Monday, June 14, 2021
Home देश-समाज जल-संकट, प्लास्टिक जैसी कई समस्याएँ हल हो गईं होतीं, अगर हम अपना देसी ज्ञान...

जल-संकट, प्लास्टिक जैसी कई समस्याएँ हल हो गईं होतीं, अगर हम अपना देसी ज्ञान सहेज पाते

युवक पढ़ा-लिखा था, किसान नहीं था। जिस उम्र में खेती सीखी जाती है, उस उम्र में काम करने पर संभवतः लोगों को आपत्ति होती। इसलिए जिस उम्र में सीखना चाहिए था, उस उम्र में उसने खेती सीखी नहीं थी। बिना सीखे, पहली बार पेड़ लगाने की कोशिश के अपने फायदे-नुकसान भी हैं। जो भी हो, नौजवान ने थोड़ी पूछताछ से यह तो पता कर ही लिया कि पेड़ लगाने के लिए बरसात से ठीक पहले का मौसम अच्छा रहेगा। बारिश होगी तो रोज-रोज कई छोटे पौधों में पानी नहीं देना होगा। चुनाँचे, नौजवान ने जुलाई के महीने में पौधे लगा दिए।

अफ़सोस! उस वर्ष बारिश हर साल जैसी नहीं हुई। वैसे तो ज्यादा हो जाने पर बाढ़ भी एक समस्या होती है, लेकिन उस वर्ष बारिश न होने के कारण पौधों के सूख जाने का खतरा बन आया। अब समस्या थी कि युवक खुद ही पेड़ लगाता और उनका रखरखाव करता था, यानी मजदूर रखकर पौधों में पानी डलवाने लायक आर्थिक स्रोत नहीं थे। हर रोज एक ही व्यक्ति हर पौधे में जुलाई के महीने में पानी डाल सके, इसके लिए पचास बाल्टी पानी भर कर कहीं रख लेना भी मुमकिन नहीं था।

इन समस्याओं के बीच भी नौजवान का भाग्य कुछ ठीक-ठाक था और उसके दादाजी जीवित थे। तो नौजवान अपने दादाजी के पास पहुंचा और पानी की कमी से पौधों के सूख जाने के अपने डर के बारे में बताया। मजदूर रखना सच में महंगा था, मगर दादाजी ने बताया कि घड़े खरीदना उतना महंगा नहीं। हर पौधे के बगल में एक गड्ढा कर के घड़े को मिट्टी में दबा देना था। घड़े की पेंदी में एक छोटा-सा छेद होता। अब जब इस घड़े में पानी डाला जाता तो वो थोड़ा-थोड़ा करके जमीन में रिसता रहता।

इस साधारण से तरीके से पानी डालने की मेहनत करीब एक-तिहाई हो जाती थी। घड़े में पानी करीब तीन दिन रहता था। सूखा पड़ा, लेकिन पौधे बच गए। ये नुस्खा बिलकुल साधारण, परम्परागत नुस्खा है। तथाकथित “विज्ञानी सोच” और शोध के नाम पर ऐसे देसी ज्ञान को भुला दिया गया। पिछले सत्तर वर्षों में ऐसी ज्यादातर जानकारी खो भी गयी होगी, क्योंकि जो लोग जानते थे उनसे किसी ने उनके जीवित रहते पूछा ही नहीं होगा। लिखने की बजाय बोलकर सीखने-सिखाने वाले देश से पारंपरिक ज्ञान जाता रहा।

वृक्षारोपण के साथ साथ ड्रिप-फार्मिंग का यह तरीका सिखाया जाना इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि पेड़ लगाने के साथ साथ इसमें प्लास्टिक कचरे का प्रबंधन भी शामिल हो सकता है। इस तकनीक के बारे में प्रोफेसर एस राजेश्वरण बताते हैं कि इसका दूसरा फायदा यह है कि इसमें अलग से कुछ खर्च नहीं करना पड़ता। कचरे की मदद से और कम मेहनत में इस तरीके से पौधों को लगातार पानी मिलना भी सुनिश्चित हो जाता है। हर पौधे के साथ दो लीटर का एक बोतल भी लगाई जा सकती है, जिसका एक सिरा पानी डालने के लिए खुला हो और दूसरे सिरे पर छेद करके पर रुई लगा दी गई हो ताकि थोड़ा-थोड़ा रिसकर पानी लगातार पौधे को मिलता रहे।

विकास प्रबंधन संस्थान (डीएमआई, पटना) के प्रोफेसर एस राजेश्वरण ने हाल ही में छात्रों को वृक्षारोपण कराते समय इस तकनीक की जानकारी दी। ऊपर की तरफ से भर देने पर इस तकनीक से दो से तीन दिन तक पौधों को पानी मिलता रहता है। एक बार इस्तेमाल करने के बाद फेंक दी जाने वाली बोतलों का इस तरह से दोबारा इस्तेमाल भी होता है। अब जबकि जल संकट एक खुली समस्या है, किसी आने वाले समय का भयावह फ़िल्मी दृश्य नहीं, तब ये तरीके और भी महत्वपूर्ण हो जाते हैं। हमें अपने परंपरागत तरीकों को वापस नई तकनीकों से जोड़ने की भी जरूरत है।

आज प्रधानमंत्री ने लाल किले से जल की चर्चा करके सरकार की आगे की योजनाओं के बारे में भी इशारा कर दिया है। हम इशारों से कितना सीखते हैं और जनता अपनी चुनी हुई सरकार के साथ मिलकर योजनाओं को कितनी मजबूती से जमीन पर उतारती है, यह अब हम पर निर्भर होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चीन की वुहान लैब में जिंदा चमगादड़ों को पिंजरे के अंदर कैद करके रखा जाता था: वीडियो से हुआ बड़ा खुलासा

वीडियो ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के उस दावे को भी खारिज किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि चमगादड़ों को लैब में रखना और कोरोना के वुहान लैब से पैदा होने की बात करना महज एक 'साजिश' है।

‘लौट आओ, रोज दूँगी मालपुआ’: सुशांत की बरसी पर रिया चक्रवर्ती का पोस्ट, मौत के बाद बताया था ड्रग एडिक्ट और मानसिक बीमार

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद रिया की भूमिका सवालों के घेरे में रही। खुद सुशांत के परिवार ने रिया चक्रवर्ती को ही मुख्य आरोपी बनाया था और उन पर गंभीर आरोप लगाए थे।

केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस में फिर होने वाली थी पिटाई? लोगों से पहले ही उतरवा लिए गए जूते-चप्पल: रिपोर्ट

केजरीवाल पर हमले की घटनाएँ कोई नई बात नहीं है और उन्हें थप्पड़ मारने के अलावा स्याही, मिर्ची पाउडर और जूते-चप्पल फेंकने की घटनाएँ भी सामने आ चुकी हैं।

हिंसा से भी खौफनाक बंगाल का सिस्टम: पीड़ितों का अब सुप्रीम कोर्ट ही सहारा

हिंसा पीड़ित नागरिकों की कौन सुनेगा? उनके विरुद्ध हुई हिंसा को रिपोर्ट करने के लिए राज्य सरकार की कौन सी संवैधानिक संस्था उपयुक्त हो सकती है?

चाचा ने ही कर डाला चिराग तले अंधेरा: कार चलाना, आधे घंटे हॉर्न बजाना और मॉं की दुहाई भी काम न आई

उधर चिराग पासवान अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए खुद चाचा के घर पहुँचे, जहाँ उनके लिए दरवाजा तक नहीं खोला जा रहा था। वो खुद कार चला तक चाचा के बंगले पर पहुँचे थे।

रोहिंग्या को आधार कार्ड, वोटर कार्ड, पैसा सब कुछ: यूपी के गाँव-गाँव में बसाने की साजिश, चुनाव और PFI से भी कनेक्शन

उत्तर प्रदेश में सोची-समझी साजिश के तहत रोहिंग्या बसाए जा रहे हैं। इनके दस्तावेज तैयार करवाए जा रहे हैं ताकि ये वोट डाल सके।

प्रचलित ख़बरें

राम मंदिर में अड़ंगा डालने में लगी AAP, ट्रस्ट को बदनाम करने की कोशिश: जानिए, ‘जमीन घोटाले’ की हकीकत

राम मंदिर जजमेंट और योगी सरकार द्वारा कई विकास परियोजनाओं की घोषणाओं के कारण 2 साल में अयोध्या में जमीन के दाम बढ़े हैं। जानिए क्यों निराधार हैं संजय सिंह के आरोप।

कीचड़ में लोटने वाला सूअर मीका सिंह, हवस का पुजारी… 17 साल की लड़की को भेजा गंदे मैसेज और अश्लील फोटो: KRK

"इसने राखी सावंत को सूअर के जैसे चूसा। सूअर की तरह किस किया। इस तरह किसी लड़की को जबरदस्ती किस करना किसी रेप से कम नहीं है।"

‘हिंदुओं को 1 सेकेंड के लिए भी खुश नहीं देख सकता’: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से पहले घृणा की बैटिंग

भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने कहा कि जीते कोई भी, लेकिन ये ट्वीट ये बताता है कि इस व्यक्ति की सोच कितनी तुच्छ और घृणास्पद है।

इब्राहिम ने पड़ोसी गंगाधर की गाय चुराकर काट डाला, मांस बाजार में बेचा: CCTV फुटेज से हुआ खुलासा

इब्राहिम की गाय को जबरदस्ती घसीटने की घिनौनी हरकत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। गाय के मालिक ने मालपे पुलिस स्टेशन में आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।

सिख विधवा के पति का दोस्त था महफूज, सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण करा किया निकाह; दो बेटों का भी करा दिया खतना

रामपुर जिले के बेरुआ गाँव के महफूज ने एक सिख महिला की पति की मौत के बाद सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण कर उसके साथ निकाह कर लिया।

16 साल की लड़की से दिल्ली के NGO वाली 44 साल की महिला करती थी ‘जबरन सेक्स’, अश्लील वीडियो से देती थी धमकी

दिल्ली में 16 साल की नाबालिग लड़की के यौन शोषण के आरोप में 44 वर्षीय एक महिला को गिरफ्तार किया गया। आरोपित महिला एनजीओ चलाती हैं और...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,816FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe