Tuesday, July 23, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'बंद करो दूसरो पर अपना मजहब थोपना': इस्लाम को न मानने वाली उर्फी जावेद...

‘बंद करो दूसरो पर अपना मजहब थोपना’: इस्लाम को न मानने वाली उर्फी जावेद ने की तालिबान के पतन की कामना

अफगानिस्तान में तालिबानी शासन आने के बाद से वहाँ के नागरिक डर के साये में जीने को मजबूर हैं। उनकी आजादी छिन गई है। खासतौर पर महिलाएँ घुट-घुटकर जीने को मजबूर हैं।

इंटरनेट सेंसेशन उर्फी जावेद (Urfi Javed) अपने बोल्ड अंदाज और बेबाक बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहती हैं। इस्लाम को ना मानने वाली ‘बिग बॉस’ ओटीटी की एक्स कंटेस्टेंट ने इस बार तालिबान (Taliban) की आलोचना करते हुए उसके पतन की कामना की है। अफगानिस्तान की सत्ता पर तालिबान के काबिज होने से वह खासा नाराज हैं।

अफगानिस्तान में तालिबानी शासन आने के बाद से वहाँ के नागरिक डर के साये में जीने को मजबूर हैं। उनकी आजादी छिन गई है। खासतौर पर महिलाएँ घुट-घुटकर जीने को मजबूर हैं। तालिबान ने अब नया नियम निकाला है। इसके तहत अकेली महिलाओं का लॉन्ग डिसटेंस रोड ट्रिप बैन कर दिया गया है। उर्फी ने तालिबान के इस फैसले की निंदा करते हुए मंगलवार (28 दिसंबर 2021) को अपनी इंस्टा स्टोरी में लिखा, “तालिबान का जल्दी पतन होने की कामना करती हूँ। दूसरों पर अपना मजहब थोपना बंद करें।”

साभार: उर्फी जावेद इंस्टाग्राम

इससे पहले भी उर्फी जावेद जबरन दूसरों पर अपना मजहब थोपने वाले मस्लिमों को करारा जवाब दे चुकी हैं। इन दिनों वह हिंदू धर्म को समझने के लिए भगवद गीता को पढ़ रही हैं। उनका कहना है कि वह मुस्लिम धर्म में भरोसा नहीं करती हैं। पिछले दिनों उर्फी जावेद ने एक इंटरव्यू में कहा था, “मैं एक मुस्लिम लड़की हूँ और मुझे सोशल मीडिया पर सबसे अधिक मुस्लिम लोगों द्वारा ही ट्रोल किया जाता है। वो मुझे आपत्तिजनक कमेंट करते हैं। कहते हैं कि मैं इस्लाम की छवि खराब कर रही हूँ। वो मुझसे नफरत करते हैं, क्योंकि मुस्लिम पुरुष चाहते हैं कि महिलाएँ उनके बनाए एक दायरे के भीतर ही रहें।”

उन्होंने कहा था, “वे अपने समुदाय की सभी महिलाओं को कंट्रोल में करना चाहते हैं। इस वजह से मैं इस्लाम को नहीं मानती। वे मुझे इसलिए भी ट्रोल करते हैं, क्योंकि मैं उनके अनुसार कपड़े नहीं पहनती, उनके अनुसार अपने मजहब का पालन नहीं करती।”

बता दें कि जब उर्फी से पूछा गया कि क्या आप कभी अपने समुदाय के किसी व्यक्ति से निकाह करेंगी, अगर आपको उससे प्यार हो जाए तो। इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था, “मैं कभी मुस्लिम लड़के से निकाह नहीं करूँगी। मैं इस्लाम में विश्वास नहीं करती और मैं किसी भी मजहब का पालन नहीं करती, इसलिए मुझे परवाह नहीं है कि मैं किससे प्यार करती हूँ। हम जिससे चाहें उससे निकाह कर सकते हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -