Thursday, August 5, 2021
Homeवीडियोक्या है #UPSCjihad? क्या खास समुदाय को बढ़ावा देती है UPSC: अजीत भारती का...

क्या है #UPSCjihad? क्या खास समुदाय को बढ़ावा देती है UPSC: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Suresh Chavhanke, Sudarshan TV, UPSC

सुदर्शन टीवी के 'UPSC जिहाद' नामक शो पर पिछले दिनों काफी बवाल हुआ। चैनल के मुख्य संपादक सुरेश चव्हाणके ने दावा किया कि इस शो के लिए बाकायदा रिसर्च की गई और तब जाकर वह इस नतीजे पर पहुँचे कि यूपीएससी में खास मजहब को कहीं न कहीं साजिशन ढकेला जा रहा है।

सुदर्शन टीवी के ‘UPSC जिहाद’ नामक शो पर पिछले दिनों काफी बवाल हुआ। चैनल के मुख्य संपादक सुरेश चव्हाणके ने दावा किया कि इस शो के लिए बाकायदा रिसर्च की गई और तब जाकर वह इस नतीजे पर पहुँचे कि यूपीएससी में खास मजहब को कहीं न कहीं साजिशन ढकेला जा रहा है। उन्होंने अंदेशा जताया कि हो सकता है इसके लिए सरकारी योजनाओं का इस्तेमाल हो रहा हो या फिर कोई ऐसा ‘नेक्सस’ हो, जो साक्षात्कार के समय उनका समर्थन करता हो।

इस पूरे विषय पर अभी तक सुदर्शन चैनल ने 4 शो दिखाए हैं। शो में अपने दावों को साबित करने के लिए चैनल ने उड़ान योजना का हवाला दिया है, जिसमें समुदाय विशेष को छात्रवृत्ति के रूप में 25000 से 1 लाख रुपए तक की मदद दी जाती है। अब सवाल तो उठना लाजिमी है कि जैसे वर्ग विशेष को आगे बढ़ने के लिए मदद मिल रही है, क्या वैसी ही मदद अन्य समुदायों को मिल रही है? और अगर हाँ, तो इसका प्रतिशत क्या है?

पूरी वीडियो का लिंक यहाँ क्लिक करके देखें

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe