Saturday, January 16, 2021
Home बड़ी ख़बर 'My Name is Raga' ट्रेलर रिव्यु: राहुल गाँधी की पैरोडी या SPOOF?

‘My Name is Raga’ ट्रेलर रिव्यु: राहुल गाँधी की पैरोडी या SPOOF?

'कामसूत्र' और 'डैडी यू बास्टर्ड' जैसी फ़िल्मों के निर्देशन के बाद रुपेश पॉल ने अब चोला बदला है और इरोटिका से पॉलिटिकल जॉनर में उतर आए हैं।

हाल ही में एक फ़िल्म का ट्रेलर रिलीज़ हुआ है, जिसका नाम है- ‘माय नेम इज़ रागा’। इस फ़िल्म को कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी का बायोपिक बताया जा रहा है। ट्रेलर की समीक्षा से पहले फ़िल्म और इस से जुड़े लोगों की बात कर लेते हैं। इस फ़िल्म के निर्देशक रुपेश पॉल हैं जो ‘कामसूत्र 3D’ जैसी फ़िल्में बना चुके हैं। कामसूत्र इरोटिक जॉनर की फ़िल्म थी और इसे लेकर विवाद भी हुए थे। इसके अलावा रुपेश पॉल ‘पिथावुम कन्याकायुम (Daddy, You Bastard)’ नामक मलयालम फ़िल्म भी बना चुके हैं। इस फ़िल्म में एक पिता अपनी बेटी की वर्जिन सहेली के साथ एक रात गुज़ारता है

राहुल गाँधी का अपनी प्रेमिका के सामने उनका ट्रेडमार्क ‘विंक’ (साभार: ट्रेलर)

‘कामसूत्र’ और ‘डैडी यू बास्टर्ड’ जैसी फ़िल्मों के निर्देशन के बाद रुपेश पॉल ने अब चोला बदला है और इरोटिका से पॉलिटिकल जॉनर में उतर आए हैं। बकौल निर्देशक, यह फ़िल्म राहुल गाँधी के महिमा-गान के लिए नहीं है बल्कि एक ऐसे व्यक्ति की कहानी है जो विपत्तिजनक ज़िंदगी पर विजय पाकर अजेय (Unstoppable) हो जाता है। निर्देशक ने इसे एक बायोपिक मानने से भी इनकार किया है। उनके अनुसार यह ऐसे व्यक्ति की कहानी है जिस पर लगातार हास्यास्पद रूप से अटैक किया जाता रहा है।

‘विलेन’ नरेंद्र मोदी और अमित शाह का चित्रण (साभार: ट्रेलर)

‘मई नेम इज़ रागा’ अप्रैल में रिलीज़ होनी है, यानी लोकसभा चुनाव से कुछ ही दिनों पहले। अब ट्रेलर पर आते हैं और पता करते हैं कि हाल ही में रिलीज़ हुई राजनीतिक बायोपिक फ़िल्मों (शिवसेना संस्थापक स्वर्गीय बाल ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ और पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह की बायोपिक ‘दी एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’) के मुक़ाबले ‘माय नेम इज़ रागा’ कहाँ ठहरती है। ज्ञात हो कि विवेक ओबेरॉय अभिनीत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक के भी पोस्टर्स ज़ारी हो चुके हैं।

कॉन्ग्रेस के युवा नेताओं के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करते राहुल (साभार: ट्रेलर)

ट्रेलर के पहले दृश्य में ही राहुल गाँधी की एंट्री होती है। सिंघम की तरह वो भी पानी के भीतर से निकलते हैं। अंतर इतना है कि सिंघम को तालाब या नदी की पानी से पूजा करते हुए निकलते दिखाया जाता है, राहुल गाँधी स्विमिंग पूल में हिचकोले खाते हुए और मस्ती करते हुए पानी से निकलते हैं। स्विमिंग पूल के किनारे बैठी इंदिरा गाँधी एक पुस्तक पढ़ रही है जो कार्ल मार्क्स के बारे में है। इसके बाद इंदिरा गाँधी की हत्या को काफ़ी इमोशनलेस तरीक़े से दर्शाया गया है, जो अपने पोते राहुल गाँधी की बाहों में दम तोड़ती हुई दिखती है।

‘माय नेम इज़ रागा’ का ट्रेलर यहाँ देखें

सबसे बड़ी बात यह कि राहुल को ‘विक्टिम’ की तरह पेश करने के लिए इंदिरा गाँधी की हत्या वाले दृश्य में उन्हें भी ख़ून से लथपथ दिखाया गया है। ट्रेलर में बस एक यही सीरियस पार्ट है। इसके बाद कॉमेडी का दौर शुरू हो जाता है। 14 वर्ष की उम्र में गुड्डों से खेलने वाले राहुल गाँधी बड़े हो जाते हैं और उन्हें जबरन कॉन्ग्रेस की कमान देने की क़वायद शुरू हो जाती है। फाइलों का अध्ययन करती सीरियस सोनिया गाँधी और राहुल की बातचीत से पता चलता है कि राहुल जिम्मेदारी से भाग रहे हैं, लेकिन सबकी कोशिश यही है कि उन्हें किसी तरह कॉन्ग्रेस का नेतृत्व दिया जाए।

राहुल गाँधी के ‘निजी सलाहकार’ डॉक्टर मनमोहन सिंह (साभार: ट्रेलर)

कॉमेडी के लिए पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह के किरदार को लाया गया है। डॉक्टर सिंह जैसे क़द के व्यक्ति को प्रधानमंत्री कम, और राहुल गाँधी के निजी सलाहकार की तरह ज्यादा पेश किया गया है। मीडिया से बात करते हुए राहुल गाँधी को देख कर आपके मन में एक पल के लिए यह सवाल उठ सकता है कि कहीं इस फ़िल्म को भाजपा ने तो नहीं प्रोड्यूस किया है। फ़िल्म के राहुल गाँधी असली राहुल गाँधी की तरह डॉक्टर सिंह की प्लेट में केक का टुकड़ा नहीं पटकते (जैसा कि डॉ सिंह के जन्मदिन वाले वायरल वीडियो पर राहुल के बर्ताव को लेकर सोशल मीडिया पर सवाल उठे थे), वह उनसे काफ़ी विनम्र तरीक़े से पेश आते हैं

राहुल गाँधी की प्रेमिका (साभार: ट्रेलर)

फ़िल्म की सबसे बड़ी बात यह है कि इसमें राहुल गाँधी युवा नेताओं के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करते दिख रहे हैं। 86 वर्षीय मनमोहन सिंह, 76 वर्षीय मल्लिकार्जुन खड़गे, 72 वर्षीय कमलनाथ और 67 वर्षीय अशोक गहलोत के साथ दिखने वाले राहुल गाँधी को युवा नेताओं के साथ दिखाना शायद बहुत लोगों को न पचे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को ऐसा गेट-अप दिया गया है, जैसे वो पूजापाठ कराने वाले कोई पंडित जी हों। हाँ, नरेंद्र मोदी का भाषण सुनते हुए नाक-भौं सिकोड़े गाँधी परिवार की छवि काफ़ी अच्छे तरीक़े से पेश की गई है।

कार्ल मार्क्स को पढ़तीं इंदिरा गाँधी

अंत में राहुल गाँधी की रहस्यमयी प्रेमिका का परिचय कराया गया है, जिसने राहुल से ‘जीतना’ सीखा है। वो राहुल को सबका ‘प्यारा रागा’ ऐसे बताती हैं, जैसे वह कोई नेता न हो कर किसी कार्टून सीरीज़ के किरदार हों। ट्रेलर का अंत होते-होते आपको ऐसा महसूस हो सकता है जैसे किसी कार्टून कैरेक्टर का परिचय कराया जा रहा हो। राहुल गाँधी की प्रेमिका का चित्रण, डायलॉग डिलीवरी देख कर आपको पता चल जाएगा कि यह ‘कामसूत्र’ वाले निर्देशक द्वारा ही बनाई गई है।

बिखरे बालों के साथ प्रियंका को किसी हीरोइन की तरह पेश किया गया है (साभार: ट्रेलर)

कुल मिला कर देखा जाए तो यह फ़िल्म इरोटिक (कामुक) जॉनर के निर्देशक द्वारा राजनीतिक बायोपिक बनाने की कोशिश है। फ़िल्म में किसी जीत का क्रेडिट राहुल को दिए जाने की बात हो रही है, शायद यह फ़िल्म रिलीज़ होने तक सस्पेंस ही रहे कि राहुल ने ऐसा कौन सा चुनाव जिताया, जिसका भरा-पूरा क्रेडिट देकर उन्हें पेश किया जा रहा है। फिल्म पैरोडी और स्पूफ है या कॉमेडी या कार्टून- यह पूरी तरह से फ़िल्म के रिलीज़ होने के बाद ही पता चलेगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राम मंदिर निर्माण की तारीख से क्यों अटकने लगी विपक्षियों की साँसें, बदलते चुनावी माहौल का किस पर कितना होगा असर?

अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

वीडियो: ग्लास-कैरी बैग पर ‘अली’ लिखा होने से मुस्लिम भीड़ का हंगामा, कहा- ‘इस्लाम को लेकर ऐसी हरकतें, बर्दाश्त नहीं करेंगे’

“हम अपने बुजुर्गों की शान में की गई गुस्ताखी को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ये यहाँ पर रखा क्यों गया है? 10 लाख- 15 लाख, जितने भी रुपए का है ये, हम तत्काल देंगें, यहीं पर।"

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

कनाडा के भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल सिख मंत्री नवदीप बैंस ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति छोड़ दी है।

हिन्दू देवी-देवताओं के सिर पर लात मारने वाले पादरी को HDFC ने बताया था हीरो, CID ने की गिरफ़्तारी तो वीडियो हटाया

पादरी प्रवीण चक्रवर्ती ने कहा था कि वो 'पत्थरों के भगवान' को लात से मारेगा और पेड़ों (नीम, पीपल और तुलसी जैसे पवित्र पेड़-पौधे) को भी लात मारेगा।

हार्वर्ड ने लालू यादव की बेटी के झूठ की जब खोली पोल, फुस्स हो गया था मीसा भारती का ‘स्पीकर’ वाला दावा

निधि राजदान भले खुद को ‘फिशिंग अटैक’ का शिकार बात रहीं हो, पर कुछ साल पहले लालू यादव की बेटी ने भी हार्वर्ड को लेकर एक 'दावा' किया था।

प्रचलित ख़बरें

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

दुकान में घुस कर मोहम्मद आदिल, दाउद, मेहरबान अली ने हिंदू महिला को लाठी, बेल्ट, हंटर से पीटा: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि आरोपित युवक महिला को घेर कर पहले उसके कपड़े खींचते हैं, उसके साथ लाठी-डंडों, बेल्ट और हंटरों से मारपीट करते है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

निधि राजदान की ‘प्रोफेसरी’ से संस्थानों ने भी झाड़ा पल्ला, हार्वर्ड ने कहा- हमारे यहाँ जर्नलिज्म डिपार्टमेंट नहीं

निधि राजदान द्वारा खुद को 'फिशिंग अटैक' का शिकार बताने के बाद हार्वर्ड ने कहा है कि उसके कैम्पस में न तो पत्रकारिता का कोई विभाग और न ही कोई कॉलेज है।

MBBS छात्रा पूजा भारती की हत्या, हाथ-पाँव बाँध फेंका डैम में: झारखंड सरकार के खिलाफ गुस्सा

हजारीबाग मेडिकल कालेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के हाथ-पैर बाँध कर उसे जिंदा ही डैम में फेंक दिया गया। पूजा की लाश पतरातू डैम से बरामद हुई।

मलेशिया ने कर्ज न चुका पाने पर जब्त किया पाकिस्तान का विमान: यात्री और चालक दल दोनों को बेइज्‍जत करके उतारा

मलेशिया ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाते हुए PIA (पाकिस्‍तान इंटरनेशनल एयरलाइन्‍स) के एक बोईंग 777 यात्री विमान को जब्त कर लिया है।

राम मंदिर निर्माण की तारीख से क्यों अटकने लगी विपक्षियों की साँसें, बदलते चुनावी माहौल का किस पर कितना होगा असर?

अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

वीडियो: ग्लास-कैरी बैग पर ‘अली’ लिखा होने से मुस्लिम भीड़ का हंगामा, कहा- ‘इस्लाम को लेकर ऐसी हरकतें, बर्दाश्त नहीं करेंगे’

“हम अपने बुजुर्गों की शान में की गई गुस्ताखी को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ये यहाँ पर रखा क्यों गया है? 10 लाख- 15 लाख, जितने भी रुपए का है ये, हम तत्काल देंगें, यहीं पर।"

रक्षा विशेषज्ञ के तिब्बत पर दिए सुझाव से बौखलाया चीन: सिक्किम और कश्मीर के मुद्दे पर दी भारत को ‘गीदड़भभकी’

अगर भारत ने तिब्बत को लेकर अपनी यथास्थिति में बदलाव किया, तो चीन सिक्किम को भारत का हिस्सा मानने से इंकार कर देगा। इसके अलावा चीन कश्मीर के मुद्दे पर भी अपना कथित तटस्थ रवैया बरकरार नहीं रखेगा।

जानिए कौन है जो बायडेन की टीम में इस्लामी संगठन से जुड़ी महिला और CIA का वो डायरेक्टर जिसे हिन्दुओं से है परेशानी

जो बायडेन द्वारा चुनी गई समीरा, कश्मीरी अलगाववाद को बढ़ावा देने वाले इस्लामी संगठन स्टैंड विथ कश्मीर (SWK) की कथित तौर पर सदस्य हैं।

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

तब अलर्ट हो जाती निधि राजदान तो आज हार्वर्ड पर नहीं पड़ता रोना

खुद को ‘फिशिंग अटैक’ की पीड़ित बता रहीं निधि राजदान ने 2018 में भी ऑनलाइन फर्जीवाड़े को लेकर ट्वीट किया था।

‘ICU में भर्ती मेरे पिता को बचा लीजिए, मुंबई पुलिस ने दी घोर प्रताड़ना’: पूर्व BARC सीईओ की बेटी ने PM से लगाई गुहार

"हम सब जब अस्पताल पहुँचे तो वो आधी बेहोशी की ही अवस्था में थे। मेरे पिता कुछ कहना चाहते थे और बातें करना चाहते थे, लेकिन वो कुछ बोल नहीं पा रहे थे।"

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

कनाडा के भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल सिख मंत्री नवदीप बैंस ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति छोड़ दी है।

हिन्दू देवी-देवताओं के सिर पर लात मारने वाले पादरी को HDFC ने बताया था हीरो, CID ने की गिरफ़्तारी तो वीडियो हटाया

पादरी प्रवीण चक्रवर्ती ने कहा था कि वो 'पत्थरों के भगवान' को लात से मारेगा और पेड़ों (नीम, पीपल और तुलसी जैसे पवित्र पेड़-पौधे) को भी लात मारेगा।

मंच पर माँ सरस्वती की तस्वीर से भड़का मराठी कवि, हटाई नहीं तो ठुकराया अवॉर्ड

मराठी कवि यशवंत मनोहर का कहना था कि उन्होंने सम्मान समारोह के मंच पर रखी गई सरस्वती की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी। फिर भी तस्वीर नहीं हटाई गई थी इसलिए उन्होंने पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
381,000SubscribersSubscribe