Thursday, July 18, 2024
Homeविविध विषयअन्यइंग्लैंड के क्रिकेटर शोएब बशीर को नहीं मिला वीजा तो रोने-धोने पर उतरा ब्रिटिश...

इंग्लैंड के क्रिकेटर शोएब बशीर को नहीं मिला वीजा तो रोने-धोने पर उतरा ब्रिटिश मीडिया, रोहित शर्मा बोले – मैं वीजा ऑफिस में नहीं बैठता

इंग्लैंड की टीम भारत में 5 टेस्ट मैच खेलने के लिए आई है। यह टीम बेन स्टोक्स की कप्तानी में आई है। इसका भारत से पहला टेस्ट मैच कल (24 जनवरी, 2024) से हैदराबाद में होना है।

इंग्लैंड के पाकिस्तानी मूल के गेंदबाज शोएब बशीर को भारत में टेस्ट खेलने के लिए वीजा मिलने में हुई देरी पर ब्रिटिश मीडिया रो रहा है। कुछ ब्रिटिश संस्थान भारत के साथ टेस्ट ना खेलने की अपील भी कर रहे हैं। वहीं भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा ने इस मुद्दे पर करारा जवाब दिया है।

इंग्लैंड की टीम भारत में 5 टेस्ट मैच खेलने के लिए आई है। यह टीम बेन स्टोक्स की कप्तानी में आई है। इसका भारत से पहला टेस्ट मैच कल (24 जनवरी, 2024) से हैदराबाद में होना है। इंग्लैंड के दौरे के लिए स्पिनर शोएब बशीर को टीम में शामिल किया गया था। यह उन डेब्यू मैच होता। अभी तक वह जूनियर लेवल का क्रिकेट खेलते थे।

20 वर्षीय शोएब बशीर को बाकी टीम के साथ भारत आना था। हालाँकि, उनको भारत में वीजा मिलने में कुछ दिक्कतें आईं। उनका वीजा अभी तक जारी नहीं हो पाया है। शोएब का वीजा जारी ना हो पाने के पीछे बताया जा रहा है कि वह लंदन में नहीं थे इसलिए उनका वीजा रुका है। बताया जा रहा है कि शोएब बशीर के वीजा पर लंदन स्थित भारतीय दूतावास में मोहर लगनी थी लेकिन उन्हें इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने दुबई भेज दिया इसलिए उनके वीजा में देरी हुई।

शोएब बशीर स्वयं तो ब्रिटिश नागरिक हैं लेकिन उनके माता-पिता पाकिस्तान से इंग्लैंड आए थे। शोएब अभी तक अबूधाबी में थे लेकिन वीजा में आ रही दिक्कतों के कारण अब वह वापस इंग्लैंड चले गए हैं। उन्हें पहले मैच के लिए इंग्लैंड की टीम से बाहर कर दिया गया है।

शोएब बशीर के वीजा ना मिलने पर इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स ने कहा, “मैं नहीं चाहूँगा कि उसका (शोएब बशीर) का इंग्लैंड टीम में होने का पहला अनुभव इस प्रकार का हो, यह एक नए लड़के के लिए अच्छा नहीं है।” बेन स्टोक्स ने वीजा ना मिलने पर हैरानी भी जताई। वहीं भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने इस मामले में सवाल पूछे जाने पर कहा, “मैं शोएब का दर्द समझता हूँ लेकिन मैं वीजा ऑफिस में तो नहीं बैठता ना। मुझे उम्मीद है कि उसे वीजा मिल जाएगा और वह भारत खेलने आएगा।”

ब्रिटिश मीडिया ने भी इस मुद्दे में टिप्पणियाँ की हैं। ब्रिटिश मीडिया ने अपील की है कि इंग्लैंड भारत में अपना पहला मैच ना खेले क्योंकि उसके एक खिलाड़ी को वीजा ना मिले। यह अपील औपनिवेशिक मानसिकता रखने वाले ‘द टेलीग्राफ’ ने की है। अन्य ब्रिटिश मीडिया संस्थानों ने भी इसी तरह का प्रलाप किया है।

वहीं पूर्व भारतीय क्रिकेटर वेंकटेश प्रसाद ने असली कारण को उजागर करते हुए ब्रिटेन के रोने-धोने पर हमला बोला है। वेंकटेश प्रसाद ने लिखा, “ब्रिटेन में उनके (शोएब बशीर के) वीज़ा पर मोहर लगनी ज़रूरी थी। ECB ने यह सोचकर शोएब बशीर को UAE भेजा कि किसी तीसरे देश में इस पर मुहर लग जाएगी। बुनियादी प्रक्रियाओं का पालन न करना, चीजो को अपने हिसाब से मान लेना और फिर रोना-धोना अंग्रेजों की पुरानी आदत है। यदि यहाँ को दोषी है तो ECB है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -