Tuesday, January 18, 2022
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक'शराब के नशे में पायलट ने कराई 'गरुड़' की इमरजेंसी लैंडिंग': इंडोनेशिया के फ्लाइट...

‘शराब के नशे में पायलट ने कराई ‘गरुड़’ की इमरजेंसी लैंडिंग’: इंडोनेशिया के फ्लाइट की वायरल वीडियो का FACT CHECK

एक यूजर ने वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा, "आपको 'गरुड़ इंडोनेशिया' के साथ उड़ान भरने के लिए शुभकामनाएँ। आशा है कि आप हमारे साथ फिर से उड़ान भरेंगे।"

सोशल मीडिया पर एक वीडियो खासा शेयर हो रहा है, जिसके बारे में कहा जा रहा है कि ये इंडोनेशिया की फ्लाइट ‘गरुड़’ की इमरजेंसी लैंडिंग का है। ये वीडियो किस एयरपोर्ट का है, ये नहीं बताया जा रहा है। 9 जनवरी, 2022 को भी इस तरह का एक वीडियो शेयर किया गया था, जो 37 सेकेंड का है। खबर लिखे जाने तक लगभग 9500 लोग इस वीडियो को देख चुके थे। इस पर जहाँ 104 लाइक्स हैं, वहीं 200 से भी अधिक लोगों ने इसे आगे बढ़ाया है।

कुछ मीडिया संस्थानों ने भी इस वीडियो के आधार पर खबर तैयार कर के प्रकाशित किया। हालाँकि, ये पहली बार नहीं है जब ये वीडियो सोशल मीडिया पर साझा किया जा रहा हो। ट्विटर पर कीवर्ड सर्च पर पता चला कि 17 सितंबर, 2021 को ‘@aki_re_su’ नाम के यूजर ने रात 9:11 बजे शेयर किया था। साथ ही कैप्शन में लिखा था, “आपको ‘गरुड़ इंडोनेशिया’ के साथ उड़ान भरने के लिए शुभकामनाएँ। आशा है कि आप हमारे साथ फिर से उड़ान भरेंगे।”

लोगों ने कमेंट्स में लिखा कि उन्हें फ्लाइट में बैठे यात्रियों से ज्यादा उस व्यक्ति की चिंता है, जिसने ये वीडियो बनाया। एक अन्य यूजर ने लिखा कि ये प्लेन काफी अच्छी है। यूट्यूब पर भी इसे शेयर किया गया:

उसी दिन ‘OttoHuang120’ नाम के ट्विटर हैंडल ने भी इस वीडियो को साझा किया था, जिसे अब तक 10.4 हजार से भी अधिक लोग देख चुके हैं:

अब आपको बताते हैं कि इस वीडियो की सच्चाई क्या है। दरअसल, ये शार्ट क्लिप जिस वीडियो का हिस्सा है उसे ‘Bopbibun’ नाम के YouTube चैनल ने ‘Most Crazy Emergency Landing By Drunk Pilot | X-Plane 11’ शीर्षक के साथ अपलोड किया था, जिसका अर्थ है – शराब पिए हुए एक पायलट द्वारा सबसे ज्यादा पागलपन भरी इमरजेंसी लैंडिंग’। इस वीडियो को 2 मई, 2020 को डाला गया था और इसे 53 लाख से भी अधिक लोग देख चुके हैं।

इसमें स्पष्ट बताया गया है कि ये कम्प्यूटर से बनाया गया वीडियो है। बताया गया है कि ये ‘फ्लाइट सिमुलेशन’ का वीडियो है, ये स्थिति वास्तविक नहीं है। कम्प्यूटर जनरेटेड इमेजरी के जरिए इसे बनाया गया है। उक्त यूट्यूब यूजर सिमुलेशन का इस्तेमाल कर के मनोरंजन के लिए अन्य वीडियोज भी बनाता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘टेलीप्रॉम्पटर में खराबी आते ही PM मोदी बोलना भूल गए’ – कॉन्ग्रेस फैला रही थी झूठ, वीडियो सामने आते ही कौवे ने काटा

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के दावोस एजेंडा समिट में पीएम मोदी द्वारा दिए गए संबोधन की एक क्लिप को शेयर करते हुए कॉन्ग्रेस ने झूठ बोलते हुए...

हिमालय पर मिलने वाला फूल बन सकता है कोराना की ‘बूटी’, IIT में रिसर्च: हरे बंदर की किडनी पर हुआ शोध

बुरांश से निकलने वाले अर्क को रिसर्च में कोविड रोकने में कारगर पाया गया है। इसका इस्तेमाल स्थानीय लोग अच्छे स्वास्थ्य के लिए लंबे समय से करते रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,943FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe