लिप को IPS अधिकारी रूपिन शर्मा ने ट्विटर पर साझा किया है। कैप्शन में शर्मा ने लिखा है, “सबसे बहादुर आदमी… जीवित। 28 पत्नियों, 135 बच्चों और 126 पोते-पोतियों के सामने 37वीं शादी।”

रिपोर्ट के अनुसार, यह स्पष्ट नहीं है कि यह वीडियो कब और कहाँ शूट किया गया है। इस वीडियो पर कई यूजर ने कमेंट किए हैं। एक ने लिखा है, “क्या खूब किस्मत है, यहाँ एक ही सँभालना मुश्किल है।” एक अन्य यूजर ने लिखा, “अभी तक एक शादी भी नई करने का हिम्मत है, ये 37वाँ वाह।” एक अन्य ने कहा है, “सिंगल तो देख कर RIP हो जाएँगे।”

इससे पहले, ताइवान के एक व्यक्ति ने एक ही महिला से चार बार शादी की और 37 दिनों की अवधि में उसे तीन बार तलाक दिया। ताइपे के इस बैंक क्लर्क की शादी पिछले साल 6 अप्रैल को हुई थी। शादी की छुट्टी खत्म हो जाने के बाद उसने अपनी पत्नी को तलाक दे दिया और अगले दिन फिर उससे शादी कर ली, ताकि उसे छुट्टी मिल सके। इस तरह, वह कुल 32 दिनों में चार बार शादी करने में कामयाब रहा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -