Thursday, July 25, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'अगर मैं स्कूल-कॉलेज में होती तो...': स्विमसूट वाले वायरल फर्जी वीडियो पर दुखी हुईं...

‘अगर मैं स्कूल-कॉलेज में होती तो…’: स्विमसूट वाले वायरल फर्जी वीडियो पर दुखी हुईं अभिनेत्री रश्मिका मंदाना, बोली – ये बुरी तरह डराने वाला

इस वीडियो में तकनीक के सहारे स्विमसूट पहनी लड़की के ऊपर रश्मिका का चेहरा लगा दिया दिया गया था। असल में यह वीडियो एक ब्रिटिश मॉडल ज़ारा पटेल का था।

अभिनेत्री रश्मिका मंदाना ने अपने फर्जी वायरल वीडियो पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि उनके लिए यह डरावना है और और दुखी करने वाला है। रश्मिका ने कहा है कि यह सिर्फ उनके लिए बल्कि उन सबके लिए डरावना है जो कि तकनीक का उपयोग करते हैं।

इससे पहले बिकनी पहने हुए एक लड़की का वीडियो वायरल हुआ था जिसे रश्मिका मंदाना बताया गया था। इस वीडियो में तकनीक के सहारे स्विमसूट पहनी लड़की के ऊपर रश्मिका का चेहरा लगा दिया दिया गया था। असल में यह वीडियो एक ब्रिटिश मॉडल ज़ारा पटेल का था।

रश्मिका ने ‘X’ (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा है, “मैं इस बात से बेहद दुखी हूँ और मेरे बारे में फैलाई जा रही डीपफेक वीडियो के विषय में बात करना चाहती हूँ। ये सिर्फ मेरे लिए ही नहीं बल्कि उन सभी लोगों के लिए काफी डरावना है और बताता है कि हम कितने खतरे में हैं क्योंकि तकनीक का दुरुपयोग हो रहा है।”

आगे रश्मिका ने लिखा, “मैं आज एक महिला और एक अभिनेत्री के नाते अपने परिवार, मित्रों और शुभेच्छकों का धन्यवाद करती हूँ क्योंकि वह मेरे सपोर्ट सिस्टम हैं। हालाँकि, अगर ऐसा कुछ मेरे साथ स्कूल या कॉलेज में हुआ होता तो मुझे नहीं मालूम मैंने इसका सामना कैसे किया होता। हमें इससे एक समाज के तौर उससे पहले लड़ना होगा जब तक यह और लोगों की पहचान चुराए।”

जो वीडियो वायरल हुआ है, Deepfake नामक AI (आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस) तकनीक का इस्तेमाल कर के इसे हूबहू रश्मिका मंदाना की तरह बना दिया गया है। ज़ारा पटेल एक ब्रिटिश-इंडियन इन्फ्लुएंसर हैं, जो अक्सर अंतरंग वस्त्रों में तस्वीरें और वीडियो अपलोड करती रहती हैं। इंस्टाग्राम पर उनके 4.32 लाख फॉलोवर्स हैं। वो डेटा इंजीनियर भी हैं।

वहाँ उन्हें बिकनी में कई तस्वीरें अपलोड कर रखी हैं। लेकिन, किसी ने उनके एक वीडियो का गलत इस्तेमाल किया और इसमें उनकी जगह रश्मिका मंदाना को दिखा दिया। अमिताभ बच्चन तक ने इस वीडियो का संज्ञान लिया था और कहा कि इस पर कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए। केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं टेक्नोलॉजी राज्यमंत्री राजीव चंद्रशेखर ने भी कहा था कि इस वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे सभी डिजिटल नागरिकों की सुरक्षा एवं भरोसे को सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वकील चलाता था वेश्यालय, पुलिस ने की कार्रवाई तो पहुँचा हाई कोर्ट: जज ने कहा- इसके कागज चेक करो, लगाया ₹10000 का जुर्माना

मद्रास हाई कोर्ट में एक वकील ने अपने वेश्यालय पर कार्रवाई के खिलाफ याचिका दायर की। कोर्ट ने याचिका खारिज करके ₹10,000 का जुर्माना लगा दिया।

माजिद फ्रीमैन पर आतंक का आरोप: ‘कश्मीर टाइप हिंदू कुत्तों का सफाया’ वाले पोस्ट और लेस्टर में भड़की हिंसा, इस्लामी आतंकी संगठन हमास का...

ब्रिटेन के लेस्टर में हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा भड़काने वाले माजिद फ्रीमैन पर सुरक्षा एजेंसियों ने आतंक को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -