Saturday, July 20, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिभावुक माहौल के बीच बागेश्वर धाम में वैवाहिक बंधन में बँधे 125 जोड़े, इनमें...

भावुक माहौल के बीच बागेश्वर धाम में वैवाहिक बंधन में बँधे 125 जोड़े, इनमें 58 अनाथ लड़कियाँ: माँ के चरणों में दंडवत दिखे पंडित धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री

बागेश्वर धाम में बीते 4 सालों से अन्नपूर्णा भंडारा चल रहा है। इस भंडारे में हर रोज हजारों लोग प्रसाद ग्रहण करते हैं। 'कन्या विवाह' के इस कार्यक्रम के लिए भंडारे की अलग से व्यवस्था की गई थी।

मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित बागेश्वर धाम में रविवार (18 फरवरी 2023) को सामूहिक कन्या विवाह संपन्न हुआ। महाशिवरात्रि के मौके पर आयोजित इस विवाह सम्मेलन में 125 जोड़े विवाह बंधन में बंध गए। इसमें शामिल हुई 125 लड़कियों में से 58 ऐसी लड़कियाँ थीं, जिनके माता या पिता का निधन हो चुका है। शादी के बाद विदाई के दौरान, लड़कियों समेत बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री भी भावुक नजर आए।

ऐसी थी तैयारियाँ

बागेश्वर धाम में बीते 4 वर्षों से ‘कन्या विवाह’ का आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष हुए इस सामूहिक विवाह की तैयारियाँ महीनों पहले शुरू हो गईं थीं। इसके लिए सभी जोड़ों के लिए अलग-अलग पंडाल या विवाह मंडप बनाए गए थे। वर-वधु के परिजनों को पहले ही मंडप नंबर दे दिया गया था। यही नहीं, धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने लड़कियों के लहँगे और लड़कों की शेरवानी भी पहले ही उनके परिजनों को दे दी थी।

परिणय सूत्र में बाँधने के लिए सभी 125 जोड़े सुबह 7 से ही बागेश्वर धाम पहुँचना शुरू हो गए थे। इसके बाद करीब 10 बजे से शादी की रस्मों की शुरुआत हुई। धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने सभी कन्याओं का कन्यादान करते हुए रस्मों को आगे बढ़ाया। बैंड-बाजे की धमक और मंत्रोच्चारण गूँज के साथ वर-वधु शादी के बंधन में बंध गए।

इस मौके पर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने कहा कि उन्होंने गरीबी बेहद करीब से देखी है। गरीबी से ही उन्हें गरीब कन्याओं के विवाह की प्रेरणा मिली। बागेश्वर बालाजी की कृपा से कन्याओं के विवाह का यह क्रम चलता रहेगा।

बागेश्वर धाम से मिली गृहस्थी की सामग्री

विवाहित जोड़ों को बागेश्वर धाम सेवा समिति की ओर से गृहस्थ की पूरी सामग्री दी जाती है। इसमें टीवी, फ्रिज, कूलर, बेड, सोफा, अलमारी, गैस सिलेंडर, बर्तन साड़ी, सोने-चाँदी के आभूषण सहित 70 सामग्री उपहार में दी गई। इस दौरान किन्नर समाज ने भी आशीर्वाद देते हुए सभी जोड़ों को 5-5 साड़ियाँ बतौर उपहार भेंट की।

इस कार्यक्रम के दौरान, मलूक पीठाधीश्वर राजेंद्र दास की महाराज, इंग्लैंड से आए राजराजेश्वर महाराज, किशोर दास महाराज, अनिरुद्धाचार्य महाराज के साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष और खजुराहो सांसद वीडी शर्मा, अभिनेता गोविंद नामदेव, वन मंत्री विजय शाह, ब्रिटेन राजपरिवार के प्रतिनिधि साइमन ओवन्स समेत कई अन्य हस्ती मौजूद रहे।

पूरियाँ बेले, माँ के चरणों में दिखे धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री

बागेश्वर धाम में बीते 4 सालों से अन्नपूर्णा भंडारा चल रहा है। इस भंडारे में हर रोज हजारों लोग प्रसाद ग्रहण करते हैं। ‘कन्या विवाह’ के इस कार्यक्रम के लिए भंडारे की अलग से व्यवस्था की गई थी। इस दौरान धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री भंडारे का लिए खाना बना रही महिलाओं के साथ पूरियाँ बेलते दिखाई दिए। यही नहीं, उनकी एक फोटो भी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। इस फोटो में वह अपनी माँ को दंडवत प्रणाम करते दिखाई दे रहे हैं।

भावुक हुआ ‘बागेश्वर धाम’

125 कन्याओं के विवाह के बाद जब विदाई का समय आया तो बागेश्वर धाम में मौजूद हर आँखें नम दिखाई दी। दरअसल, विदाई के पहले तक वहाँ सब कुछ सामान्य चल रहा था। हर ओर खुशियाँ हुई थीं। लेकिन विदाई के दौरान जब लड़कियों ने रोना शुरू किया तो उनके परिजनों सहित इस विवाह सम्मेलन का हिस्सा बनने आए लाखों लोग भावुक नजर आए। यही नहीं, ‘बेटियों’ को रोता देख बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री भी भावुक हो गए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -