Tuesday, December 1, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया जब रिपोर्टर मरे बच्चे की माँ से भी ज़्यादा परेशान दिखने लगें...

जब रिपोर्टर मरे बच्चे की माँ से भी ज़्यादा परेशान दिखने लगें…

कैसा लगेगा जब इन एंकरों के बच्चे तड़पते रहेंगे और एक आम आदमी इनसे पूछे कि आपको एक माँ के लिहाज से कैसा महसूस हो रहा है? वो माइक इनके मुँह में ठूँस दे और नाक से कैमरा सटा कर पूछे कि आप कैसा फ़ील कर रही हैं? अच्छा नहीं लगेगा, आप उन्हें झिड़क कर भगा देंगे।

‘आप कैसा महसूस कर रहे हैं?’, ‘आपका बेटा जिंदगी के लिए तड़प रहा है, आप कुछ कहना चाहेंगे?’, ‘आपके पति की मौत हो गई, आपको कैसा फ़ील हो रहा है?’, आदि सवाल ऐसे हैं जो सवाल नहीं सामान्य बुद्धि के दायरे से बाहर के हैं। ये संवेदनहीनता से भरे तो हैं ही, साथ ही यह आपको एक पेशे का ऐसा चेहरा दिखाती है जो क्लेम करती है कि वो जो कर रहे हैं, वो जनता की आवाज बन कर कर रहे हैं।

सौ से ज्यादा बच्चे मर गए। वो मर गए। वो वापस नहीं आएँगे। हो सकता है, अगले साल फिर मर जाएँगे क्योंकि कुछ लोग अपना काम ठीक से नहीं कर रहे। ऐसे में मीडिया की क्या ज़िम्मेदारी है? मीडिया के लिए, ऐसे विषयों पर, दो काम बनते हैं। पहला यह है कि वो उन लोगों से सवाल करे जो इन मौतों को एक तय तरीके से होने देते हैं। और दूसरा यह कि वो वह काम करें जो उन लोगों ने नहीं किया, यानी जागरूकता फैलाने का।

इसमें कुछ मीडिया वाले बदतमीज़ी करते हुए हॉस्पिटल में पहुँच गए जैसे कि उनके जाने से सब कुछ सही हो जाएगा। पत्रकारों को, जिसमें कुछ बड़े एंकर शामिल हैं, लगता है कि उन्हें डिप्लोमैटिक इम्यूनिटी टाइप की कोई चीज मिली हुई है जिस कारण वो ब्रह्मांड के किसी भी कोने में माइक ले कर जा सकते हैं। ये सोच गलत है, कई बार ग़ैरक़ानूनी भी, लेकिन हमारा पेशा इतना विकृत रूप ले चुका है कि आप उन पर सवाल नहीं उठा सकते।

आप जरा सोचिए कि जिस हॉस्पिटल का नाम गलत कारणों से न्यूज में आया हुआ हो, वो कितने दबाव में काम कर रहे होंगे। मैं यह भी मान लेता हूँ कि हॉस्पिटल साफ-सुथरा नहीं होगा, लेकिन यह बताने के लिए जीवन और मौत से संघर्ष कर रहे बच्चों के वार्ड में आप यह दिखाने के लिए अराजकता फैलाने लगेंगे कि देखिए यहाँ कितनी गंदगी है?

अस्पतालों की गंदगी उत्तर भारत के लिए कोई ख़बर नहीं है। जो सरकारी अस्पतालों में गए हैं, उन्हें पता है कि वो गंदे हैं। ये कोई बताने की चीज नहीं है। बता भी दें तो कैमरा लेकर दिखाने से आप किसी की मदद नहीं कर रहे। यहाँ सबको वस्तुस्थिति पता है।

नर्स एक बीमार बच्चे के बेड के पास खड़ी होकर कुछ निर्देश दे रही है और हमारे पत्रकार माइक लेकर पिले पड़े हैं! ये कौन-सी पत्रकारिता है? इसका लक्ष्य क्या है? इससे समाज के किस हिस्से को आवाज मिल रही है या ऐसा कौन-सा मुद्दा आप दिखा रही हैं जो लोगों को पता नहीं है?

लोगों को आपके पहुँचने से पहले से मुद्दा पता है कि अस्पताल में बच्चे मर रहे हैं। लोगों को ये ख़बर तब से पता है जब से बाकी चैनल जगे नहीं थे। आज राहुल गाँधी लोकसभा में आँख मार दे या मोदी राहुल गाँधी की चुटकी ले ले तो आप इन सारी मौतों को भूल जाएँगे क्योंकि आप के लिए मौतें मुद्दा नहीं हैं। मुद्दा है आपका खलिहर होना और इस मातम में लोगों से पूछना कि उनको कैसा लग रहा है!

कैसा लगेगा जब इन एंकरों के बच्चे तड़पते रहेंगे और एक आम आदमी इनसे पूछे कि आपको एक माँ के लिहाज से कैसा महसूस हो रहा है? वो माइक इनके मुँह में ठूँस दे और नाक से कैमरा सटा कर पूछे कि आप कैसा फ़ील कर रही हैं? अच्छा नहीं लगेगा, आप उन्हें झिड़क कर भगा देंगे।

आप जैसे एंकरों ने अपनी तस्वीरें खींचने पर प्राइवेसी की दुहाई दी है। क्या उस बच्चे के पिता को प्राइवेसी का हक़ नहीं जिसके लिए प्राथमिकता उसके बच्चे की साँसें हैं, और यह कि वो दवाई कहाँ से लाएगा?

मीडिया अपने आप को समझता क्या है? ये ज़िम्मेदारी है मीडिया की? ऐसे आप रिपोर्टिंग करेंगे? ये मीडिया नहीं थिएटर है। यहाँ लोग चिल्लाएँगे नहीं, ड्रामा नहीं करेंगे, आवाज को मॉड्यूलेट नहीं करेंगे तो लोग उन्हें सुनेंगे नहीं। जबकि ऐसे कई एंकर हैं जो शांत हो कर अपनी बातें रखते हैं, और लोग सुनते हैं। ये फर्जी बुलबुला बना कर उसी में लोग जी रहे हैं जिसका परिणाम बाथ टब में श्री देवी की मौत कैसे हुई बताने के लिए चम्पक पत्रकार बाथ टब में लेट जाने पर दिखता है।

तो फिर ऐसे मामलों में मीडिया क्या करे? मीडिया को कम से कम आधे घंटे जागरूकता अभियान चलाना चाहिए चैनलों के माध्यम से। इन्हीं पत्रकारों को अगर लगता है कि लोग उन्हें सुनते हैं तो उन्हें स्थानीय भाषा में यूट्यूब या चैनल के माध्यम से डॉक्टरों की बातचीत दिखा कर लोगों को ऐसी बीमारियों से बचाव के तरीके बताने चाहिए। विज्ञापनों के बीच लोगों को साफ-सफ़ाई रखने का आग्रह करना चाहिए।

पत्रकारों का काम नौटंकी करके भीड़ जुटा कर लोगों को अचंभित करने का नहीं है कि लोग यह चर्चा करें कि ‘अरे देखो, कितना गंदा है हॉस्पिटल’। इससे किसे क्या लाभ होगा पता नहीं। क्या इस शो के दो दिन बाद भी कोई याद रखेगा कि हॉस्पिटल गंदा था? उस हॉस्पिटल का नाम भी ध्यान में रहेगा? ये इम्पैक्ट किसके लिए क्रिएट हो रहा है? क्या ये मनोरंजन है कुछ लोगों के लिए जिनके लिए आप पैकेज तैयार करते हैं? फिर आपने क्या योगदान दिया इस मुद्दे को लेकर बतौर पत्रकार? यही आधे घंटे अगर आपने किसी जानकार डॉक्टर से बात करते हुए, बार-बार यह बताया होता कि लक्षणों को तुरंत ऐसे पहचानें और अस्पताल जाएँ, तो कल को होने वाली कुछ मौतें कम हो सकती थीं।

जब मीडिया सरकार को निकम्मी मानती ही है, फिर मीडिया ने इस जानकारी के साथ खुद क्या किया? क्या हमने इस सीज़न की शुरुआत में ही कैलेंडर बनाया कि हर साल बच्चे मरते हैं, हम पहले ही जा कर हॉस्पिटल से और मंत्रालय से पता करें कि इस बार आपने बचाव के लिए क्या प्रयास किए हैं? ज़िम्मेदार पत्रकार तो पहले ही सरकार को आगाह करने की कोशिश करेगा। अगर सरकार या स्वास्थ्य तंत्र उदासीन दिखे, तो वो इस पर चर्चा करे कि मुज़फ़्फ़रपुर वालो, हमने तो तुम्हारे इलाके के लिए इतना प्रयास किया, देखो तुम्हारा नगर निगम, सदर अस्पताल, मंत्री, सांसद, विधायक, जिला परिषद सदस्य आदि सो रहे हैं।

लेकिन पत्रकार तो इन मौक़ों पर हमेशा सबसे बाद में आते हैं। इनके लिए कैलेंडर के हिसाब से सिर्फ जन्मदिन और श्रद्धांजलि के ही दिन बनते हैं। जबकि इन दोनों से किसको क्या लाभ होता है मुझे नहीं पता। अगर मीडिया, जो गले फाड़-फाड़ कर यह सवाल कर रही है कि किसी ने कुछ क्यों नहीं किया, स्वयं ही पहले कुछ करती, और जो आँकड़े ये हर साँस में गिना रही है कि इस साल इतने मरे, उस साल उतने मरे, वो पहले गिन लेती, तो शायद इस त्रासदी की चोट थोड़ी कम लगती।

हम सब जानते हैं कि इसमें दोष सरकार का है जो निकम्मी है, उपेक्षा करती है अपनी जनता का और ज़िम्मेदारी लेने से भागती है। ये बात सबको पता है। आँख मूँद कर ये बातें आप हर त्रासदी के बाद कह सकते हैं और आप गलत नहीं होंगे। लेकिन हम पत्रकारों की क्या ज़िम्मेदारी है? क्या हमने अपने अनुभव ये कुछ भी सीखा है? क्या हम प्रो-एक्टिव हैं किसी भी भयावह आपदा को लेकर? क्या हमें अंदाज़ा भी था कि इस साल भी बच्चे मरने वाले हैं या फिर हम उस दिन के बवाल में बिजी थे जिससे हमें ट्रैफिक और टीआरपी मिलें?

ये दोष मुझ पर भी है, और मेरे साथी पत्रकारों और संस्थानों पर भी। मीडिया को अपने ज़िम्मेदार होने का मेडल तब ही लटकाना चाहिए जब उसने ऐसी आपदाओं को आने से पहले ही लोगों को आगाह किया हो कि अब बारिश का मौसम आ रहा है, डेंगू फैलना शुरु होगा, हॉस्पिटलों की तैयारी पता की जाए। बारिश के बाद नालों के जाम होने पर सरकारों से सवाल पूछने से बेहतर है कि बारिश की शुरुआत में पूछा जाए कि क्या नालों की सफ़ाई हो गई?

अभी जो टीवी पर चल रहा है वो इतना घटिया और संवेदनहीन है कि उसमें दोष मढ़ने, नाटकीयता दिखाने और चेहरे पर पानी मार कर अपने आप को बदहवास दिखा कर यह बताने की होड़ मची है कि हमारे टीवी की एंकर उस माँ से ज़्यादा परेशान है जिसका मृत बच्चा उसकी गोद में पड़ा है और उसके आँसू सूख चुके हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BARC के रॉ डेटा के बिना ही ‘कुछ खास’ को बचाने के लिए जाँच करती रही मुंबई पुलिस: ED ने किए गंभीर खुलासे

जब दो BARC अधिकारियों को तलब किया गया, एक उनके सतर्कता विभाग से और दूसरा IT विभाग से, दोनों ने यह बताया कि मुंबई पुलिस ने BARC से कोई भी रॉ (raw) डेटा नहीं लिया था।

भीम-मीम पहुँच गए किसान आंदोलन में… चंद्रशेखर ‘रावण’ और शाहीन बाग की बिलकिस दादी का भी समर्थन

केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में लाए गए कृषि सुधार कानूनों को लेकर जारी किसानों के 'विरोध प्रदर्शन' में धीरे-धीरे वह सभी लोग साथ आ रहे, जो...

‘गलत सूचनाओं के आधार पर की गई टिप्पणी’: ‘किसान आंदोलन’ पर कनाडा के PM ने जताई चिंता तो भारत ने दी नसीहत

जस्टिन ट्रूडो ने कहा कि स्थिति चिंताजनक है और कनाडा हमेशा शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन का समर्थन करता है और वो इस खबर को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते।

हिंदुओं और PM मोदी से नफरत ने प्रतीक सिन्हा को बनाया प्रोपगेंडाबाज: 2004 की तस्वीर शेयर करके 2016 में उठाए सवाल

फैक्ट चेक के नाम पर प्रतीक सिन्हा दुनिया को क्या परोस रहे हैं, इसका खुलासा @befittigfacts नाम के सक्रिय ट्विटर यूजर ने अपने ट्वीट में किया है।

‘दिल्ली और जालंधर किसके साथ गई थी?’ – सवाल सुनते ही लाइव शो से भागी शेहला रशीद, कहा – ‘मेरा अब्बा लालची है’

'ABP न्यूज़' पर शेहला रशीद अपने पिता अब्दुल शोरा के आरोपों पर सफाई देने आईं, लेकिन कठिन सवालों का जवाब देने के बजाए फोन रख कर भाग खड़ी हुईं।
00:30:50

बिहार के किसान क्यों नहीं करते प्रदर्शन? | Why are Bihar farmers absent in Delhi protests?

शंभू शरण शर्मा बेगूसराय इलाके की भौगोलिक स्थिति की जानकारी विस्तार से देते हुए बताते हैं कि छोटे जोत में भिन्न-भिन्न तरह की फसल पैदा करना उन लोगों की मजबूरी है।

प्रचलित ख़बरें

मेरे घर में चल रहा देश विरोधी काम, बेटी ने लिए ₹3 करोड़: अब्बा ने खोली शेहला रशीद की पोलपट्टी, कहा- मुझे भी दे...

शेहला रशीद के खिलाफ उनके पिता अब्दुल रशीद शोरा ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बेटी के बैंक खातों की जाँच की माँग की है।

13 साल की बच्ची, 65 साल का इमाम: मस्जिद में मजहबी शिक्षा की क्लास, किताब के बहाने टॉयलेट में रेप

13 साल की बच्ची मजहबी क्लास में हिस्सा लेने मस्जिद गई थी, जब इमाम ने उसके साथ टॉयलेट में रेप किया।

‘हिंदू लड़की को गर्भवती करने से 10 बार मदीना जाने का सवाब मिलता है’: कुणाल बन ताहिर ने की शादी, फिर लात मार गर्भ...

“मुझे तुमसे शादी नहीं करनी थी। मेरा मजहब लव जिहाद में विश्वास रखता है, शादी में नहीं। एक हिंदू को गर्भवती करने से हमें दस बार मदीना शरीफ जाने का सवाब मिलता है।”

‘दिल्ली और जालंधर किसके साथ गई थी?’ – सवाल सुनते ही लाइव शो से भागी शेहला रशीद, कहा – ‘मेरा अब्बा लालची है’

'ABP न्यूज़' पर शेहला रशीद अपने पिता अब्दुल शोरा के आरोपों पर सफाई देने आईं, लेकिन कठिन सवालों का जवाब देने के बजाए फोन रख कर भाग खड़ी हुईं।

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

‘बीवी सेक्स से मना नहीं कर सकती’: इस्लाम में वैवाहिक रेप और यौन गुलामी जायज, मौलवी शब्बीर का Video वायरल

सोशल मीडिया में कनाडा के इमाम शब्बीर अली का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें इस्लाम का हवाला देते हुए वह वैवाहिक रेप को सही ठहराते हुए देखा जा सकता है।

‘किसान आंदोलन’ के बीच एक्टिव हुआ Pak, पंजाब के रास्ते आतंकी हमले के लिए चीन ने ISI को दिए ड्रोन्स’: ख़ुफ़िया रिपोर्ट

अब चीन ने पाकिस्तान को अपने ड्रोन्स मुहैया कराने शुरू कर दिए हैं, ताकि उनका इस्तेमाल कर के पंजाब के रास्ते भारत में दहशत फैलाने की सामग्री भेजी जा सके।

BARC के रॉ डेटा के बिना ही ‘कुछ खास’ को बचाने के लिए जाँच करती रही मुंबई पुलिस: ED ने किए गंभीर खुलासे

जब दो BARC अधिकारियों को तलब किया गया, एक उनके सतर्कता विभाग से और दूसरा IT विभाग से, दोनों ने यह बताया कि मुंबई पुलिस ने BARC से कोई भी रॉ (raw) डेटा नहीं लिया था।

भीम-मीम पहुँच गए किसान आंदोलन में… चंद्रशेखर ‘रावण’ और शाहीन बाग की बिलकिस दादी का भी समर्थन

केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में लाए गए कृषि सुधार कानूनों को लेकर जारी किसानों के 'विरोध प्रदर्शन' में धीरे-धीरे वह सभी लोग साथ आ रहे, जो...

‘गलत सूचनाओं के आधार पर की गई टिप्पणी’: ‘किसान आंदोलन’ पर कनाडा के PM ने जताई चिंता तो भारत ने दी नसीहत

जस्टिन ट्रूडो ने कहा कि स्थिति चिंताजनक है और कनाडा हमेशा शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन का समर्थन करता है और वो इस खबर को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते।
00:14:07

कावर झील पक्षी विहार या किसानों के लिए दुर्भाग्य? Kavar lake, Manjhaul, Begusarai

15000 एकड़ में फैली यह झील गोखुर झील है, जिसकी आकृति बरसात के दिनों में बढ़ जाती है जबकि गर्मियों में यह 3000-5000 एकड़ में सिमट कर...

शादी से 1 महीने पहले बताना होगा धर्म और आय का स्रोत: असम में महिला सशक्तिकरण के लिए नया कानून

असम सरकार ने कहा कि ये एकदम से 'लव जिहाद (ग्रूमिंग जिहाद)' के खिलाफ कानून नहीं होगा, ये सभी धर्मों के लिए एक समावेशी कानून होगा।

‘अजान महाआरती जितनी महत्वपूर्ण, प्रतियोगता करवा कर बच्चों को पुरस्कार’ – वीडियो वायरल होने पर पलट गई शिवसेना

अजान प्रतियोगिता में बच्चों को उनके उच्चारण, ध्वनि मॉड्यूलेशन और गायन के आधार पर पुरस्कार दिया जाएगा। पुरस्कारों के खर्च का वहन शिवसेना...

हिंदुओं और PM मोदी से नफरत ने प्रतीक सिन्हा को बनाया प्रोपगेंडाबाज: 2004 की तस्वीर शेयर करके 2016 में उठाए सवाल

फैक्ट चेक के नाम पर प्रतीक सिन्हा दुनिया को क्या परोस रहे हैं, इसका खुलासा @befittigfacts नाम के सक्रिय ट्विटर यूजर ने अपने ट्वीट में किया है।

सलमान और नदीम विवाहित हिन्दू महिला का करवाना चाहते थे जबरन धर्म परिवर्तन: मुजफ्फरनगर में लव जिहाद में पहली FIR

नदीम ने अपने साथी सलमान के साथ मिलकर महिला को प्रेमजाल में फँसा लिया और शादी का झाँसा दिया। इस बीच उस पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाया गया और निकाह करने की बात कही गई।
00:33:45

किसान आंदोलन या दूसरा शाहीन बाग? अजीत भारती का विश्लेषण | Ajeet Bharti Analysing Farmer Protests

इस आंदोलन में एक ऐसा समूह है जो हर किसी को बरगलाना चाहता है। सीएए के दौरान ऐसा ही शाहीन बाग में देखने को मिला था।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,494FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe