Thursday, August 5, 2021
Homeसोशल ट्रेंडअमूल ने जारी किया चीनी सामान के बहिष्कार का पोस्टर: ट्विटर ने अमूल का...

अमूल ने जारी किया चीनी सामान के बहिष्कार का पोस्टर: ट्विटर ने अमूल का ट्विटर एकाउंट किया सस्पेंड

चीन ने ट्विटर जैसे कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, सर्च इंजन और अन्य प्रमुख वेबसाइटों पर अपने देश में प्रतिबंध लगा रखा है, लेकिन इसके बाद भी चीन के खिलाफ एक ट्वीट के करने पर अमूल के ट्विटर एकाउंट को सस्पेंड कर दिया गया।

लद्दाख सीमा पर चल रहे तनाव को ध्यान में रखते हुए अमूल इंडस्ट्रीज ने सोशल मीडिया के माध्यम से चीनी सामान का बहिष्कार करने का एक पोस्टर जारी किया, जैसा कि अक्सर समसामयिक मुद्दों पर तंजिया विज्ञापन जारी करता रहता है। यही बात ट्विटर को इतनी नागवार लगी कि उसने अमूल के आधिकारिक ट्विटर एकाउंट को बिना किसी पूर्व सूचना के सस्पेंड कर दिया।

दरअसल, 3 जून, 2020 को अमूल की ओर से ट्विटर पर शेयर किए गए पोस्टर में एक लड़की चीनी समान का बहिष्कार करने का संदेश दे रही है, जिस पर लिखा था, “एग्जिट द ड्रैगन”

इसके एक दिन बाद ट्विटर ने अमूल के आधिकारिक ट्विटर एकाउंट को बिना किसी सूचना के निष्क्रीय कर दिया। इसकी जानकारी जैसे ही यूजर्स को हुई उन्होंने तत्काल ट्विटर को अपने निशाने पर ले लिया।

यहाँ यह ध्यान देने वाली बात है कि चीन ने ट्विटर जैसे कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, सर्च इंजन और अन्य प्रमुख वेबसाइटों पर अपने देश में प्रतिबंध लगा रखा है, लेकिन इसके बाद भी चीन के खिलाफ एक ट्वीट के करने पर अमूल के ट्विटर एकाउंट को सस्पेंड कर दिया गया।

अमूल प्रबंधन की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया कि हमने पूरे मामले को देखा है और अकाउंट सस्पेंड करने के कारणों को जानने की माँग की है, क्योंकि हमारे ट्विटर फॉलोवर्स हमारे ट्वीट्स को नहीं देख पा रहे थे। इसके बाद वे अमूल के समर्थन में सामने आए और ट्विटर के इस व्यवहार पर अपनी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि हमने ट्विटर से इस कार्रवाई के कारणों को जानने की कोशिश की। उन्होंने अपने बयान में आगे कहा कि अमूल बटर गर्ल न किसी का अहसान लेती है न किसी का पक्ष लेती है और न ही किसी से डरती है। वह देश का मूड बताती है।

इसके आगे प्रबंधन ने कहा कि अमूल दुनिया भर के समसामयिक मामलों जैसे प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के चुनाव, ब्रेक्सिट, कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन, स्पोर्ट्स इवेंट, पहली बार 1987 और 1989 में रामायण और महाभारत का प्रसारण के अलावा 1976 में भारत में लगाए गए आपातकाल पर पोस्टर प्रकाशित करता आया है।

लद्दाख की सीमा पर भारत-चीन का गतिरोध जारी

इसके अलावा देश के सबसे बड़े पैकेज्ड मिल्क सप्लायर होने के नाते अमूल सामयिक घटनाओं पर इस तरह के पोस्टर जारी करके देश के मूड को बताता है। वहीं चीनी सैनिकों और भारतीय सेनाओं के बीच लद्दाख में सीमा पर LAC पर गतिरोध के बाद दक्षिण-पूर्व एशियाई पड़ोसियों के बीच बढ़ते तनाव के बीच अमूल के ट्विटर अकाउंट को सस्पेंड करना एक बड़ी बात है।

भारतीयों की चीन विरोधी भावनाएँ उग्र हैं। क्योंकि चीन के कोरोनो वायरस के संकट ने भारत की अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया है। इस बीच भारत के लद्दाख क्षेत्र में चीनी घुसपैठ ने भी लोगों की भावनाओं को और उग्र कर दिया है। क्या ट्विटर चीन का विरोध करने वाले ट्विटर एकाउंट को निलंबित करके उनकी भावनाओं को दबाने की कोशिश कर रहा है। ट्विटर इंडिया को सामने आना चाहिए और भारतीयों को फिर से आश्वस्त करना चाहिए कि यह एक ऐसा संगठन नहीं है जिसके तार चीन द्वारा खींचे जा सकते हैं।

अमूल का ट्विटर एकाउंट निलंबित करने पर ट्विटर ने दी सफाई

ट्विटर ने अमूल के आधिकारिक अकाउंट के अस्थायी रुप से निलंबित किए जाने पर एक स्पष्टीकरण जारी किया है।

अमूल के प्रबंध निदेशक आर एस सोढ़ी ने ट्विटर पर जानकारी देते हुए कहा कि ट्विटर इंडिया के एमडी मनीष माहेश्वरी से बातचीत की है जिन्होंने यह दावा करते हुए एक स्पष्टीकरण जारी किया है कि अमूल का अकाउंट तकनीकी कारणों से अवरुद्ध हो गया था और इसका प्रकाशित सामग्री से कोई संबंध नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe