Sunday, July 5, 2020
Home फ़ैक्ट चेक मीडिया फ़ैक्ट चेक श्रमिक ट्रेनों में मौत की खबरों पर मीडिया ने फिर से फैलाया भ्रम, रेलवे...

श्रमिक ट्रेनों में मौत की खबरों पर मीडिया ने फिर से फैलाया भ्रम, रेलवे ने लापरवाही के दावों को नकारा

बुधवार को दैनिक जागरण ने एक खबर प्रकाशित की। इसमें दावा किया गया कि लापरवाही की वजह से श्रमिक एक्सप्रेस में चार लोगों की मौत हो गई। रिपोर्ट में श्रमिक ट्रेनों के हालात को बदतर बताते हुए कहा कि प्रवासियों की मौत भोजन व पानी नहीं मिलने के कारण हुई।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में मौत को लेकर मीडिया लगातार भ्रामक खबरें प्रकाशित कर रहा है। भारतीय रेलवे ने एक बार फिर इस संबंध में प्रकाशित खबरों का खंडन किया है।

बुधवार (मई 27, 2020) को दैनिक जागरण ने एक खबर प्रकाशित की। इसमें दावा किया गया कि लापरवाही की वजह से श्रमिक एक्सप्रेस में चार लोगों की मौत हो गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि श्रमिक एक्सप्रेस पर सवार प्रवासी श्रमिकों को भोजन और पानी के लिए तरसना पड़ता है। श्रमिक ट्रेनों के हालात को बदतर बताते हुए कहा कि प्रवासियों की मौत भोजन व पानी नहीं मिलने के कारण हुई।

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने, जिसमें पत्रकार भी शामिल थे, ने श्रमिक एक्सप्रेस में भोजन और पानी की कमी को मौत का जिम्मेदार ठहराया।

रिपोर्ट के अनुसार, आजमगढ़ निवासी 45 वर्षीय राम अवध चौहान महाराष्ट्र के कल्याण से एक बस में झाँसी पहुँचे। झाँसी स्टेशन पहुँचने से पहले ही उनकी तबीयत बिगड़ने लगी। झाँसी स्टेशन पहुँचने पर रेलवे अस्पताल के डॉक्टरों ने उन्हें दवा दी। आराम मिलने पर वे श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सवार हुए। कानपुर सेंट्रल स्टेशन पहुँचने से पहले भीमसेन स्टेशन पर अचानकर उनकी हालत बिगड़ी और मौत हो गई।

श्रमिक ट्रेन में हुई मौत को लेकर ऑपइंडिया ने रेल मंत्रालय से संपर्क किया और उनसे इस बारे में जानने की कोशिश की। रेलवे के सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है कि मृतक को ब्लड प्रेशर और ब्लड शूगर की शिकायत थी। डॉक्टरों ने भी उनका इलाज किया था और दवाई दी थी।

इसी तरह, जागरण ने सूरत से वैशाली जाने वाले एक अन्य प्रवासी सरोज का जिक्र किया है। इसमें बताया गया कि 26 मई 2020 को सासाराम से पटना जाने के दौरान ट्रेन में सरोज की मृत्यु हो गई। जागरण ने मृतक सरोज के भाई कृष्णा कुमार का हवाला देते हुए बताया कि दोनों ने सोमवार से ही कुछ नहीं खाया था। हालाँकि, रेलवे के सूत्रों का कहना है कि लापरवाही का आरोप निराधार है और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने तक कुछ भी नहीं कहा जा सकता है।

जागरण की रिपोर्ट में एक अन्य प्रवासी 52 वर्षीय लालबाबू कामत का उल्लेख भी है। जागरण की रिपोर्ट में कहा गया है कि कामत को कुछ समय पहले लकवा हुआ था और जब रास्ते में उनकी तबीयत खराब हुई तो उन्हें दवाइयाँ भी दी गईं। रेलवे के सूत्रों ने भी पुष्टि की कि जब उनकी तबीयत खराब हुई तो उन्हें दवाइयाँ दी गईं।

इसके साथ ही ट्रेनों में मौत के संबंध में फैलाई जा रही गलत सूचना का खंडन करने के लिए भारतीय रेलवे ने ट्विटर का सहारा लिया। रेलवे ने दैनिक जागरण की रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट लगाते हुए ट्वीट किया, “यह खबर पूर्णत: भ्रामक एवं असत्य है। जिन 4 मौतों का उल्लेख किया गया है उसमें से 2 लोग पहले से ही गंभीर रोग से ग्रसित थे। बाकी 1 व्यक्ति की मौत का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद ही सामने आएगा। चौथे व्यक्ति का कोई भी विवरण नहीं दिया गया है।”

रेलवे ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, “भारतीय रेल द्वारा विभिन्न स्टेशनों पर आवश्यकता पड़ने पर यात्रियों को तुरंत चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराई जाती है। सभी श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में अनिवार्य रूप से खाना और पानी सभी यात्रियों को उपलब्ध कराया जाता है। इस खबर में किसी भी रेल अधिकारी का कोई भी पक्ष नहीं लिया गया है।”

इससे पहले मंगलवार (मई 26, 2020) को दैनिक भास्कर ने अपनी इमोशनल स्टोरी में दावा किया था कि ईद के दिन इरशाद नामक बच्चे की ट्रेन में ही मौत हो गई। हालाँकि, रेलवे ने बाद में जब सच्चाई बयान की तो भास्कर के इस ख़बर की पोल खुल गई।

खबर में ये भी दावा किया गया था कि सूरत से सीवान पहुँचने में ट्रेनों को पूरे 9 दिन लग गए। रेलवे ने इस ख़बर को नकारते हुए कहा है कि ये पूरी की पूरी रिपोर्ट अर्धसत्य और गलत सूचनाओं से भरी हुई है। भारतीय रेलवे के प्रवक्ता ने ट्विटर के माध्यम से बताया कि 25 मई को सूरत से दो ट्रेनें 2 दिन मे पहुँच गई थी, इसीलिए 9 दिन वाली बात झूठी है।

रेलवे ने बताया कि वो बच्चा पहले से ही बीमार था और इलाज के बाद उसके परिजन उसे लेकर लौट रहे थे। इसी तरह वामपंथी प्रोपेगेंडा पोर्टल ‘कारवाँ’ के पत्रकार विद्या कृष्णन ने ट्विटर पर मौत को लेकर फर्जी सूचना जारी की है। कारवाँ के लेखक ने ट्विटर पर दावा किया कि ट्रेन में 10 यात्रियों की भूख से मौत हो गई।

PIB ने इस ट्वीट को फर्जी बताते हुए इसका फैक्ट चेक किया। इसमें PIB ने स्पष्ट किया है कि यह दावा एकदम फेक है और भूख के कारण ऐसी कोई मौतें नहीं हुई है। PIB ने ट्वीट में लिखा कि मौत का कारण उचित कानूनी प्रक्रिया के माध्यम से ऑटोप्सी के बिना निर्धारित नहीं किया जा सकता है। कृपया असत्यापित खबरें फैलाने से बचें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ख़ास ख़बरें

जाकिर नाइक की तारीफ वाला महेश भट्ट का वीडियो वायरल, भगोड़े इस्लामी प्रचारक को बताया था- गौरव, बेशकीमती खजाना

फ़िल्म सड़क-2 की रिलीज डेट आने के बाद सोशल मीडिया में फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

हॉस्पिटल से ₹4.21 लाख का बिल, इंश्योरेंस कंपनी ने चुकाए सिर्फ ₹1.2 लाख: मनोज इलाज की जगह ‘कैद’

मनोज कोठारी पर यह परेशानी अकेले नहीं आई। उनके परिवार के 2 और लोग कोरोना संक्रमित हैं। दोनों का इलाज भी इसी हॉस्पिटल में। उनके बिल को लेकर...

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

नक्सलियों की तरह DSP का काटा सर-पाँव, सभी 8 लाशों को चौराहे पर जलाने का था प्लान: विकास दुबे की दरिंदगी

विकास दुबे और उसके साथी बदमाशों ने माओवादियों की तरह पुलिस पर हमला किया था। लगभग 60 लोग थे। जिस तरह से उन लोगों ने...

बकरीद के पहले बकरे से प्यार वाले पोस्टर पर बवाल: मौलवियों की आपत्ति, लखनऊ में हटाना पड़ा पोस्टर

"मैं जीव हूँ मांस नहीं, मेरे प्रति नज़रिया बदलें, वीगन बनें" - इस्लामी कट्टरपंथियों को अब पोस्टर से भी दिक्कत। जबकि इसमें कहीं भी बकरीद या...

उनकी ही संतानें थी कौरव और पांडव: जानिए कौन हैं कृष्ण द्वैपायन, जिनका जन्मदिन बन गया ‘गुरु पूर्णिमा’

वो कौरवों और पांडवों के पितामह थे। महाभारत में उनकी ही संतानों ने युद्ध किया। वो भीष्म के भाई थे। कृष्ण द्वैपायन ने ही वेदों का विभाजन किया। जानिए कौन थे वो?

प्रचलित ख़बरें

जातिवाद के लिए मनुस्मृति को दोष देना, हिरोशिमा बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

गणित शिक्षक रियाज नायकू की मौत से हुआ भयावह नुकसान, अनुराग कश्यप भूले गणित

यूनेस्को ने अनुराग कश्यप की गणित को विश्व की बेस्ट गणित घोषित कर दिया है और कहा है कि फासिज़्म और पैट्रीआर्की के समूल विनाश से पहले ही इसे विश्व धरोहर में सूचीबद्द किया जाएगा।

‘…कभी नहीं मानेंगे कि हिन्दू खराब हैं’ – जब मानेकशॉ के कदमों में 5 Pak फौजियों के अब्बू ने रख दी थी अपनी पगड़ी

"साहब, आपने हम सबको बचा लिया। हम ये कभी नहीं मान सकते कि हिन्दू ख़राब होते हैं।" - सैम मानेकशॉ की पाकिस्तान यात्रा से जुड़ा एक किस्सा।

काफिरों को देश से निकालेंगे, हिन्दुओं की लड़कियों को उठा कर ले जाएँगे: दिल्ली दंगों की चार्ज शीट में चश्मदीद

भीड़ में शामिल सभी सभी दंगाई हिंदुओं के खिलाफ नारे लगा रहे और कह रहे थे कि इन काफिरों को देश से निकाल देंगे, मारेंगे और हिंदुओं की लड़कियों को.......

इजरायल ने बर्बाद किया ईरानी परमाणु ठिकाना: घातक F-35 विमानों ने मिसाइल अड्डे पर ग‍िराए बम

इजरायल ने जोरदार साइबर हमला करके ईरान के परमाणु ठिकानों में दो विस्‍फोट करा दिए। इनमें से एक यूरेनियम संवर्धन केंद्र है और दूसरा मिसाइल निर्माण केंद्र।

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

जाकिर नाइक की तारीफ वाला महेश भट्ट का वीडियो वायरल, भगोड़े इस्लामी प्रचारक को बताया था- गौरव, बेशकीमती खजाना

फ़िल्म सड़क-2 की रिलीज डेट आने के बाद सोशल मीडिया में फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

हॉस्पिटल से ₹4.21 लाख का बिल, इंश्योरेंस कंपनी ने चुकाए सिर्फ ₹1.2 लाख: मनोज इलाज की जगह ‘कैद’

मनोज कोठारी पर यह परेशानी अकेले नहीं आई। उनके परिवार के 2 और लोग कोरोना संक्रमित हैं। दोनों का इलाज भी इसी हॉस्पिटल में। उनके बिल को लेकर...

1 दिन के मॉंगे ₹1.15 लाख, बना रखा है बंधक: कोरोना संक्रमित डॉक्टर ने निजी अस्पताल पर लगाए आरोप

हैदराबाद में एक संक्रमित महिला डॉक्टर ने अस्पताल पर एक दिन के 1.15 लाख रुपए मॉंगने और बंधक बनाने का आरोप लगाया है।

उत्तराखंड: रात में 15 साल की बच्ची को घर से उठाया, जुनैद और सुहैब ने किया दुष्कर्म

रेप की यह घटना उत्तराखंड के लक्सर की है। आरोपित एक दारोगा के सगे भाई बताए जा रहे हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

उस रात विकास दुबे के घर दबिश देने गई पुलिस के साथ क्या-क्या हुआ: घायल SO ने सब कुछ बताया

बताया जा रहा है कि विकास दुबे भेष बदलने में माहिर है और अपने पास मोबाइल फोन नहीं रखता। राजस्थान के एक नेता के साथ उसके बेहद अच्छे संबंध की भी बात कही जा रही है।

अपने रुख पर कायम प्रचंड, जनता भी आक्रोशित: भारत विरोधी एजेंडे से फँसे नेपाल के चीनपरस्त PM ओली

नेपाल के PM ओली ने चीन के इशारे पर नाचते हुए भारत-विरोधी बयान तो दे दिया लेकिन अब उनके साथी नेताओं के कारण उनकी अपनी कुर्सी जाने ही वाली है।

काली नागिन के काटने से जैसे मौत होती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के कारण लोग मर रहे: TMC सांसद कल्याण बनर्जी

टीएमसी नेता कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को लेकर विवादित बयान दिया है। उनकी तुलना 'काली नागिन' से की है।

‘अल्लाह ने अपने बच्चों को तनहा नहीं छोड़ा’: श्रीकृष्ण मंदिर में मालिक ने की तोड़फोड़, ‘हीरो’ बता रहे पाकिस्तानी

पाकिस्तान के स्थानीय मुसलमानों ने इस्लामाबाद में बन रहे श्रीकृष्ण मंदिर में तोड़फोड़ मचाने वाले मलिक को एक 'नायक' के रूप में पेश किया है।

रोती-बिलखती रही अम्मी, आतंकी बेटे ने नहीं किया सरेंडर, सुरक्षा बलों पर करता रहा फायरिंग, मारा गया

कुलगाम में ढेर किए गए आतंकी से उसकी अम्मी सरेंडर करने की गुहार लगाती रही, लेकिन वह तैयार नहीं हुआ।

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

हमसे जुड़ें

234,622FansLike
63,120FollowersFollow
269,000SubscribersSubscribe