Wednesday, June 16, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष हम भी रेले गए थे, तुम भी रेले जाओगे: उद्धव ठाकरे को मिली कुमारस्वामी...

हम भी रेले गए थे, तुम भी रेले जाओगे: उद्धव ठाकरे को मिली कुमारस्वामी की चिट्ठी

राजनीति में जो भी होता है, हमारा परिवार वर्षों पहले कर चुका होता है। मैं दो-दो बार एक्सीडेंटल सीएम बना। मेरे पिता एक्सीडेंटल प्रधानमंत्री बने। उन्होंने ख़ुद कहा था कि मनमोहन नहीं, बल्कि असली एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर तो वे हैं। इसलिए, याद रखिएगा हम भी रेले गए थे। आप भी रेले जाएँगे।

प्रिय उद्धव बाला साहब ठाकरे,

ख़बरों में देखा कि आपने कॉन्ग्रेस के समर्थन से मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। मैंने भी ली थी। आपने बहुमत भी साबित कर दिया। मैंने भी कर दिया था। आपने भी मोटाभाई का इगो हर्ट किया। मैंने भी किया था। आपने 3 दिन के भाजपाई सीएम से इस्तीफा दिलवा कर अपना राज़ क़ायम किया। मैंने भी ऐसा ही किया था। आपके शपथग्रहण समारोह में विपक्ष के कई नेता मौजूद रहे और इसे ख़ूब सुर्खियाँ मिलीं। मैंने भी बटोरी थी। मेरे शपथग्रहण समारोह में तो विपक्षी नेताओं का जमावड़ा लग गया था। मायावती और सोनिया गाँधी ने एक-दूसरे से प्यार जताया था। ममता बनर्जी और अरविन्द केजरीवाल ने गलबहियाँ डाल कर विपक्षी एकता की मिसाल क़ायम की थी।

लेकिन प्रिय उद्धव, अंत में क्या हुआ? हम भी रेले गए, आप भी रेले जाएँगे। याद रखिए, मुख्यमंत्री तो मैं था लेकिन पावर सेंटर सिद्दारमैया था। ख़ुद के हालात देखिए। भले मुख्यमंत्री मातोश्री का हो लेकिन सत्ता तो ‘सिल्वर ओक’ से ही चलेगी न। मेरे पिता की कुछ महत्वाकांक्षाएँ थीं तो आपके बेटे की है। मेरा कार्यकाल रोते-रोते बीता और मैं 5 साल तो क्या, डेढ़ वर्ष भी पूरे नहीं कर पाया। फिर आपकी तीन पहिए वाली सरकार का संतुलन कब तक बना रहेगा, ये सोचने वाली बात है। हमनें डीके शिवकुमार पर भरोसा किया था, आपने संजय राउत पर किया है।

प्रिय उद्धव, हम दोनों ही खानदानी हैं। मुझे भी अपने बेटे का करियर बनाना था, वो भी चौपट होता दिख रहा है। आपने देखा न, हाल ही मैं कैसे मांड्या में रोया? ये वही लोकसभा क्षेत्र है, जहाँ से मेरे बेटे को लड़ाया गया था। वो हार गया। मुझे बहुत रोना आया और मैं रैली में ही रो पड़ा। मैं नहीं चाहता कि आपके मुख्यमंत्री बनने के कारण आदित्य का भी करियर बर्बाद हो। समय रहते संभल जाएँ। मेरी तरह आपका परिवार भी बड़ा है। मुझे पता है कि आपको भी अपनों का राजनीतिक भविष्य बनाना है। ये सही है कि आप मुंबई पर राज़ करने का दावा करते हैं, लेकिन मैसूर में अपने ठाठ भी किसी से कम हैं क्या?

ऐसा नहीं है कि मैं कमज़ोर हूँ। ठाकरे खानदान के जो तेवर हैं, उससे कम नहीं है मेरा परिवार। अब देखिए न, मेरा बेटा ही मेरे पूर्व-प्रधानमंत्री पिता पर चिल्लाया। एक अखबार ने इस ख़बर को छापा। मेरे तेवर तो देखो। मैंने उस अख़बार के संपादक और इस ख़बर को लिखने वाले तक पर केस दर्ज कराया। मेरी पुलिस थी, उन्हें जम कर हड़काया। मीडिया भी अजीब है न! हम विपक्षी दल अपने राज्यों में पत्रकारों को पटक कर मारें, तब भी लोकतंत्र ख़तरे में नहीं आता। भाजपा शासित राज्यों में किसी पत्रकार के घर की खिड़की के शीशे पर कौवा बीट कर दे तो इसे भी ‘लोकतंत्र की हत्या’ की श्रेणी में रखा जाता है। बड़ा मज़ा आया ये खेल देख कर। लेकिन अब देखो उद्धव जी। अब मेरे पर ही राजद्रोह का मुक़दमा दर्ज हुआ है। सिद्दरामैया भी लपेटे में आया है। मुझे भले ही जो सज़ा हो, मैं चाहता हूँ सिद्दा को भी सज़ा मिले।

मैं सोनिया गाँधी के आशीर्वाद से मुख्यमंत्री बना। आप सोनिया गाँधी की क़सम खा कर मुख्यमंत्री बने। मेरे पापा ने राजनीति में न जाने कितने सिद्दारमैया पैदा कर छोड़ दिए। आपके पापा ने भी जिसके सिर पर हाथ रख दिया, वही बेताज बादशाह बन गया। आपके पिताजी तो धरती छोड़ चले गए। मेरे ज़िंदा हैं। रोने के लिए। हम दोनों बाप-बेटे जब तक दिन में तीन बार रो न लें, तब तक हमारे मन में एक कुलबुलाहट सी मची रहती है। बस एक बार मुख्यमंत्री पद हथिया लेने की इतनी बड़ी सज़ा। अभी भी मौक़ा है उद्धव दादा। मेरे अनुभवों से सीखिए।

आपको क्या लगता है? अजित पवार ने कुछ नया किया। राजनीति में जो भी होता है, हमारा परिवार वर्षों पहले कर चुका होता है। मैं दो-दो बार एक्सीडेंटल सीएम बना। मेरे पिता एक्सीडेंटल प्रधानमंत्री बने। उन्होंने ख़ुद कहा था कि मनमोहन नहीं, बल्कि असली एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर तो वे हैं। अजित ने अपने चाचा से बगावत की और 3 दिन के लिए डिप्टी सीएम बने। मैंने तो अपने पिता से ही बगावत कर 1 साल 8 महीने सरकार चलाई थी। मेरे पास शासकीय अनुभव था, तब भी मेरा ये हाल हुआ। आपने तो पहली बार कोई पद संभाला है।

आपने आरे जंगलों की कटाई रोक दी है। मुझ पर तो 300 नेताओं की फोन टैपिंग का मामला चल रहा है। क्या आप इससे ज्यादा तानाशाही दिखा पाओगे? मैं व्यथित हूँ। राजनीति से संन्यास की बातें करता हूँ। जब सीएम था, तब जो मेरा विरोध करते थे, उन्हें मैं लाठीचार्ज की खुली धमकी देता था। जब लोग किसी माँग को लेकर प्रदर्शन करते थे तो मैं सीधा कहता था कि मोदी को वोट देने वाले लोग मोदी के पास जा कर दुखड़ा रोएँ। उद्धव, कहीं ऐसा न हो कि आपका दुखड़ा सुनने वाला ही कोई न रहे। मेरा तो दिल यही कहता है- हम भी रेले गए थे, आप भी रेले जाओगे। मेरी पार्टी विधानसभा में तीसरे नंबर की पार्टी है। आपकी दूसरे नंबर की है। ध्यान रखिएगा।

आपके बेटे को मीडिया भाव नहीं देता है। किसी ने तो पप्पू भी बुला दिया था। मेरे भी बेटे को भी मीडिया भाव नहीं देता है। मैंने तो इसके लिए मीडिया का खुला बहिष्कार भी कर डाला था। मैं वंशवादी राजनीति को देश के विकास का कारण मानता हूँ। मुझे पता है, आपकी भी आस्था वंशवादी राजनीति में ज़रूर होगी। ऐसा मत समझना कि कॉन्ग्रेस मेरे साथ मज़बूरी से खड़ी नहीं थी। मेरे बेटे की उम्मीदवारी का विरोध करने पर कॉन्ग्रेस ने अपने 7 नेताओं को पार्टी से निकाल बाहर किया था। अहा! क्या प्रेम दिखाती थी कॉन्ग्रेस! आपके साथ भी ऐसा ही हो रहा है न? मुझे डेजा-वू वाली फीलिंग आ रही है। उद्धव, याद रखना। हम भी रेले गए थे, आप भी रेले जाओगे।

मैं ईमानदार हूँ। जो सच है, उसे बोल देता हूँ। महाराष्ट्र में जो भी हुआ, वो मौक़ापरस्ती का एक उदाहरण है। ऐसी अवसरवादी राजनीति सभी करते हैं। मैंने भी की है। मैं कौन सा दूध का धुला हूँ? हाँ, दूध से याद आया। एक राज़ की बात सुनो। मोदीजी इसीलिए सफ़ेद दिखते हैं क्योंकि वो रोज़ वैक्स लगाते हैं। हम तो वैसे ही मुँह धो कर आ जाते हैं।

अंत में यही कहना चाहूँगा कि आपको जब इस्तीफा देना पड़े तो बंगलौर चले आना। साथ मिल कर रोएँगे। और हाँ, अब ये मत कहना कि आपसे मिलने लोग मातोश्री आते हैं, आप किसी से मिलने नहीं जाते। वो ज़माना बीत गया अब। मैंने देखा कि कैसे आप सरकार गठन से पहले होटलों के बैकडोर से शरद पवार व कॉन्ग्रेस नेताओं से मिलने जाया करते थे। मेरे पिताजी योग एक्सपर्ट हैं। वो हम दोनों को योग सिखाएँगे। शाह को कैसे भूलें, इसका उपाय बताएँगे। बाकी विशेष क्या कहूँ? बस हर छोटे-बड़े निर्णय लेने से पहले ‘सिल्वर ओक’ और ’10 जनपथ’ फोन घूमा कर अनुमति ज़रूर ले लेना।

तुम्हारा शुभचिंतक
हरदनहल्ली देवेगौड़ा कुमारस्वामी
जेपी नगर, बंगलौर

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

LJP की फाइट से ‘यौन शोषण’ बाहर निकला , चिराग ने कहा- ‘शेर के बेटे को चाचा ने कर दिया अनाथ’

पशुपति पारस के आवास के बाहर चिराग पासवान के समर्थकों ने प्रदर्शन भी किया। चिराग पासवान ने कहा कि जब वो बीमार थे, तब उनके पीठ पीछे पार्टी को तोड़ने की साजिश रची गई।

जैसे-जैसे फूटा लेफ्ट-कॉन्ग्रेस-इस्लामी इकोसिस्टम का बुलबुला, वैसे-वैसे बढ़ता गया ‘जय श्रीराम’ पर प्रोपेगेंडा 

कम्युनिस्ट-कॉन्ग्रेस-मीडिया-बुद्धिजीवियों के गठबंधन को पहली चोट जय श्रीराम से ही लगी थी। मोदी के उदय ने इसे और गहरा कर दिया।

अविवाहित रहे, राम मंदिर के लिए जीवन खपा दिया, आपातकाल में 18 महीने की जेल झेली: जानिए कौन हैं VHP के चंपत राय

धामपुर के RSM डिग्री कॉलेज में रसायन विज्ञान के प्रोफेसर रहे चंपत राय सुप्रीम कोर्ट में चली राम मंदिर के मुकदमे की सुनवाई में मुख्य पैरोकार एवं पक्षकार रहे हैं।

यूपी में एक्शन ट्विटर का सुरक्षा कवच हटने का आधिकारिक प्रमाण: IT और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 9 ट्वीट में लताड़ा

यह एक्शन इस बात का प्रमाण भी है कि मध्यस्थता प्लेटफार्म के रूप में ट्विटर को जो कानूनी छूट प्रदान की गई थी, वह अब आधिकारिक रूप से समाप्त हो गई है।

हत्या, बच्चे को गोली मारी, छात्रों को सस्पेंड किया: 15 घटनाएँ, जब ‘जय श्री राम’ कहने पर हिन्दुओं के साथ हुई क्रूरता

अब ऐसी घटनाओं को देखिए, जहाँ 'जय श्री राम' कहने पर हिन्दुओं की हत्या तक कर दी गई। गौर करने वाली बात ये कि इस तरह की घटनाओं पर कोई आउटरेज नहीं हुआ।

3 कॉन्ग्रेसी, 2 प्रोपेगंडा पत्रकार: जुबैर के अलावा इन 5 पर भी यूपी में FIR, ‘जय श्रीराम’ पर फैलाया था झूठ

डॉक्टर शमा मोहम्मद कॉन्ग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। सबा नकवी खुद को राजनीतिक विश्लेषक बताती हैं। राना अयूब को 'वाशिंगटन पोस्ट' ने ग्लोबल एडिटर बना रखा है। कॉन्ग्रेसी मशकूर अहमद AMU छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। पीएम मोदी के माता-पिता पर टिप्पणी कर चुके सलमान निजामी जम्मू कश्मीर के कॉन्ग्रेस नेता हैं।

प्रचलित ख़बरें

‘राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया’: लोनी घटना के ट्वीट पर नहीं लगा ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ टैग, ट्विटर सहित 8 पर FIR

"लोनी घटना के बाद आए ट्विट्स के मद्देनजर योगी सरकार ने ट्विटर के विरुद्ध मुकदमा दायर किया है और कहा है कि ट्विटर ऐसे ट्वीट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग नहीं लगा पाया। राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया है।"

‘जो मस्जिद शहीद कर रहे, उसी के हाथों बिक गए, 20 दिलवा दूँगा- इज्जत बचा लो’: सपा सांसद ST हसन का ऑडियो वायरल

10 मिनट 34 सेकंड के इस ऑडियो में सांसद डॉ. एस.टी. हसन कह रहे हैं, "तुम मुझे बेवकूफ समझ रहे हो या तुम अधिक चालाक हो... अगर तुम बिक गए हो तो बताया क्यों नहीं कि मैं भी बिक गया।

‘मुस्लिम बुजुर्ग को पीटा-दाढ़ी काटी, बुलवाया जय श्री राम’: आरोपितों में आरिफ, आदिल और मुशाहिद भी, ज़ुबैर-ओवैसी ने छिपाया

ओवैसी ने लिखा कि मुस्लिमों की प्रतिष्ठा 'हिंदूवादी गुंडों' द्वारा छीनी जा रहीहै । इसी तरह ज़ुबैर ने भी इस खबर को शेयर कर झूठ फैलाया।

राम मंदिर की जमीन पर ‘खेल’ के दो सूत्र: अखिलेश यादव के करीबी हैं सुल्तान अंसारी और पवन पांडेय, 10 साल में बढ़े दाम

भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय 'पवन' और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से सुल्तान के काफी अच्छे रिश्ते हैं।

‘इस बार माफी पर न छोड़े’: राम मंदिर पर गुमराह करने वाली AAP के नेताओं ने जब ‘सॉरी’ कह बचाई जान

राम मंदिर में जमीन घोटाले के बेबुनियाद आरोपों के बाद आप नेताओं पर कड़ी कार्रवाई की माँग हो रही है।

फाइव स्टार होटल से पकड़ी गई हिरोइन नायरा शाह, आशिक हुसैन के साथ चरस फूँक रही थी

मुंबई पुलिस ने ड्रग्स का सेवन करने के आरोप में एक्ट्रेस नायरा नेहल शाह और उनके दोस्त आशिक साजिद हुसैन को गिरफ्तार किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,290FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe