Tuesday, July 27, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेकसाद के बचाव में झूठी खबर फैला रहा है ऑल्ट न्यूज़ का मोहम्मद ज़ुबैर...

साद के बचाव में झूठी खबर फैला रहा है ऑल्ट न्यूज़ का मोहम्मद ज़ुबैर और प्रशांत भूषण: दिल्ली पुलिस ने बताया आसमानी कल्पना

मौलाना साद के बचाव में किसी एक खबर की तलाश में बैठे स्वघोषित फैक्ट चेकर और ऑल्ट न्यूज़ वेबसाइट (AltNews) के संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर ने भी इंडियन एक्सप्रेस की इस झूठी खबर को खूब शेयर किया है। मतलब सध जाने के बाद हालाँकि ज़ुबैर ने ट्वीट डिलीट कर दी है लेकिन स्वघोषित फैक्टचेककर का बिना जाँच किए.......

मौलाना साद के प्रति सहानुभूति रखने वाले भारत के लिबरल-गिरोह के लिए 2 बुरी खबरें एक साथ सामने आई हैं – पहली ये कि मौलाना साद का वीडियो क्लिप डॉक्टर्ड नहीं बल्कि असली है, और दूसरी ये कि मौलाना साद के बचाव करते हुए इस वाम-उदारवादी वर्ग ने साबित कर दिया है कि आखिर उसका मुख्य मकसद क्या है?

दिल्ली पुलिस ने ट्वीट कर इंडियन एक्सप्रेस की उस खबर को एकदम बेबुनियाद और काल्पनिक करार दिया है, जिसमें इंडियन एक्सप्रेस की किसी ‘गुप्त पुलिस’ ने उनके पास आकर कहा था कि मौलाना साद की वो वीडियो-ऑडियो क्लिप नकली है, जिसमें उसने जमातियों से कोरोना वायरस के संक्रमण से ना घबराते हुए सोशल डिस्टेंसिंग (सामाजिक दूरी) का पालन ना करने की बात कही थी।

इंडियन एक्सप्रेस की इस खबर को बिना जाँच किए ही फैक्ट चेकर समुदाय से लेकर वामपंथी प्रोपेगेंडा पत्रकारिता की रीढ़ दी वायर ने फौरन लपकते हुए इसे सनसनी बनाकर पेश किया।

‘दी वायर’ ने अपनी रिपोर्ट में लिखा –

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज के प्रमुख मौलाना साद कंधावली का एक ऑडियो क्लिप बीते दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसमें वह कथित तौर पर जमात के लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं करने को कह रहे हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा की शुरुआती जाँच में पता चला है कि शायद उस ऑडियो क्लिप से छेड़छाड़ की गई है और कई अन्य ऑडियो क्लिप को जोड़कर उसे तैयार किया गया है।

दिल्ली पुलिस ने बताया झूठा है इंडियन एक्सप्रेस

दिल्ली पुलिस ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस अफवाह के मूल स्रोत इंडियन एक्सप्रेस को रीट्वीट करते हुए लिखा है कि इंडियन एक्सप्रेस द्वारा किया गया यह दावा न केवल तथ्यात्मक रूप से गलत है, बल्कि पूर्ण रूप से काल्पनिक दावों और बिना किसी शोध के किया गया है।

फैक्ट चेकर से लेकर प्रशांत भूषण तक फैला रहे इंडियन एक्सप्रेस का प्रोपेगेंडा

मौलाना साद के बचाव में किसी एक खबर की तलाश में बैठे स्वघोषित फैक्ट चेकर और ऑल्ट न्यूज़ वेबसाइट (AltNews) के संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर ने भी इंडियन एक्सप्रेस की इस झूठी खबर को खूब शेयर किया है। मतलब सध जाने के बाद हालाँकि ज़ुबैर ने ट्वीट डिलीट कर दी है लेकिन स्वघोषित फैक्टचेककर का बिना जाँच किए इस न्यूज़ को लपक लेने से मकसद पता ही चल गया। अब सोशल मीडिया पर भद्द पिटने के बाद सफाई देता फिर रहा है।

यहाँ तक कि दिल्ली पुलिस के स्पष्टीकरण कर बाद भी प्रशान्त भूषण इस झूठ को बार बार रीट्वीट कर रहे हैं। यही नहीं, प्रशांत भूषण चाहते हैं कि फ़ेक खबर चलाने वालों पर कार्रवाई भी होनी चाहिए।

मौलाना साद की शान में रवीश कुमार के फैन भी मैदान में हैं –

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,526FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe