Tuesday, August 3, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकगुजरात की अच्छाई गिरोह विशेष को स्वीकार नहीं: वहाँ की तस्वीर को पुडुचेरी का...

गुजरात की अच्छाई गिरोह विशेष को स्वीकार नहीं: वहाँ की तस्वीर को पुडुचेरी का बता कर शेयर कर रहा गिरोह विशेष

सबसे बड़ी बात कि इस दुकान के बगल में एक और दुकान दिख रहा है, जिसका नाम है- 'भगवती स्वीट मार्ट'। इसे भी गूगल मैप पर सर्च करते ही पता चल जाता है कि ये गुजरात की तस्वीर है। 'टाइम्स ऑफ इंडिया' की मैनेजिंग एडिटर रही प्रिया गुप्ता ने भी इस तस्वीर को इसी दावे के साथ शेयर किया कि ये पुडुचेरी की है।

कॉन्ग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्विटर पर एक फोटो शेयर किया, जिसमें एक दुकान पर लोग सोशल डिस्टैन्सिंग प्रैक्टिस करते हुए दिख रहे हैं। इस फोटो में देखा जा सकता है कि एक किराने के दुकान वाले ने अपनी दुकान के सामने कई गोल घेरे लगा रखे हैं, जो एक-दूसरे से दूरी पर स्थित हैं। सफ़ेद रंग से बने हुए इन लाल घेरों में खड़े होकर लोग अपनी बारी का इन्तजार कर रहे हैं। जैसे-जैसे जिसकी बारी आती है, बिना धक्का-मुक्की किए लोग जाते हैं और सामान लेकर चले जाते हैं।

सिंघवी ने दावा किया कि ये तस्वीर पुड्डुचेरी स्थित एक दूध के दुकान की है। लेकिन, दुकान का नाम गुजराती में लिखा हुआ है। ऑपइंडिया ने इस फोटो को लेकर और चीजें पता लगाने की कोशिश की और पाया कि बोर्ड पर ‘चन्द्रमानवाला’ लिखा हुआ है, जो गुजरात के पाटन के पास स्थित है। नीचे गूगल मैप के स्क्रीनशॉट में आप देख सकते हैं कैसे हमने इस जगह के बारे में खोजा और इसका लोकेशन पता चला:

गूगल मैप पर गुजरात के चन्द्रमाना का लोकेशन

सबसे बड़ी बात कि इस दुकान के बगल में एक और दुकान दिख रहा है, जिसका नाम है- ‘भगवती स्वीट मार्ट’। इसे भी गूगल मैप पर सर्च करते ही पता चल जाता है कि ये गुजरात की तस्वीर है। ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की मैनेजिंग एडिटर रही प्रिया गुप्ता ने भी इस तस्वीर को इसी दावे के साथ शेयर किया कि ये पुडुचेरी की है। बाद में पोल खुलने के बाद गुप्ता ने माना कि ये ट्वीट गुजरात का है और उनसे ग़लती हुई है।

ऐसा नहीं है कि पुडुचेरी में ऐसा नहीं हुआ। वहाँ एक मिल बूथ में इस तरह का नियम बनाया गया था, जिसकी तस्वीर उप-राज्यपाल किरण बेदी ने शेयर की थी। वो एक अलग तस्वीर थी। लेकिन लिबरल गैंग गुजरात से आई तस्वीर को भी पुडुचेरी का बता कर शेयर करने लगा। शायद ऐसा इसीलिए भी किया गया क्योंकि गुजरात में भाजपा की सरकार है और वहाँ कुछ भी अच्छा होने को लिबरल गैंग पचा नहीं सकता। ऊपर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी गुजराती हैं, इसीलिए गुजरात से गिरोह विशेष को विशेष चिढ़ रहती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एक-एक पैसा मुजफ्फरनगर व सहारनपुर के मदरसों को दिया’: शाहिद सिद्दीकी ने अपने सांसद फंड को लेकर खोले राज़

वीडियो में पूर्व सांसद शहीद सिद्दीकी कहते दिख रहे हैं कि अपने MPLADS फंड्स में से एक-एक पैसा उन्होंने मदरसों, स्कूलों और कॉलेजों को दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,775FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe