Saturday, July 20, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन2021 में बॉक्स ऑफिस पर तेलुगु और तमिल फिल्मों का जलवा, पीछे छूटा बॉलीवुड:...

2021 में बॉक्स ऑफिस पर तेलुगु और तमिल फिल्मों का जलवा, पीछे छूटा बॉलीवुड: ₹3200 Cr के कारोबार में खान तिकड़ी भी फिसड्डी

2021 में कुल 470 भारतीय फ़िल्में थिएटरों में रिलीज हुईं, जिन्होंने कुल 3200 करोड़ रुपए का बड़ा कारोबार किया। इस साल भारत में सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म 'स्पाइडर मैन: नो वे होम' है, जो हॉलीवुड की फिल्म है।

बॉक्स ऑफिस पर रोकड़े बटोरने के मामले में दक्षिण भारतीय सिनेमा ने बॉलीवुड को पीछे धकेल दिया है। इस साल सुपरस्टार रजनीकांत, विजय और अल्लू अर्जुन का जलवा रहा। खासकर तेलुगु सिनेमा ने इस साल भारत से लेकर अमेरिका तक झंडे गाड़े। साल की शुरुआत विजय की तमिल फिल्म ‘मास्टर’ से हुई, जिसने 230 करोड़ रुपए का कारोबार किया। साल के अंत में सुपरस्टार रजनीकांत की तमिल फिल्म ‘अन्नाथे’ और अल्लू अर्जुन की तेलुगु फिल्म ‘पुष्प’ रिलीज हुई।

जहाँ रजनीकांत की फिल्म ने 250 करोड़ रुपए बटोरने के बाद OTT का रुख किया और वहाँ भी हिट बनी रही, ‘पुष्पा’ ने भी 300 करोड़ रुपए का आँकड़ा पार कर के OTT पर रिलीज का विकल्प चुना। हालाँकि, फिल्म का हिंदी वर्जन ऑनलाइन देखने के लिए देर से आएगा, क्योंकि उत्तर भारत में ये अब भी अच्छा कारोबार कर रही है। लॉकडाउन और महामारी प्रतिबंधों के बावजूद तेलुगु फिल्म इंडस्ट्री ने जिस तरह से कारोबार किया है, वो काबिले तारीफ़ है।

2021 में कुल 470 भारतीय फ़िल्में थिएटरों में रिलीज हुईं, जिन्होंने कुल 3200 करोड़ रुपए का बड़ा कारोबार किया। इस साल भारत में सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म ‘स्पाइडर मैन: नो वे होम’ है, जो हॉलीवुड की फिल्म है। हालाँकि, ‘सूर्यवंशी’ ने ज़रूर दुनिया भर में 290 करोड़ रुपए का कलेक्शन कर के बॉलीवुड की लाज बचा ली। ये रोहित शेट्टी की मसाला कॉप फिल्म थी, जिसमें अक्षय कुमार मुख्य किरदार में थे और अजय देवगन व रणवीर सिंह जैसे अभिनेता भी इसमें थे। जबकि अभिनेत्री कैटरीना कैफ थीं।

तेलुगु फिल्म इंडस्ट्री टॉलीवूड की बातें करें तो इसने 180 फ़िल्में रिलीज की, जिनमें अल्लू अर्जुन की ‘पुष्पा’ के अलावा पवन कल्याण की ‘वकील साब’ (138 करोड़ रुपए ग्रॉस) ने भी दमदार कारोबार किया। इस तरह तेलुगु फिल्म इंडस्ट्री ने इस साल 1100 करोड़ रुपए का कारोबार किया। जबकि बॉलीवुड ने इस साल महज 760 करोड़ रुपए का ही कारोबार किया, जिनमें दक्षिण भारतीय फिल्मों का हिंदी डब वर्जन्स भी शामिल थे। तमिल फिल्मों ने भी 700 करोड़ रुपए का कारोबार किया। नंदामुरी बालाकृष्णा की ‘अखंडा’ ने भी 130 करोड़ रुपए बटोर लिए।

कन्नड़ और मलयालम फिल्म इंडस्ट्रीज ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। कर्नाटक की फिल्म इंडस्ट्री ने 80 तो केरल की मूवी इंडस्ट्री ने 41 से भी अधिक फिल्मों को रिलीज किया। इन दोनों इंडस्ट्रीज ने क्रमशः 244 करोड़ रुपए और 170 करोड़ रुपए का कारोबार किया। केरल में कोरोना महामारी का प्रकोप कुछ ज्यादा ही है। कन्नड़ की एक बड़ी फिल्म ‘KGF 2’ और तेलुगु में एसएस राजामौली की ‘RRR’ आने वाली है, ऐसे में उम्मीद है कि दक्षिण भारतीय फिल्म इंडस्ट्री और अच्छा कारोबार करेगी।

विशेषज्ञ ये भी कह रहे हैं कि ये बॉलीवुड के लिए एक चेतावनी हो सकती है, क्योंकि यहाँ 2021 में रिलीज हुई फिल्मों के कुछ डायलॉग्स तो समझ भी नहीं आए। कार्तिक आर्यन की फिल्म ‘धमाका’ भी इसी श्रेणी में आती है। मोहनलाल की मलयालम फिल्म ‘दृश्यम 2’ को समीक्षकों का सबसे ज्यादा प्यार मिला। जॉन अब्राहम की ‘सत्यमेव जयते 2’ बुरी फ्लॉप रही। अल्लू अर्जुन कह चुके हैं कि वो बॉलीवुड में छोटे किरदार नहीं करेंगे। बॉलीवुड अभिनेता अब दक्षिण में छोटे किरदार करने के लिए भी तैयार हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -