Saturday, July 13, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनसलीम खान का पूरा खानदान जेहादी, मनी लॉन्ड्रिंग हब है Being Human: दबंग के...

सलीम खान का पूरा खानदान जेहादी, मनी लॉन्ड्रिंग हब है Being Human: दबंग के डायरेक्टर अभिनव कश्यप

"सारी कोशिश सलमान खान की गुंडे, मवाली वाली छवि सुधारने की थी ताकि इनके तमाम क्रिमिनल कोर्ट केस में मीडिया और जज इन पर थोड़ी रियायत बरतें। सीधी-सादी जनता की आँखों में धूल झोंककर उनसे नोट बटोर रहे हैं ये धूर्त लोग। इनकी मंशा किसी को कुछ देने की नहीं, सिर्फ लेने की है।"

फिल्म डायरेक्टर अभिनव कश्यप ने सलमान खान की चैरिटी करने करने वाली संस्था ‘बीइंग ह्यूमन’ (Being Human) को लेकर बड़े आरोप लगाए हैं। अभिनव ने दावा किया है कि सलमान का बीइंग ह्यूमन फाउंडेशन एक ‘मनी-लॉन्ड्रिंग‘ हब है। इसे सलमान खान की इमेज सुधारने के लिए बनाया गया था।

सलमान खान की फिल्म दबंग का अभिनव निर्देशन कर चुके हैं। पिछले दिनों सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद भी उन्होंने सलमान खान और उनके परिवार पर गंभीर आरोप लगाए थे।

अभिनव कश्यप ने शुक्रवार (जून 19, 2020) को सलमान खान के ‘बींइग ह्यूमन’ फाउंडेशन को लेकर फेसबुक पोस्ट में लिखा, “जनाब सलीम खान का सबसे बड़ा आइडिया है बींइग ह्यूमन। बींइग ह्यूमन की चैरिटी महज एक दिखावा है। दबंग की शूटिंग के दौरान मेरी आँखों के सामने पाँच साइकिल बँटती थी, अगले दिन अखबारों में छपता था कि दानवीर सलमान खान ने 500 साइकिलें गरीबों में बाँटीं।”

वे आगे लिखते हैं, “सारी कोशिश सलमान खान की गुंडे, मवाली वाली छवि सुधारने की थी ताकि इनके तमाम क्रिमिनल कोर्ट केस में मीडिया और जज इन पर थोड़ी रियायत बरतें। Being human आज 500 रुपए की जीन्स 5000 में बेचता है और पता नहीं किन-किन तरीकों से चैरिटी के नाम पर मनी लॉन्ड्रिंग चल रही है। सीधी-सादी जनता की आँखों में धूल झोंककर उनसे नोट बटोर रहे हैं ये धूर्त लोग। इनकी मंशा किसी को कुछ देने की नहीं, सिर्फ लेने की है। सरकार को चाहिए कि Being human की भी गहरी जाँच हो। मैं सरकार का पूरा सहयोग करूँगा।”

एक अन्य पोस्ट में अभिनव कश्यप लिखते हैं, “अजीब खानदान है। बाप से सवाल पूछो, तो औलादें तिलमिला जाती हैं और औलादों से पूछो तो बाप उनका बचाव करने लगते हैं। ये तो muslim brotherhood से भी आगे निकल गए, फिर अपने आप को secular बताते हैं। जिससे पूछा जाए वो जवाब क्यों नहीं देता? छिप कर क्यों बैठे हैं सलमान खान? ‘प्यार करो ना’ जैसे बेसुरे, बेहूदा गाने बना सकते हैं। मेरे सीधे सवालों का जवाब नहीं दे सकते। भला होता कि ये खानदान भी कह देता… BoycottSalimKhan#BoycottSalmanKhan बाकी अरबाज़ और सोहेल खान को तो उनकी औलाद भी नहीं पूछती।”

आगे उन्होंने एक और पोस्ट में लिखा, “मैने सलीम खान का नाम क्या ले लिया पूरा परिवार दर्द से कराहने लगा। अपने चमचों की फौज छोड़ दी है मुझे गाली देने के लिए। इनके फेसबुक लड़ाकों की भाषा से ही आपको ज्ञात हो जाएगा कि ये किन इस्लामी मुल्कों और किस समुदाय के लोग हैं… क्यों भाई? सलीम खान कोई बहुत बड़े रसूल, पैगम्बर या पीर हैं क्या? उनके काले कारनामे भी किसी से छिपे नहीं हैं। पूरा खानदान ही जिहादी मानसिकता से लैस है। क्या उन्होंने श्रीमती सुशीला चरक का धर्म परिवर्तन कर उन्हें सलमा खान नहीं बना दिया…? मैं मानता हूँ ये लव जिहाद है और हर मंच से बोलूँगा। आगे और भी बहुत लिखता रहूँगा… मेरा मुँह बंद करके दिखाए सलमान खान।”

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद अभिनव कश्यप ने यशराज फिल्म्स और सलमान खान के परिवार पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने अपने पोस्ट में यह दावा किया कि सलमान खान और उनके परिवार ने अभिनव के फिल्मी करियर को बर्बाद करने की काफी कोशिश की।

उन्होंने सरकार से सुशांत सिंह की आत्महत्या मामले में विस्तृत जाँच की माँग की थी। उन्होंने ‘यशराज फिलम्स’ पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उसकी टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी ने सुशांत को आत्महत्या करने के लिए मजबूर किया होगा, ये जाँच का विषय है। उन्होंने कहा कि ये लोग करियर बनाते नहीं हैं बल्कि करियर और ज़िंदगी, दोनों ही बिगाड़ते हैं। उल्लेखनीय है कि एक्ट्रेस जिया खान की माँ राबिया अमीन ने भी सलमान खान के खिलाफ आरोप लगाते हुए कहा था कि वो पुलिस को फोन कर पैसे की बात कर प्रेशर बनाते थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -