इस्लाम से भी पुराना है हिन्दुस्तान, कभी पाकिस्तान का हिस्सा नहीं बनेगा कश्मीर: ऑस्ट्रेलियाई इमाम

इमाम तौहीदी ने लोकतंत्र का हवाला देते हुए पाकिस्तान से बलूचिस्तान की आजादी का भी समर्थन किया है। उन्होंने वहाँ महिलाओं की किडनैपिंग और उन पर अत्याचार को लेकर चिंता जताई है।

3948
इमाम मुहम्मद तौहीदी
इमाम मुहम्मद तौहीदी ने पाकिस्तान को पढ़ाया पाठ

धर्म के नाम पर कश्मीर में आतंक को बढ़ावा देने वाले पाकिस्तान को एक इस्लामी विद्वान ने खरी-खरी सुनाई है।
ऑस्ट्रेलियाई इस्लामिक विद्वान इमाम मुहम्मद तौहीदी ने कहा है कि कश्मीर न कभी पाकिस्तान का हिस्सा रहा है और न कभी उसका हिस्सा बनेगा।

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त करने के मामले पर ट्विटर पर अपनी राय रखते हुए इमाम ने यह बात कही है। अपने ट्वीट में उन्होंने कहा है कि हिन्दुस्तान इस्लाम से भी पुराना है।

उन्होंने ट्वीट किया है, “पाकिस्तान और कश्मीर दोनों भारत के हैं। हिन्दुओं के धर्म बदलकर मुसलमान बनने से इस सच को झुठलाया नहीं जा सकता कि वह पूरा इलाका हिन्दू भूमि है। हिन्दुस्तान इस्लाम से भी पुराना है।”

तौहीदी ने 11 अगस्त 2019 को यह ट्वीट किया था। अपने हालिया ट्वीट में उन्होंने लोकतंत्र का हवाला देते हुए पाकिस्तान से बलूचिस्तान की आजादी का भी समर्थन किया है। उन्होंने वहाँ महिलाओं की किडनैपिंग और उन पर अत्याचार को लेकर चिंता जताई है। साथ ही बलूचिस्तान को पाकिस्तान की सरकार और आईएसआई की कैद से छुटकारा दिलाने की बात भी कही है।

खुद को सुधारवादी बताने वाले इमाम तौहीदी अपनी चर्चित किताब ‘फॉर लेफ्ट, फॉर राइट, कीप अ बैलेंस इन लाइफ’ में कट्टरपंथ को सिरे से खारिज कर चुके हैं। अपने हालिया ट्वीट में उन्होंने बताया था कि उनके अधिकतर अनुयायी अच्छे लोग हैं, जिसके कारण उन्हें कट्टरपंथियों से लड़ने की ताकत मिलती है।