Saturday, July 4, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया 'द वायर' वालो, JNU-छाप माओवंशी वामभक्तों के ज़हर को छाप कर कब तक दुकान...

‘द वायर’ वालो, JNU-छाप माओवंशी वामभक्तों के ज़हर को छाप कर कब तक दुकान चलाओगे?

आप वरिष्ठों के होते हुए कनिष्ठ और युवा प्रोफ़ेसर को स्कूल ऑफ़ सोशल साइंसेज का डीन बनाए जाने का विरोध करते हैं। क्यों? केवल इसलिए कि वह युवा है? वामपंथ तो युवा खून का समर्थक रहा है न? उम्र और वरिष्ठता जैसे चीज़ें तो बूढ़े और दकियानूसी दक्षिणपंथ की परिचायक हैं न?

ये भी पढ़ें

‘Subjective’ का मतलब होता है विषयनिष्ठ, यानी जो हर इंसान के लिए अलग-अलग हो। ‘Objective’ होता है वस्तुनिष्ठ, यानी जिसे कोई भी इंसान, किसी भी दृष्टिकोण से देखे, तो वह एक जैसा ही दिखे। जेएनयू के अध्यापक अविजित पाठक The Wire में छपे लेख ‘JNU: The Story of the Fall of a Great University’ में अपने सब्जेक्टिव ‘दर्द’ के ऑब्जेक्टिव कारण गिनाते हैं। माने उनके दर्द से भले आप सहमत हों या न हों (क्योंकि वह ऑब्जेक्टिव नहीं है, निजी है), लेकिन उसका कारण ऑब्जेक्टिव है- उससे असहमति की गुंजाईश ही नहीं हो सकती।

अपने लेख की शुरूआत में ही अविजित स्टाइलिश ओपनिंग देने और सहानुभूति लूटने के लिए बताते हैं कि जेएनयू टीचर्स एसोसिएशन के द्वारा किए गए प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए उनका नाम चार्जशीट में है। लेकिन इसमें शायद वह सिक्के का दूसरा पहलू वह भूल गए कि जब उनके खिलाफ चार्जशीट फाइल है, तो ज़ाहिर सी बात है चार्जशीट फाइल करने वालों के खिलाफ कही गई उनकी किसी बात में पूर्वग्रह की गुंजाईश से इंकार नहीं किया जा सकता। और यह पूर्वग्रह, यह पक्षपात उनके पूरे लेख में दिखता है।

अपना ‘डर’ डर है, अपनी बेइज़्ज़ती चुभती है…

लेख के पहले खंड की शुरूआत अविजित उसी “डर का माहौल” टेम्पलेट से करते हैं, जो आजकल चरम-वामपंथियों का आखिरी सहारा बचा है। आँकड़े उनके खिलाफ हैं, जनता का मूड उनके खिलाफ है, दशकों की मेहनत से खड़े किए नैरेटिव झूठ के पुलिंदे साबित हो रहे हैं, चारु मजूमदार और किशनजी से लेकर माओ और लेनिन तक उनके हीरो देश के ही नहीं, इंसानियत के भी विलेन निकल रहे हैं। तो ऐसे में हवाई “डर का माहौल” ही उनके पास सबसे ठोस आधार बच रहा है।

वह बताते हैं कि “डर का माहौल” इसलिए है क्योंकि ‘एकतरफ़ा’ अकादमिक काउन्सिल में वरिष्ठ प्रोफ़ेसरों की कथित बेइज़्ज़ती हो रही है। इस एक वाक्य में कितने सारे विरोधभास हैं! आप तो वामपंथी हैं न, अविजित साहब? या कम-से-कम एंटी-राइट? तो आप तो हायरार्की, वरिष्ठ-कनिष्ठ जैसी चीज़ों के खिलाफ हुए न? आपके हिसाब से तो यह शोषकों द्वारा शोषण के लिए गढ़े गए फ़र्ज़ी वर्गीकरण हैं! तो वरिष्ठता का हवाला कैसे दे सकते हैं?

और अगर बात बेइज़्ज़ती की करनी है तो जेएनयू में, जो वामपंथियों का गढ़ है, ज़रा दक्षिणपंथी, एंटी-वामपंथी, ABVP/संघ-परिवार समर्थक शिक्षकों और छात्रों से मिलकर पूछिए उन्हें कितनी ज़िल्लत आपके वामपंथी देते हैं, और कितने पहले से देते थे। आप तो इतनी जल्दी घबरा गए, उन लोगों की सोचिए जो सालों नहीं, दशकों से ऐसे ही माहौल में आते थे, किसी तरह पढ़-लिखकर निकल जाते थे।

आप वरिष्ठों के होते हुए कनिष्ठ और युवा प्रोफ़ेसर को स्कूल ऑफ़ सोशल साइंसेज का डीन बनाए जाने का विरोध करते हैं। क्यों? केवल इसलिए कि वह युवा है? वामपंथ तो युवा खून का समर्थक रहा है न? उम्र और वरिष्ठता जैसे चीज़ें तो बूढ़े और दकियानूसी दक्षिणपंथ की परिचायक हैं न?

आप उद्धरण चिह्नों (‘ ‘) के भीतर competent authority को रखते हैं। केवल authority (प्राधिकार) नहीं, competent authority को। यानी आप competence (योग्यता) को भी प्रश्नचिह्नों में रखते हैं, जो कि आपकी वामपंथी विचारधारा है- कि योग्यता महज़ एक सामाजिक छलावा है। तो अगर योग्यता छलावा है, प्राधिकार के खिलाफ वामपंथी होने के कारण अंध-विरोध में खड़े ही रहना है, तो बन जाने दीजिए किसी को भी! क्या दिक्कत है?

बदरंग दीवारें और हत्यारा शे गुवेरा ही हैं आपके ‘aesthetics’?

आप अगला मुद्दा दीवारों से पोस्टर हटाने का उठाते हैं, और बताते हैं कि वह पोस्टर बड़े ही एस्थेटिक (कलात्मक) थे। इससे बड़ी हास्यास्पद विडंबना क्या हो सकती है कि एक तरफ़ आप बात ‘कलात्मकता’ और सुरुचिपूर्णता की कर रहे हैं, और दूसरी ओर आपके ही लेख में जो मुख्य तस्वीर लगी है, उसमें घोर अरुचि पैदा करने वाली, बदरंग दीवार की तस्वीर है। और उसे बदरंग किसी पोस्टर ने ही किया है।

इसके अलावा आप शे गुवेरा का पोस्टर लगाते हैं। वही शे, जो समलैंगिकता को ‘बुर्जुआओं की नौटंकी’ मानता था और समलैंगिकों को नाज़ियों जैसे लेबर कैम्प में भेज देता था। वही जो शेखी बघारता था कि क्रांति के लिए बंदूक चलाते समय बेगुनाहों के बारे में नहीं सोचा जा सकता, जो सामने हो भून दो। जो आपके पसंदीदा नारे ‘free speech’ और आज़ाद प्रेस का दुश्मन था। इसी ‘रुचिपूर्ण’ कलात्मकता के खो जाने का मातम मना रहे हैं?

बायोमेट्रिक से डर क्यों?

आप बताते हैं कि बायोमेट्रिक हाजिरी से जेएनयू के अध्यापक डरे हुए हैं? क्यों? क्या इसलिए कि आप लोग अभी तक अपनी मनमर्जी से कभी मन हुआ तो क्लास लेने आए, नहीं मन हुआ तो छात्रों को पार्ट-टाइम एक्टिविस्ट बना कर किसी भी मुद्दे पर धरना देने भेज दिया? यह तो कामचोरी है, हराम का खाना यानी हरामखोरी है! और अगर आप यह नहीं कर रहे, अगर आप हराम की सैलरी नहीं ले रहे, तो बायोमेट्रिक से किस चीज़ का डर?

ऑब्जेक्टिव और MCQ आपका भेदभाव रोकने के लिए हैं

इसे विडंबना ही कहेंगे कि एक ओर आप अपने सब्जेक्टिव डर के कारणों को सत्यता देने के लिए उन्हें ‘ऑब्जेक्टिव कारण’ बताते हैं, और दूसरी ओर आप आगामी फ्रेशर्स के बैच के लिए छद्म-रूप से अपमानजनक ‘MCQ generation’ का इस्तेमाल करते हैं। आपको MCQ से दिक्क्त है, समझ में आता है। वामपंथी नैरेटिव गेम में स्ट्रॉन्ग हैं, लेकिन तथ्यों के मामले में कमज़ोर पड़ जाते हैं।

आज तक आप सब्जेक्टिव इम्तिहान लेकर (शायद) केवल अपनी राजनीतिक सोच से मेल खाने वाले या वैचारिक रूप से ढाले जा सकने वाले लोगों को ही प्रवेश देते थे। अब MCQ के ज़रिए वो छात्र भी प्रवेश पाएँगे जो वामपंथियों के झूठे नैरेटिव, और झूठे तथ्यों को चुनौती देंगे। इसीलिए आप दुःखी हैं?

आपका काम पढ़ाना है, एक्टिविस्ट तैयार करना नहीं

अविजित पाठक दुःख जताते हैं कि अब वह होने छात्रों में एक्टिविस्ट तैयार नहीं कर सकते। 29 साल (उनका ही दिया हुआ आँकड़ा) पढ़ाने के बाद भी उन्हें समझ नहीं आया कि शिक्षक का काम शिक्षा देना होता है, उस शिक्षा को किसी एक राह पर ही इस्तेमाल करने के लिए छात्र को धकेलना या बरगलाना नहीं। और जेएनयू ने यही किया है- ईमानदार विचारक और बौद्धिक कम, बौद्धिकता और विचारधारा को हथियार बनाकर एक्टिविज़्म करने वाले एक्टिविस्ट, या नक्सली आतंकी, ज़्यादा तैयार किए हैं।

और अंत में आपको उसी इंसान का लेखन याद दिलाना चाहूँगा, जिसे आप उद्धृत करते हैं- दोस्तोवस्की। ‘नोट्स फ़्रॉम द अंडरग्राउंड’ से लेकर ‘क्राइम एंड पनिशमेंट’ और ‘द डेविल्स’ तक अपने हर मशहूर उपन्यास में वह ‘एक्टिविस्ट-टाइप’, यूटोपिया के पुजारी आदर्शवादियों का खोखलापन ज़ाहिर करते हैं। केवल उन्हें उद्धृत करने की बजाय अविजित पाठक और उनके एक्टिविस्ट अकादमिक साथी दोस्तोवस्की को पढ़ना और ईमानदारी से उनके लेखन के आलोक में आत्म-चिंतन करना शुरू कर दें तो बेहतर होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली दंगों से जाकिर नाइक के भी जुड़े तार, फंड के लिए मिला था खालिद सैफी, विदेशी फंडिंग का स्पेशल सेल को मिला लिंक

खालिद सैफी के पासपोर्ट से पता चला है कि दिल्ली दंगों की फंडिंग के लिए जाकिर नाइक जैसे कई लोगों से मुलाकात करने के लिए उसने कई देशों की यात्रा की थी।

हिरोशिमा-नागासाकी पर बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा है जाति व्यवस्था के लिए मनुस्मृति को दोष देना

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

योगी राज में विकास दुबे के पीछे पड़ी पुलिस, जंगलराज में खाकी पर गोलियाँ बरसा भी खुल्ला घूमता रहा शहाबुद्दीन

विकास दुबे ने गोलियॉं बरसाई तो 7000 पुलिसकर्मी उसकी तलाश में लगा दिए गए हैं। यही कारनामा कर कभी शहाबुद्दीन एसपी को खुलेआम धमकी देता रहा और सरकार सोई रही।

गणित शिक्षक रियाज नायकू की मौत से हुआ भयावह नुकसान, अनुराग कश्यप भूले गणित

यूनेस्को ने अनुराग कश्यप की गणित को विश्व की बेस्ट गणित घोषित कर दिया है और कहा है कि फासिज़्म और पैट्रीआर्की के समूल विनाश से पहले ही इसे विश्व धरोहर में सूचीबद्द किया जाएगा।

भारतीय सेना जब भी विदेशी जमीन पर उतरी है, नया देश बनाया है… मुस्कुराइए, धुआँ उठता देखना मजेदार है

भारत-चीन विवाद के बीच प्रधानमंत्री का लेह-लद्दाख पहुँच जाना सेना के लिए कैसा होगा इस बारे में कुछ भी कहने की जरूरत नहीं है। पुराने दौर में “दिल्ली दूर, बीजिंग पास” कहने वाले तथाकथित नेता पता नहीं किस बिल में हैं। ऐसे मामलों पर उनकी टिप्पणी रोचक होती।

प्रचलित ख़बरें

विकास दुबे को पहले ‘साइकिल’ का सहारा, अब यूपी पुलिस का मजाक बना रहे अखिलेश यादव

विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमले को लेकर पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने मजाक बनाने की कोशिश की है।

सुशांत की मौत से करियर सँवारने की कोशिश में स्वरा भास्कर, सहानुभूति पाने के लिए खुद को बताया आउटसाइडर

सुशांत सिंह की मौत से पैदा सहानुभूति का फायदा उठाने के लिए स्वरा भास्कर ने खुद को आउटसाइडर बताया है, जबकि उनकी मॉं सेंसर बोर्ड की सदस्य रह चुकी हैं।

लद्दाख के सबसे दुर्गम स्थान पर निमू में PM मोदी ने की सिंधु पूजा, अयोध्या से भी आया बुलावा

पीएम मोदी शुक्रवार को लद्दाख गए थे। इस दौरान उन्होंने निमू पोस्ट के पास सिंधु दर्शन पूजा की थी। इसकी तस्वीरें और वीडियो वायरल हो रहे हैं।

दिल्ली दंगों से जाकिर नाइक के भी जुड़े तार, फंड के लिए मिला था खालिद सैफी, विदेशी फंडिंग का स्पेशल सेल को मिला लिंक

खालिद सैफी के पासपोर्ट से पता चला है कि दिल्ली दंगों की फंडिंग के लिए जाकिर नाइक जैसे कई लोगों से मुलाकात करने के लिए उसने कई देशों की यात्रा की थी।

हिरोशिमा-नागासाकी पर बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा है जाति व्यवस्था के लिए मनुस्मृति को दोष देना

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

Covid-19: भारत में अब तक 625544 संक्रमित, 18213 की जान ले चुका है कोरोना

संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित होने वाला राज्य अभी भी महाराष्ट्र ही बना हुआ है। आज वहाँ 6364 नए मामले आए, जबकि 198 की मौत हुई।

मारा गया मौलाना मुजीब: मुंबई हमलों में था शामिल, कश्मीर में दहशतगर्दी के लिए तैयार करता था आतंकी

मौलाना मुजीब मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद का राइट हैंड माना जाता था। उसे कराची में गोली मारी गई।

योगी राज में विकास दुबे के पीछे पड़ी पुलिस, जंगलराज में खाकी पर गोलियाँ बरसा भी खुल्ला घूमता रहा शहाबुद्दीन

विकास दुबे ने गोलियॉं बरसाई तो 7000 पुलिसकर्मी उसकी तलाश में लगा दिए गए हैं। यही कारनामा कर कभी शहाबुद्दीन एसपी को खुलेआम धमकी देता रहा और सरकार सोई रही।

दिल्ली से अफगानिस्तान गए सिख को गुरुद्वारे से अगवा करने वाले हथियारबंद कौन? परिवार ने भू-माफिया का हाथ बताया

शुरुआत में निधान सिंह को अगवा करने के पीछे तालिबान का हाथ होने की बात कही जा रही थी। लेकिन परिवार ने इससे इनकार किया है।

हमसे जुड़ें

234,008FansLike
63,092FollowersFollow
268,000SubscribersSubscribe