Friday, July 19, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'डायरेक्टर को गाली, कलाकारों के रोल काटने वाली' - अनुराग कश्यप के इस आरोप...

‘डायरेक्टर को गाली, कलाकारों के रोल काटने वाली’ – अनुराग कश्यप के इस आरोप पर कंगना ने कहा ‘मिनी महेश भट्ट’

अनुराग कश्यप पर पलटवार करते हुए कंगना रनौत ने आरोप लगाया कि जैसे राष्ट्रद्रोही और अर्बन-नक्सली आतंकियों को बचाते हैं, ऐसे ही ये लोग फ़िल्मी माफिया का भी बचाव कर रहे हैं।

कंगना रनौत पर हमला करने वालों में ताज़ा नाम अनुराग कश्यप का जुड़ा है, जिन्होंने दावा किया कि वो पहले उनकी बहुत अच्छी दोस्त हुआ करती थीं। वो कंगना रनौत द्वारा ‘मणिकर्णिका’ फिल्म के दौरान दिए गए इंटरव्यू से भड़के हुए थे। उन्होंने इसी इंटरव्यू को देख कर सोशल मीडिया के सहारे भला-बुरा बका। अनुराग कश्यप ने दावा किया कि उनकी दोस्त रहते हुए कंगना उनकी हर फिल्म पर हौंसला बढ़ाती थीं लेकिन ‘नई कंगना’ को वो नहीं जानते।

अनुराग कश्यप ने कंगना रनौत के इस इंटरव्यू को डरावना करार दिया। अनुराग कश्यप ने ज्ञान देते हुए कहा कि सफलता और ताक़त का नशा हर किसी को बराबर बहकाता है, चाहे वो इनसाइडर हो या आउटसाइडर। उन्होंने दावा किया कि कंगना अब ‘मुझसे सीखिए, मेरे जैसा बनिए’ कहते रहती हैं जबकि वो 2015 से पहले ऐसा नहीं करती थीं। बकौल अनुराग कश्यप, कंगना मानती हैं कि जो भी उनके साथ नहीं है, वो सब मतलबी व चापलूस है।

कंगना रनौत पर अनुराग कश्यप ने कई आरोप लगाए। जैसे- वो निर्देशकों को गाली देती हैं और एडिट में बैठ कर सह कलाकारों के रोल काट देती हैं। साथ ही ये भी आरोप लगाया कि पहले कंगना के साथ काम करने वाले जो निर्देशक उनकी सराहना करते थे, वो सब अब उनके साथ काम करने से डरते हैं। अनुराग ने दावा किया कि कंगना ने दूसरों को दबाने की ताक़त कमाई है। अनुराग कश्यप ने आगे कहा:

“मुझे और कुछ नहीं कहना है। कंगना क्या बकवास कर रही हैं? वो कुछ भी बिना सर-पैर की बातें बोल रही हैं। इन सब का अंत यहीं होगा। चूँकि मैं उसे बहुत मानता हूँ और यह कंगना मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रही है। बाक़ी बोलें ना बोलें, मैं तो बोलूँगा क्योंकि बहुत हो गया। अगर यह तुम्हारे घर वालों को भी नहीं दिखता और तुम्हारे दोस्तों को भी नहीं दिखता तो फिर एक ही सच है कि हर कोई तुम्हारा इस्तेमाल कर रहा है और तुम्हारा अपना आज कोई नहीं है। बाक़ी तुम्हारी मर्ज़ी, मुझे जो गाली बकनी है बको।

कंगना रनौत को अनुराग कश्यप ने कहा बुरा-भला

हालाँकि, अनुराग कश्यप के इन आरोपों का कंगना रनौत ने तगड़ा जवाब दिया। उन्होंने कश्यप को ‘मिनी महेश भट्ट’ करार दिया। कंगना ने कहा कि कश्यप समझते हैं कि वो एकदम अकेली हैं और उनके आसपास केवल फर्जी लोग हैं, जो उनका इस्तेमाल कर रहे हैं। लेकिन पलटवार करते हुए कंगना रनौत ने आरोप लगाया कि जैसे राष्ट्रद्रोही और अर्बन-नक्सली आतंकियों को बचाते हैं, ऐसे ही ये लोग फ़िल्मी माफिया का भी बचाव कर रहे हैं।

उधर स्वरा भास्कर ने भी कंगना रनौत पर तंज कसते हुए कहा कि उन्होंने ही 1955 में ‘पाथेर पांचाली’ के साथ समानांतर सिनेमा की शुरुआत की थी। साथ ही मजाक उड़ाते हुए ये भी कहा कि कंगना ने 2013 में ‘क्वीन’ के साथ फेमिनिज्म शुरू किया और 1947 में भारत को आजादी भी दिलाई। इस पर कंगना ने उन्हें याद दिलाया कि जब भारतीय सिनेमा का स्वर्ण युग था, तब स्वरा पैदा भी नहीं हुई थीं।

कंगना ने पलटवार में तंज जारी रखते हुए कहा कि इसके बाद बॉलीवुड माफिया और अंडरवर्ल्ड डॉन्स ने सिनेमा इंडस्ट्री पर कब्जा कर लिया। उन्होंने पूछा कि अगर ‘क्वीन’ के साथ पैरेलल सिनेमा की शुरुआत नहीं हुई तो स्वरा बता दें कि हुई कब? साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि स्वरा भास्कर ऐसी बातें कर के सुशांत सिंह राजपूत के हत्यारों को बचाना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे ही लोग देशद्रोहियों और आतंकवादियों का भी बचाव करते हैं।

बता दें कि अनुराग कश्यप अक्सर सोशल मीडिया पर गाली बकते रहते हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी अपशब्द कहे थे। अनुराग कश्यप ने सीएए विरोध प्रदर्शन के दौरान ट्विटर पर वापसी की थी। उससे पहले उन्होंने सोशल मीडिया पर कटुता होने की बात कहते हुए ट्विटर को अलविदा कह दिया था। अनुराग कश्यप को सोशल मीडिया पर कई लोग मानसिक पागल भी करार देते हैं। उन्होंने दंगाइयों का भी समर्थन किया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

5 साल में 123% तक बढ़ गए मुस्लिम वोटर, फैक्ट फाइडिंग रिपोर्ट से सामने आई झारखंड की 10 सीटों की जमीनी हकीकत: बाबूलाल का...

झारखंड की 10 विधानसभा सीटों के कई मुस्लिम बहुल बूथ पर 100% से अधिक वोटर बढ़ गए हैं। यह खुलासा भाजपा की एक रिपोर्ट में हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -