कश्मीर पर बवाल, चीन पर मौन: इमरान ने कहा- उइगर मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचार के बारे में नहीं जानता

“हम अभी अपनी आंतरिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, इस मुद्दे के बारे में मुझे सच में ज्यादा जानकारी नहीं है। हम एक साल से सरकार में हैं, हम अर्थव्यवस्था को सुधारने में लगे हैं और अब कश्मीर का मुद्दा है। हम कई समस्याओं से घिरे हुए हैं। लेकिन मैं चीन के लिए एक बात कहूँगा, हमारे लिए चीन सबसे अच्छा दोस्त है।”

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मुसलमानों को लेकर अपना असली चेहरा दिखा दिया है। वे कश्मीर के नाम पर अपनी नाकामियों को दबाने के लिए पूरी दुनिया के मुसलमानों को उकसाने और भड़काने की चालें तो चल रहे हैं, लेकिन जब बात चीन के उइगर मुसलमानों की समस्या को लेकर उठी है तो वे कह रहे हैं कि उनके बारे में जानने की उनको फुर्सत ही नहीं है। मुसलमानों के हिमायती बनने वाले, कश्मीर के मुसलमानों के मानवाधिकार की ‘चिंता’ करने वाले इमरान खान को पूरी दुनिया के मुस्लिमों का दुख दिखाई देता है, लेकिन वो उइगर मुस्लिमों को वह जानते तक नहीं।

दरअसल, अलजजीरा के इंटरव्यू के दौरान जब उनसे चीन में वहाँ की सरकार द्वारा सताए जा रहे उइगर मुसलमानों के बारे में पूछा गया, तो इमरान इस सवाल को टालने लगे। उन्होंने कहा कि वो इस समस्या के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं। इमरान से अल जजीरा के पत्रकार मोहम्‍मद जमजूम ने जब सवाल किया , “पाकिस्तान चीन के साथ घनिष्ठ संबंध रखता है, क्या आपने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ कभी उइगर मुसलमानों के उत्पीड़न के मुद्दे पर चर्चा की है?”

इमरान ने इसका जवाब देते हुए कहा, “नहीं, मैंने नहीं की है, क्योंकि इसके बारे में मुझे ज्यादा नहीं पता है।” आगे इमरान ने कहा, “हम अभी अपनी आंतरिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, इस मुद्दे के बारे में मुझे सच में ज्यादा जानकारी नहीं है। हम एक साल से सरकार में हैं, हम अर्थव्यवस्था को सुधारने में लगे हैं और अब कश्मीर का मुद्दा है। हम कई समस्याओं से घिरे हुए हैं। लेकिन मैं चीन के लिए एक बात कहूँगा, हमारे लिए चीन सबसे अच्छा दोस्त है।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके अलावा, इस इंटरव्यू में इमरान खान ने स्वीकार किया है कि यदि भारत के साथ परपंरागत युद्ध हुआ तो उनके देश को मुॅंह की खानी पड़ेगी। उन्होंने कहा, “अगर पाकिस्तान ने भारत के साथ परंपरागत युद्ध लड़ा और वह हारने लगा तब उसके पास दो ही विकल्प होंगे, या तो वह आत्मसमर्पण करे और या फिर आखिरी दम तक आजादी की लड़ाई लड़े।” इमरान खान ने कहा कि उन्हें मालूम है कि पाकिस्तानी अपनी आजादी की लड़ाई अंतिम सॉंस तक लड़ेंगे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शरजील इमाम
“अब वक्त आ गया है कि हम गैर मुस्लिमों से बोलें कि अगर हमारे हमदर्द हो तो हमारी शर्तों पर आकर खड़े हो। अगर वो हमारी शर्तों पर खड़े नहीं होते तो वो हमारे हमदर्द नहीं हैं। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है। असम और इंडिया कटकर अलग हो जाए, तभी ये हमारी बात सुनेंगे।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,052फैंसलाइक करें
36,145फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: