Thursday, July 25, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'टैलेंट की परवाह नहीं, वो देखते हैं कितना हैंडसम है': बोले अन्नू कपूर -...

‘टैलेंट की परवाह नहीं, वो देखते हैं कितना हैंडसम है’: बोले अन्नू कपूर – 40 साल बाद भी संघर्ष कर रहा, घर चलाने के लिए करनी पड़ती हैं ना पसंद आने वाली फ़िल्में भी

"मेरा विश्वास करो, ये सभी ओटीटी चैनल करीना कपूर को लेना चाहेंगे। वे पहले करीना कपूर और मशहूर सितारों से संपर्क करेंगे। ये सेलिब्रिटी हैं और इन्हें दिखाकर मोटी कमाई की जा सकती हैं।"

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता अन्नू कपूर (Annu Kapoor) अमेजन प्राइम वीडियो की वेबसीरीज ‘क्रैश कोर्स’ को लेकर चर्चा में हैं। वह ‘क्रैश कोर्स’ में बिल्कुल नए अंदाज में दर्शकों के सामने आ रहे हैं। इसमें उन्होंने रतन राज जिंदल की भूमिका निभाई है। वेब सीरीज के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि अगर उन्होंने यह किरदार नहीं निभाया होता तो उन्हें इसका पछतावा होता। उन्होंने कहा “मैंने हमेशा विभिन्न प्रकार की भूमिकाएँ निभाने की कोशिश की और उस प्रक्रिया में मैंने ‘क्रैश कोर्स’ की पटकथा सुनी, जो मुझे हटकर लगी। मैंने इसे पढ़ते ही इसके लिए हाँ कर दी। मुझे लगता है कि अगर मैंने यह किरदार नहीं निभाया होता तो मुझे इसका पछतावा होता।”

इसके अलावा उन्होंने हिंदुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में कहा, “शुरुआत में मुझे कथित हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में घबराहट हुआ करती थी। मैंने पैसों के लिए ऐसे प्रोजेक्ट किए जो मुझे पसंद भी नहीं थे।” उन्होंने कहा कि वे टेलीविजन में काम नहीं करना चाहते थे, लेकिन पैसों के लिए उन्होंने न चाहते हुए भी उसमें काम किया। बॉलीवुड के सभी लोगों, आइकॉन को पैसे और एक्सपोजर के कारण यहाँ आना होगा। कई सितारे टेलीविजन पर आए और वे सभी ओटीटी पर भी आ रहे हैं।”

बॉलीवुड में 40 साल से अधिक समय से अन्नू कपूर सक्रिय हैं। उनके मुताबिक, “सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर आपको कोई न कोई प्रैंक, डांस या फिर लोगों का एंटरटेनमेंट करते हुए नजर आ जाएगा। इंस्टाग्राम पर आप देख सकते हैं कि कैसे ये लोगों का एंटरटेनमेंट करने के लिए डांस कर रहे होते हैं, क्योंकि इन्हें इसके लिए पैसे मिलते हैं। इसमें कुछ भी गलत नहीं है, जब तक आप किसी को बिना नुकसान पहुँचाए, चोरी किए या अपने देश को धोखा दिए बिना पैसा कमा रहे हैं। यह ठीक है, मैं भी पैसों के लिए काम करता हूँ, क्योंकि पैसा ही बोलता है।”

वह यहीं नहीं रुकते आगे कहते हैं, “मैं केवल पैसों के लिए काम करता हूँ। कई बार कंटेंट पसंद न आने पर भी मुझे कई प्रोजेक्ट करने पड़ते हैं। उन्होंने कहा, “मैं इन सबसे काफी आहत और निराश होता हूँ, लेकिन मैं क्या कर सकता हूँ? मुझे अपना घर भी चलाना है, अपने परिवार का पेट भी पालना है। मैं अमिताभ बच्चन, शाहरुख खान या सलमान खान नहीं हूँ, मैं 40 साल बाद भी एक बहुत छोटा संघर्षशील अभिनेता हूँ। इस देश में, किसी को परवाह नहीं है कि आप कितने प्रतिभाशाली और अपने काम के प्रति समर्पित हैं, जब तक आप हैंडसम हैं और आपने बतौर हीरो एक-दो फिल्में की हैं। यह ठीक है।”

इन दिनों एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में बड़ा बदलाव देखने को मिला है, जहाँ स्टारडम सफलता की गारंटी नहीं है और कंटेंट ही किंग है। इसके जवाब में अन्नू ने कहा कि पहले भी ऐसा ही था, लेकिन लोगों को इसके बारे में पता नहीं चला, क्योंकि मीडिया आज की तरह पॉवरफुल नहीं था। हालाँकि, इस बात से वह सहमत नजर नहीं आए कि आजकल स्टारडम का कोई मतलब नहीं है।

करीना कपूर (Kareena Kapoor khan)के हालिया बयान, ‘अगर आप प्रतिभावान हैं तो आपको काम मिलता रहेगा’ इसके बारे में पूछे जाने पर दिग्गज अभिनेता ने कहा, “उन्होंने (सितारों ने) कमाया है, उन्होंने अपनी पारी खेली है और वे खेलेंगे। मेरा विश्वास करो, ये सभी ओटीटी चैनल करीना कपूर को लेना चाहेंगे। वे पहले करीना कपूर और मशहूर सितारों से संपर्क करेंगे। ये सेलिब्रिटी हैं और इन्हें दिखाकर मोटी कमाई की जा सकती हैं।”

बता दें कि ‘क्रैश कोर्स’ वेब सीरीज 5 अगस्त को OTT प्लेटफार्म अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज की जाएगी। इसे विजय मौर्य ने डायरेक्ट किया है और मनीष हरिप्रसाद ने इसकी स्क्रिप्ट तैयार की है। ‘क्रैश कोर्स’ में अन्नू कपूर के अलावा भानु उदय, उदित अरोड़ा और प्रणय पचौरी भी मुख्य किरदार में हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -