Friday, July 19, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'मेरे घरवालों को मिल रही धमकी, गैंग में पाकिस्तानी आतंकी भी': 'द कश्मीर फाइल्स'...

‘मेरे घरवालों को मिल रही धमकी, गैंग में पाकिस्तानी आतंकी भी’: ‘द कश्मीर फाइल्स’ के निर्माता ने बयां किया दर्द, मीडिया को दी चेतावनी

'द लास्ट फिल्म शो' ('छेल्लो शो') को ऑस्कर में भारत की तरफ से ऑफिशियल एंट्री के तौर पर भेजा गया है। वहीं RRR, कंतारा, गंगूबाई काठियावाड़ी, रॉकेट्री: द नंबी इफेक्ट, विक्रांत, रोना इत्यादि फिल्में अन्य भारतीय भाषाओं के लिए नॉमिनेशन के लिए भेजी गई हैं।

कश्मीर फाइल्स (The Kashmir Files) के निर्माता एवं बॉलीवुड निर्देशक विवेक रंजन अग्निहोत्री (Vivek Ranjan Agnihotri) ऑस्कर पर बयान को लेकर सोशल मीडिया यूजर के निशाने पर हैं। उन्होंने कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसा करने वालों के खिलाफ वो कार्रवाई कर रहे हैं।

विवेक अग्निहोत्री ने ट्वीट किया, “चेतावनी: बेहूदा इकोसिस्टम फिर से काम पर लग गया है। वे गलत रिपोर्टिंग करके और जनता से झूठ बोलकर #TheKashmirFiles की टीम की बदनामी करने के लिए हमारे बयानों को तोड़-मरोड़ कर पेश कर रहे हैं। समाचार साइटों और अन्य लोगों को दुर्भावनापूर्ण मंशा से ऐसी फर्जी खबरों में शामिल होने या प्रसारित करने के खिलाफ चेतावनी दी जाती है।”

अगले ट्वीट में अग्निहोत्री ने कहा, “मैं सार्वजनिक और संबंधित अधिकारियों के ज्ञान में लाना चाहता हूँ कि इनमें से कुछ लोग/समूह मेरे परिवार की युवा महिला सदस्य को परेशान कर रहे हैं और धमकी दे रहे हैं। उनमें से कुछ पाकिस्तानी आतंकवादी समूहों से जुड़े हुए हैं, जिन्हें नूपुर शर्मा को जान से मारने की धमकी देने के लिए भी जाना जाता है।”

दरअसल, 10 जनवरी 2023 को विवेक रंजन अग्निहोत्री ने कश्मीर फाइल्स और ऑस्कर से जुड़े दो ट्वीट किए थे। उन्होंने लिखा, “बड़ी घोषणा: #TheKashmirFiles को #Oscars2023 के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया है। यह भारत की 5 फिल्मों में से एक है। मैं उन्हें शुभकामनाएँ देता हूँ। भारतीय सिनेमा के लिए एक शानदार वर्ष।”

इसके अगले ट्वीट में उन्होंने फिल्म के किरदारों को टैग करते हुए लिखा, “पल्लवी जोशी #मिथुन चक्रवर्ती @DarshanKumaar @AnupamPK यहाँ सभी सर्वश्रेष्ठ अभिनेता श्रेणियों के लिए चुने गए हैं। यह तो बस शुरुआत है। आगे एक लंबा रास्ता है। कृपया उन सभी को आशीर्वाद दें।”

इसके बाद फिल्म में प्रमुख भूमिका निभाने वाले अभिनेता अनुपम खेर ने भी ट्वीट कर खुशी जाहिर की। उन्होंने बताया कि द कश्मीर फ़ाइल्स और उन्हें ऑस्कर 2023 के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया है और यह उनके लिए एक बड़ी जीत है।

बता दें कि कश्मीर फाइल्स को नामांकित नहीं किया गया है, बल्कि तकनीकी तौर पर अर्जी स्वीकारी गई है। ऐसे में ये कहा जा सकता है कि ये फिल्म अब ऑस्कर की रेस में आ गई है। इसकी आधारिक घोषणा 24 जनवरी को की जाएगी।वहीं, ऑस्कर के 95वें समारोह का आयोजन 12 मार्च 2023, दिन रविवार को होगा। यह शो हॉलीवुड के डॉल्बी थिएटर से दुनिया भर लाइव प्रसारित होगा।

दरअसल कश्मीर फाइल्स और कांतारा द एकेडमी अवार्ड्स 2023 की रिमाइंडर/पात्रता सूची में शामिल 301 फीचर फिल्मों में शामिल हैं। इसमें कश्मीर फाइल्स और कांतारा के अलावा 12 भारतीय भाषा की फिल्मों (फीचर और डॉक्यूमेंट्री सहित) के बीच शामिल किया गया है। तकनीकी रूप से ऑस्कर के लिए शॉर्टलिस्ट किए जाने और एलिमिनेशन लिस्ट में जगह बनाने के बीच अंतर है।

‘द लास्ट फिल्म शो’ (‘छेल्लो शो’) को ऑस्कर में भारत की तरफ से ऑफिशियल एंट्री के तौर पर भेजा गया है। वहीं RRR, कंतारा, गंगूबाई काठियावाड़ी, रॉकेट्री: द नंबी इफेक्ट, विक्रांत, रोना इत्यादि फिल्में अन्य भारतीय भाषाओं के लिए नॉमिनेशन के लिए भेजी गई हैं। इन्हें पहली लिस्ट में शामिल किया गया है। इसका मतलब है कि इन पर विचार किया जाएगा। हालाँकि, शॉर्टलिस्ट कहना गलत है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -