Thursday, October 22, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया रवीश जी को पुरस्कार मिलने पर मोदी (नरेंद्र) ने क्यों नहीं दी बधाई? जलते...

रवीश जी को पुरस्कार मिलने पर मोदी (नरेंद्र) ने क्यों नहीं दी बधाई? जलते हैं क्या?

तो रवीश जी को पुरस्कार मिला और इसके लिए सबसे बड़े बधाई के पात्र हैं देश में उनकी आवाज दबाने वाले मोदी जी। इस पुरस्कार के लिए बधाई के दूसरे सबसे बड़े पात्र प्रणय राय हैं जिन्होंने...

रवीश कुमार को पुनः बधाई समेत उनसे गुजारिश करना चाहूँगा कि भक्त और चाटुकार आपके भी कम नहीं हैं और ऐसे में आप इस बात के लिए मोदी या किसी और को दोषी ठहराते हुए नंगे हो जाते हैं। हाँ, ये बात सही है कि मोदी के भक्त अक्ल से थोड़े अधिक पैदल हैं जबकि आपके वाले पढ़े-लिखे, सभ्य और अधिक तिकड़मी हैं।जहाँ गाली-गलौज में दोनों ही एक समान हैं, वहीं एक विशेष अंतर जो इनके मेन्टल स्टेट का है – जहाँ मोदी भक्त तृप्त और संतुष्ट हैं वहीं रवीश जी के भक्त अधिकतर अंदर से जले-भुने, कुढ़े, चिड़चिड़े, असंतुष्ट और कुछ अचीव न कर पाने का क्षोभ लिए।

खैर, तो रवीश जी को पुरस्कार मिल गया। बधाई बधाई बधाई। मेरी समझ से संभवतः यह ब्रह्मांड का पहला पुरस्कार होगा जो उसे उस चीज के लिए मिला है, जिसको वही आदमी गलत ठहराता और झूठ कहता रहा है। देश में असहिष्णुता है, डर का माहौल है और अभिव्यक्ति की आजादी नहीं है, ऐसा कहने वाले रवीश जी को अपनी अभिव्यक्ति के लिए ही पुरस्कार मिल गया।

फ़िलहाल संभ्रांत रवीश भक्तों की तंग गली में ताजा विषय है पुरस्कार पर प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री या फिर किसी और ने बधाई क्यों नहीं दी? जबकि रवीश जी अपनी पहचान वाली पत्रकारिता 2014 में छोड़ चुके थे और तब तक एक पत्रकार के तौर पर मध्यम वर्ग के दिलों में राज करते थे – उन्हें नरेंद्र मोदी और उनके कारण उत्पन्न असहिष्णुता का शुक्रिया अदा करना चाहिए, जिसकी वजह से यह सब संभव हुआ।

वैसे भी मध्यम वर्ग के दिलों पर राज करने से ठुल्लू मिलता आया है, सो आदमी वर्ग विशेष का चहेता क्यों कर न बने भला! तब यह और आसान हो जाता है जबकि देश में विपक्ष के नाम पर शून्य हो! हमें विरोध करने को, अपनी कुत्सित मानसिकता दर्ज करने को, अपने आप को भीड़ से अलग साबित करने को और बस विरोध के लिए विरोध करने को कोई तो अड्डा चाहिए न। सो रवीश जी की वॉल यह शून्य भरता (अंडा) अड्डा बना।

अपने सोशल मीडिया के अनुभव से कह सकता हूँ कि प्रसंशा या (बड़ी वाली) शुभकामनाएँ उसे अधिक मिलती हैं जो सकारात्मक हो, एक धड़े को पकड़ कर रहे, आदर्श बातें करने के बजाय उसे अपने चरित्र में दिखाए और कभी एकतरफा या चुनिंदा सोच लिए न हो। यह भारतीय पत्रकारिता की बदकिस्मती से रवीश जी इनमें कहीं भी फिट नहीं बैठते हैं। यह दुनिया के आठवें आश्चर्य से क्या कम है कि जो सरकार अपना कार्यकाल पूरा करके पहले से अधिक बहुमत लाती है, उस सरकार में रवीश जी को कोई सकारात्मक बात नहीं दिखी?

2007 के एक आलेख में रवीश जी लिखते हैं – “मनमोहन सिंह किसी जात बिरादरी के नेता की तरह अंतिम संस्कार के भोज, शादी, विदाई के वक्त संयम बरतने की अपील कर रहे हैं। सरकार के मुखिया की तरह कुछ कर नहीं रहे हैं। रिलायंस के कार्टेल के सामने क्या मनमोहन सिंह खड़े हो सकते हैं? राजनीति में भी परिवारों का कार्टेल बन रहा है। क्या उसके खिलाफ खड़े हो सकते हैं? मनमोहन सिंह व्यक्तिगत जीवन में संयम से रहते हैं। उनकी बेटियां आज भी साधारण रूप से कॉलेजों में पढ़ाने जाती हैं। कोई अहंकार नहीं। मगर क्या वो इस व्यक्तिगत कामयाबी को सामाजिक या राष्ट्रीय कामयाबी में बदल सकते हैं? नहीं।”

“वो भाषण दे सकते हैं। सो दे रहे हैं। बहुत ही बेकार भाषण देते हैं। खुद ईमानदार होने पर बधाई। मगर अपराधी, भ्रष्ट नेताओं को मंत्री बनाने की बेबसी पर लानत। मनमोहन सिंह जैसे बेबस ईमानदारों से ऐसे ही भाषणों की उम्मीद की जा सकती है। मर्दाना कमजोरी से बचने के लिए हस्तमैथुन से संयम बरते की सलाह देने वाले सड़क छाप बाबाओं की तरह मनमोहन सिंह के इस भाषण पर बहुत गुस्सा आया है।”

ऐसा लिखने वाले रवीश आज चिदंबरम की गिरफ़्तारी पर मौन ओढ़ ले रहे हैं। यदि सिर्फ सत्ता को गाली देने की बातें ही सही मान लें तो कल को क्या ऐसा होगा कि रवीश जी पदच्युत होने के बाद मोदी के खिलाफ कुछ नहीं कहेंगे?

दरअसल अब ऐसे असंख्य उदाहरण हैं जहाँ रवीश अपनी एक आँख बंद करके रिपोर्टिंग करते दिखे हैं। और तो और अब वो अच्छा दिखने और इमेज बनाने के लिए भी रिपोर्टिंग कर रहे हैं। ताजा उदाहरण है कशिश टीवी द्वारा मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड पर किए कार्य की सराहना पर। रवीश खुद तो इस पर कोई कार्यक्रम नहीं कर पाए किन्तु इस कांड के कवरेज के लिए पत्रकार की खूब तारीफ की, बिना मेहनत इस न्यूज को कवर कर फुटेज ली।

आज जबकि यह चैनल और वो पत्रकार इस खबर को किसी मज़बूरी में कवर करना छोड़ चुका है, रवीश जी नहीं पूछते। क्योंकि रवीश जी को इससे फुटेज नहीं मिलेगा। उनका यह आदर्शवाद का ढोंग वहाँ भी दिखता है, जहाँ वो एक तरफ ऐसा कार्यक्रम करते हैं जिसमें कहा जाता है कि देश में बात सुनी नहीं जा रही, सब गलत हो रहा है और दूसरी तरफ वो यह कार्यक्रम भी करते हुए दिखते हैं कि – हें, हें, हें!!! मेरी रिपोर्टिंग की वजह से (मोदी राज में ही) ट्रेन समय पर हो गई, लोगों को नौकरियाँ मिल गईं, विश्वविद्यालय में सुधार हो गया!!!

ऐसे में जबकि देश की अर्थव्यवस्था को एड्स हो जाने की ख़बरें आ रही हैं, देश के आम आदमी को अब (मोदी राज में भी) सब कुछ ठीक कर देने वाले सिर्फ और सिर्फ रवीश जी के उस प्राइम टाइम का इंतजार है, जिसमें वो कहेंगे कि देखिए मेरे प्राइम टाइम का असर हुआ – अर्थव्यवस्था का एड्स भी ठीक होने को है!!! हें हें हें हें!

यह भी कोई आश्चर्य की बात नहीं गर रवीश जी आपको प्राइम टाइम में कहते सुनाई दें – “हमें रोजगार को सिर्फ नौकरी की नजर से नहीं देखना चाहिए, बिजनेस भी तो रोजगार ही है!!! और आप देखिए कि 10 साल पहले के मेरे ट्वीट की वजह से आज का युवा अपना बिजनेस कर स्वावलंबी हो रहा है।” 

शायद विषयांतर हो गया है और यह हो ही जाता है। क्योंकि हमारे बिहारी बाबू ने इतना रायता फैलाया हुआ है कि उसे समेटने में विषयांतर हो ही जाता है! वो भी तब जबकि वो रायते में रंग मिलाकर रंग बदलने के माहिर हों। तो रवीश जी को पुरस्कार मिला और जैसा कि ऊपर लिख चुका हूँ, इसके लिए सबसे बड़े बधाई के पात्र हैं देश में उनकी आवाज दबाने वाले मोदी जी। इस पुरस्कार के लिए बधाई के दूसरे सबसे बड़े पात्र प्रणय रॉय हैं जिन्होंने खुद की इमेज से बचाते हुए, विपरीत समय में भी रवीश कुमार को NDTV का प्लेटफॉर्म दिया।

मैं नरेंद्र मोदी और प्रणय रॉय को साधुवाद देता हूँ और इसी लाइन में रवीश जी को बधाई नहीं लिखता हूँ क्योंकि किसी बड़े आदमी ने न तो आज की क्रांति – सोलर पावर के काम के लिए हरीश हंडे को मैग्सेसे पुरस्कार के लिए बधाई दी थी और न ही रूरल डेवलेपमेंट के लिए मैग्सेसे पाने वाले दीप जोशी को। रेमन मैग्सेसे पाने वाले गूँज वाले अंशुल गुप्ता और संजीव चतुर्वेदी को कितने लोगों ने बधाई दी थी! क्या उनके मुकाबले का कोई काम है रवीश जी का?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Praveen Kumarhttps://praveenjhaacharya.blogspot.com
बेलौन का मैथिल

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिया विरोधी दंगों की खबर ट्वीट करने पर ट्विटर ने दिया भारतीय सम्पादक को ‘पाकिस्तानी कानून’ वाला नोटिस

ट्विटर ने दक्षिणपंथी पोर्टल 'ऑर्गनाइज़र' के संपादक प्रफुल्ल केतकर की एक रिपोर्ट पर यह कहते हुए आपत्ति जताई है कि यह पाकिस्तान के कानून का उलंघन करती है।

चीनी Huawei, ZTE को स्वीडन ने भी प्रतिबंध लगा कर भगाया, कहा – ‘चोरी करके अपनी सेना की ताकत बढ़ा रहा था’

स्वीडन की सेना और सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से सुझाव मिलने के बाद चीनी Huawei और ZTE को अगले महीने होने वाले स्पेक्ट्रम आवंटन से...

‘उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत’ – इस्लामी स्कॉलर अल यूसुफ

इस्लामी कट्टरपंथी ने कहा कि लोगों को इस बात पर गौर करना चाहिए कि आखिर किस कारण युवक ऐसा करने के लिए मजबूर हुआ।

तेजस्वी की भीड़ ‘इंक्रिडिबल’, मोदी की भीड़ से कोरोना: स्टार प्रचारक सागरिका घोष ने बाँटा ज्ञान

सागरिका घोष ने तेजस्वी यादव की चुनावी रैली को तो 'इंक्रिडिबल' बताया मगर PM मोदी को ये नसीहत देती देखी गई कि उन्हें कोरोना के कारण बिहार में चुनावी रैली नहीं करनी चाहिए।

ईद पर झुक कर सलाम Vs नवरात्र पर कटरीना वाली ‘रात’ और सलमान की ‘डंडी’: Eros Now ने माँगी माफी

इरोज नाउ ने ईद के मौके पर पहले शालीनता से बधाईयाँ दी हैं। वहीं नवरात्र के मौके पर दोयम दर्जे की मानसिकता का प्रदर्शन किया है।

पैगंबर मोहम्मद पर पोस्ट करने वाले कॉन्ग्रेस MLA के भतीजे को जमानत, इसी पोस्ट के कारण हुई थी बेंगलुरु हिंसा

कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनकर कहा कि जिन धाराओं में नवीन के ख़िलाफ़ मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें अधिकतम सजा की अवधि तीन वर्ष है और...

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

पैगंबर मोहम्मद के ढेर सारे कार्टून… वो भी सरकारी बिल्डिंग पर: फ्रांस में टीचर के गला काटने के बाद फूटा लोगों का गुस्सा

गला काटे गए शिक्षक सैम्युएल पैटी को याद करते हुए और अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थन करने के लिए पैगम्बर मोहम्मद के कार्टूनों का...

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

दाढ़ी नहीं कटाने पर यूपी पुलिस के SI इंतसार अली को किया गया सस्पेंड, 3 बार एसपी से मिल चुकी थी चेतावनी

"इंतसार अली बिना किसी भी तरह की आज्ञा लिए दाढ़ी रख रहे थे। कई बार शिकायत मिल चुकी थी। इस संबंध में उन्हें 3 बार चेतावनी दी गई और..."
- विज्ञापन -

शिया विरोधी दंगों की खबर ट्वीट करने पर ट्विटर ने दिया भारतीय सम्पादक को ‘पाकिस्तानी कानून’ वाला नोटिस

ट्विटर ने दक्षिणपंथी पोर्टल 'ऑर्गनाइज़र' के संपादक प्रफुल्ल केतकर की एक रिपोर्ट पर यह कहते हुए आपत्ति जताई है कि यह पाकिस्तान के कानून का उलंघन करती है।

चीनी Huawei, ZTE को स्वीडन ने भी प्रतिबंध लगा कर भगाया, कहा – ‘चोरी करके अपनी सेना की ताकत बढ़ा रहा था’

स्वीडन की सेना और सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से सुझाव मिलने के बाद चीनी Huawei और ZTE को अगले महीने होने वाले स्पेक्ट्रम आवंटन से...

‘उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत’ – इस्लामी स्कॉलर अल यूसुफ

इस्लामी कट्टरपंथी ने कहा कि लोगों को इस बात पर गौर करना चाहिए कि आखिर किस कारण युवक ऐसा करने के लिए मजबूर हुआ।

तेजस्वी की भीड़ ‘इंक्रिडिबल’, मोदी की भीड़ से कोरोना: स्टार प्रचारक सागरिका घोष ने बाँटा ज्ञान

सागरिका घोष ने तेजस्वी यादव की चुनावी रैली को तो 'इंक्रिडिबल' बताया मगर PM मोदी को ये नसीहत देती देखी गई कि उन्हें कोरोना के कारण बिहार में चुनावी रैली नहीं करनी चाहिए।

सलमान लड़कियों को वीडियो कॉल करके दिखाता था अपना प्राइवेट पार्ट, फोट काटने पर 30 महिलाओं को भेज चुका था ‘गंदी वीडियो’

सलमान राजस्थान में रहने वाले अपने दोस्त का नंबर इस्तेमाल कर रहा था। उसने इस नंबर से कई अन्य महिलाओं के साथ भी ऐसी बदसलूकी की थी।

ईद पर झुक कर सलाम Vs नवरात्र पर कटरीना वाली ‘रात’ और सलमान की ‘डंडी’: Eros Now ने माँगी माफी

इरोज नाउ ने ईद के मौके पर पहले शालीनता से बधाईयाँ दी हैं। वहीं नवरात्र के मौके पर दोयम दर्जे की मानसिकता का प्रदर्शन किया है।

पैगंबर मोहम्मद पर पोस्ट करने वाले कॉन्ग्रेस MLA के भतीजे को जमानत, इसी पोस्ट के कारण हुई थी बेंगलुरु हिंसा

कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनकर कहा कि जिन धाराओं में नवीन के ख़िलाफ़ मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें अधिकतम सजा की अवधि तीन वर्ष है और...

‘गधा ओवैसी जोकर जहाँ दिखे उसे चप्पलों से मारना चाहिए’: मुग़ल प्रिंस तुसी का फूटा KCR-ओवैसी पर गुस्सा

तुसी ने ओवैसी को लताड़ लगते हुए कहा, "कमीने तुझे शर्म आनी चाहिए, तू शर्म से मर जा रे कमीने तू, गधा, बेवकूफ। मैं आवाम से कहूँगा कि चप्पल से मारें इसको।"

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: बिहार में बिल गेट्स वाला गाँव, उस ‘इवेंट मैनेजमेंट’ से क्या हुआ? | Bill Gates took photos here

2011 में यह गाँव मीडिया की सुर्खियों में था। यहाँ की एक बिटिया, जिसका नाम रानी है, को बिल गेट्स ने गोद में लिया था। लेकिन 10 साल बाद भी...

ब्रजेश पांडे, जिन्नावादी उस्मानी को कॉन्ग्रेस का टिकट: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Congress becoming Muslim League

मशकूर अहमद उस्मानी को दरभंगा के जाले से टिकट दिया गया है, तो वहीं ब्रजेश पांडे को रोहिनगंज नाम की जगह से टिकट मिला है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,979FollowersFollow
336,000SubscribersSubscribe