Friday, May 31, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनरोज कम हो रहे हैं 40-50,000 फ़ॉलोअर्स: कंगना रनौत ने ट्विटर पर लगाया 'घोस्ट...

रोज कम हो रहे हैं 40-50,000 फ़ॉलोअर्स: कंगना रनौत ने ट्विटर पर लगाया ‘घोस्ट बैन’ करने का आरोप

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद बॉलीवुड में नेपोटिज्म और मूवी माफिया के खिलाफ खुलकर बोलने के बाद कंगना रनौत आधिकारिक रूप से ट्विटर पर सक्रिय हुई हैं। ट्विटर पर अब उन्हें फॉलो करने वालों की संख्या 1 मिलियन हो चुकी है।

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत पिछले कुछ हफ्तों से ट्विटर पर काफी मुखर होकर अपनी बातें रख रही हैं। शुरुआत में अपनी टीम के माध्यम से बॉलीवुड और फिल्म उद्योग की कुछ बातों पर खुलासे करने और कड़े बयान देने के बाद कंगना रनौत कुछ दिनों पहले आधिकारिक तौर पर ट्विटर से जुड़ी थीं। इसी बीच कंगना रनौत ने कहा है कि उनके ट्विटर फ़ॉलोअर्स की संख्या प्रति दिन 40,000 से 50,000 तक कम हो रही है।

कंगना रनौत को एक ट्विटर यूजर ने बताया कि ट्विटर अकाउंट पर उन्हें फॉलो करने वालों की संख्या एक ही घंटे में 9 लाख 92 हजार से 9 लाख 88 हजार पर आ गई। अभिनेत्री कंगना रनौत ने ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी को टैग करते हुए लिखा है कि उन्होंने रोजाना अपने 40 से 50 हजार फ़ोलोअर्स को कम होते हुए देखा है। कंगना ने सवाल किया है कि वह ट्विटर पर नई हैं और उनके साथ यह क्यों हो रहा है?

एक अन्य ट्विटर यूजर ने कंगना को बताया कि देश-विरोधी गिरोहों के खिलाफ बोलने, राष्ट्रवादी भावनाओं का समर्थन करने और वामपंथी गिरोहों के षड्यंत्रों को उजागर करने के कारण उन्हें ‘घोस्ट बैन’ किया जा रहा है, और जब यह अकाउंट लोकप्रिय हो गया, तो ऐसे में ट्विटर उनके ट्वीट्स की पहुँच कम कर देता है।

कंगना ने जवाब दिया कि मजबूत रैकेट के कारण राष्ट्रवादियों को हर जगह संघर्ष करना पड़ा है। कंगना ने कहा कि क्योंकि वह 1 मिलियन फ़ोलोअर की संख्या के करीब थीं इस कारण उन्होंने इस बात पर ध्यान दिया। कंगना ने कहा कि वह उन ट्विटर फ़ॉलोअर्स से माफ़ी माँगती हैं, जो इन कारणों से उनके ट्विटर अकाउंट से चुपचाप हटा दिए गए।

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद बॉलीवुड में नेपोटिज्म और मूवी माफिया के खिलाफ खुलकर बोलने के बाद कंगना रनौत आधिकारिक रूप से ट्विटर पर सक्रिय हुई हैं। ट्विटर पर अब उन्हें फॉलो करने वालों की संख्या 1 मिलियन हो चुकी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -