Wednesday, July 28, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकराजनीति फ़ैक्ट चेकमीडिया गिरोह के कोरोना वैक्सीन से 19 स्वास्थ्यकर्मियों की मौत वाले नैरेटिव को मोदी...

मीडिया गिरोह के कोरोना वैक्सीन से 19 स्वास्थ्यकर्मियों की मौत वाले नैरेटिव को मोदी सरकार ने बताया फर्जी

स्वास्थ्य मंत्रालय में सचिव राजेश भूषण ने कहा कि राज्य एईएफआई समितियों ने सभी 19 मौतों पर विचार-विमर्श किया है और इसके पीछे वैक्सीन का प्रभाव होने का कोई सबूत नहीं है..

केंद्र सरकार ने बृहस्पतिवार (फरवरी 04, 2021) को ‘COVID-19 वैक्सीन से 19 स्वास्थ्यकर्मियों की मृत्यु’ की बात को एकदम निराधार नैरेटिव बताया है। सरकार की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि कोरोना वैक्सीन लगने और स्वास्थ्यकर्मियों की मौत के बीच सम्बन्ध बैठाती हो, ऐसी कोई भी लिंक नहीं मिलती और जो भी मौत हुई हैं उनका जो भी विवरण होगा, विशेषज्ञों द्वारा विचार-विमर्श के बाद सार्वजनिक किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि 16 जनवरी को राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था, जिसमें तीन करोड़ से अधिक स्वास्थ्य देखभाल और फ्रंटलाइन वर्कर्स को शुरू में प्राथमिकता दी गई। इसके बाद ही कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया कि इन स्वास्थ्यकर्मियों की मौत वैक्सीन लगने के कारण हुई है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान एक सवाल के जवाब में, स्वास्थ्य मंत्रालय में सचिव राजेश भूषण ने कहा कि भारत में टीकाकरण की निगरानी के बाद प्रतिकूल घटनाओं के लिए एक बहुत ही सशक्त और मजबूत प्रणाली (AEFI) है और 19 लोगों की मृत्यु के कारण के बारे में जानकारी जल्द ही सार्वजानिक की जाएगी।

निति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने कहा कि अभी तक टीकों को किसी भी मौत के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया गया है। पॉल ने कहा, “यह निर्धारित किया जाता है कि ये टीके सुरक्षित हैं। 45 लाख दवा देने के बाद, कुछ समय में कम से कम दुष्प्रभाव होते हैं, जैसे 1,150 व्यक्तियों में से एक व्यक्ति में साइड इफेक्ट मिला है और किसी वैक्सीन के कारण कोई भी मौत नहीं हुई है। यह साबित करता है कि ये टीके बेहद सुरक्षित हैं।”

टीकाकरण से होने वाली मौतों के बारे में विस्तार से बताते हुए, स्वास्थ्य मंत्रालय में सचिव राजेश भूषण ने कहा कि राज्य एईएफआई समितियों ने सभी 19 मौतों पर विचार-विमर्श किया है और इसके पीछे वैक्सीन का प्रभाव होने का कोई सबूत नहीं है, लेकिन एक बार जब राष्ट्रीय एईएफआई समिति की बैठक और विचार-विमर्श होगा, तो स्पष्ट हो जाएगा।

उन्होंने कहा, “टीका लेने वाले 19 लोगों की मौतें हुई हैं। इन सभी मौतों का पोस्टमार्टम तीन डॉक्टरों के एक बोर्ड द्वारा किया गया। राज्य की AEFI समितियों ने इन सभी मामलों पर विचार-विमर्श किया है। इनकी मौत टीकाकरण के कारण हुई हो, इसका कोई सबूत नहीं है। राष्ट्रीय AEFI समिति इस पर विचार और विमर्श कर रही है और सार्वजनिक डोमेन पर साझा किया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कराहते केरल में बकरीद के बाद बिकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

साँवरें के रंग में रंगी हरियाणा की तेजतर्रार महिला IPS भारती अरोड़ा, श्रीकृष्‍ण भक्ति के लिए माँगी 10 साल पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने इस खबर की पुष्टि की है। उन्होंने बताया है कि अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe