Sunday, July 25, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकराजनीति फ़ैक्ट चेक'नीच' कॉन्ग्रेस ने लड़की के साथ मोदी की तस्वीर लगाई, लिखा ऐशो-आराम की ज़िंदगी...

‘नीच’ कॉन्ग्रेस ने लड़की के साथ मोदी की तस्वीर लगाई, लिखा ऐशो-आराम की ज़िंदगी में मस्त… जानिए सच

कॉन्ग्रेस ने एक भावुक किन्तु फर्जी वीडियो शेयर किया है। इसमें यह साबित करने का प्रयास किया गया है कि सरकार किसान की आवाज नहीं सुनती और 'ऐशो-आराम की जिन्दगी में मस्त' है। इस भावुक वीडियो में यह भ्रामक संदेश देने का काम किया गया है कि पीएम मोदी कोरोना वायरस के समय किसी आलिशान सैलून में अपने बाल बनवा रहे हैं।

कॉन्ग्रेस ने अपने ट्विटर एकाउंट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो झूठे दावे के साथ शेयर की है। कॉन्ग्रेस ने PM मोदी की फोटो शेयर करते हुए लिखा है – “ऐशो-आराम की जिंदगी।”

कॉन्ग्रेस ने अपने ट्विटर एकाउंट से एक भावुक किन्तु फर्जी वीडियो शेयर किया है, जिसमें यह साबित करने का प्रयास किया गया है कि सरकार किसान की आवाज नहीं सुनती और ‘ऐशो-आराम की जिन्दगी में मस्त’ है।

वीडियो के साथ कैप्शन लिखा है – “बहरी है सरकार, आओ उस तक आवाज़ पहुँचाएँ। होकर एकजुट, उसे हिंद की ताकत दिखलाएँ।” #SpeakUpIndia

लेकिन इस वीडियो में कॉन्ग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उस तस्वीर का इस्तेमाल किया है, जो अप्रैल, 2016 मैडम तुसाद में नरेन्द्र मोदी की प्रतिमा के लिए ली गई थी। लेकिन, कॉन्ग्रेस ने अपने भावुक वीडियो में इसे इस्तेमाल कर यह भ्रामक संदेश देने का काम किया है कि पीएम मोदी कोरोना वायरस के समय किसी आलिशान सैलून में अपने बाल बनवा रहे हैं।

कॉन्ग्रेस का PM मोदी की तस्वीर के साथ भ्रामक दावा यह साबित करता है कि वह सरकार विरोधी षड्यंत्र में किसी भी स्तर तक गिरने को राजी है।

यह तस्वीर उस समय की है, जब मैडम तुसाद के आर्टिस्ट दिल्ली आए थे और उन्होंने पीएम मोदी से कई मुलाकातें की थीं। म्यूजियम के कारीगरों ने पीएम मोदी के शरीर का नाप भी लिया था। मैडम तुसाद में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रतिमा क्रीम कलर के कुर्ते पायजामे में हाथ जोड़े हुए है।

PM मोदी की इस तस्वीर को लेकर कई बार ऐसी फेक खबरें भी चलाई गई हैं, जिनमें दावा किया गया था कि नरेन्द्र मोदी ने 15 लाख रुपए में एक मेकअप आर्टिस्ट को हायर किया है। हालाँकि, यह खबर भी कॉन्ग्रेस के वीडियो में किए गए दावे के जितनी ही झूठी थी। ख़ास बात यह है कि तब भी ऐसे फर्जी अफवाहें कॉन्ग्रेस के समर्थक फेसबुक पेज ही चला रहे थे।

कोरोना वायरस के दौरान जारी लॉकडाउन में कॉन्ग्रेस और उनका मीडिया तन्त्र हर प्रकार की भ्रामक और फर्जी खबरें प्रकाशित करता नजर आ रहा है। कोई भी दिन ऐसा नहीं है जब कॉन्ग्रेस या फिर उनके द्वारा पोषित मीडिया ने केंद्र सरकार के खिलाफ फर्जी खबरों से दुष्प्रचार करने का काम ना किया हो।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अल्लाह-हू-अकबर चिल्लाया, कई को गोलियों से छलनी किया: अफगानिस्तान में कट्टर इस्लाम के साथ ऐसे फैल रहा तालिबान

तालिबानी आतंकवादियों ने अफगानिस्तान के ज्यादातर इलाकों में कब्जा कर लिया है। वह यहाँ निर्दोष लोगों को मार रहे हैं। जिन लोगों को गोलियों से छलनी किया उन्होंने अफगान सरकार का समर्थन किया था।

‘अपनी ही कब्र खोद ली’: टाइम्स ऑफ इंडिया ने टोक्यो ओलंपिक में भारतीय तीरंदाजी टीम की हार का उड़ाया मजाक

दक्षिण कोरिया के किम जे ड्योक और आन सन से हारने के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया ने दावा किया कि भारतीय तीरंदाजी टीम औसत से भी कम थी और उन्होंने विरोधियों को थाली में सजाकर जीत सौंप दी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,156FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe