मुसलमान नालायक, बर्बादी की ओर बढ़ रहे: CAB विरोधियों को पाकिस्तानी युवक का टका सा जवाब

CAB का समर्थन करते हुए युवक कहता है कि मुस्लिम समुदाय के लोगों पर टैग लग गया है कि वे आतंकी हैं। केवल उनके कहने से कि वे ऐसे नहीं हैं- कुछ नहीं होगा। पूरा विश्व मानता है कि वे अब आतंकी हैं।

भारत के नागरिकता कानून को लेकर तमाम तरह की प्रतिक्रियाएँ आ रही है। कहीं लोगों में खुशी है तो कहीं आक्रोश। कुछ लोगों का मानना है कि केंद्र सरकार के इस कदम के बाद उनके जीवन में उजाला आएगा। भारतीय मुसलमानों के हिंसक प्रदर्शन के एक वीडियो पाकिस्तान से आया है। इसमें एक मुस्लिम युवक बता रहा है कि क्यों इस कानून का विरोध नहीं करना चाहिए।

वीडियो में युवक मुस्लिम समुदाय के लोगों की स्थिति को ‘नालायक बेटे’ से जोड़कर बता रहा है। साथ ही अपने उदाहरणों के जरिए ये भी बताने की कोशिश कर रहा है कि मुस्लिम समुदाय बर्बादी की ओर आगे बढ़ रहा है। उसकी वजह से देश को कोई फायदा नहीं हो रहा। युवक के अनुसार आज पाकिस्तान और मुस्लिम समुदाय को लेकर लेकर पूरे विश्व में एक राय निर्मित हो चुकी है, जो उन्हें सबके सामने आतंकी के रूप में पेश करती है। इसके उलट भारत एक ऐसा देश बनता जा रहा है जहाँ स्थिति भी बेहतर है और अमेरिका, चाइना की तरह व्यापार भी ज्यादा है।

जानकारी के अनुसार ये वीडियो पाकिस्तान की यूट्यूबर सना अमजद ने बनाई है। इसमें वे अपने मुल्क के लोगों से पूछती नजर आ रही हैं कि भारत द्वारा सिटिजनशिप बिल पास करने के बाद अब सभी अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को वहाँ पर नागरिकता दी जाएगी केवल मुसलमानों को छोड़कर…इस पर उनका क्या कहना है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

सना के सवालों का जवाब देते हुए एक पाकिस्तानी युवक कहता है कि अगर एक घर में पाँच बेटे हैं और पिता उनमें से चार बेटों को घर में जगह दे दे, लेकिन पाँचवे को घर से बाहर कर दे तो इसमें गलती किसकी होगी। पिता की या बेटे की? सना पिता को कसूरवार बताती हैं। इसके बाद युवक कहता है कि अगर चार बेटे अच्छा कमाते हैं और अच्छे से रहते हैं, लेकिन पाँचवाँ बेटा चरस-गाँजे के नशे में डूबा रहता है और केवल बर्बादी की ओर आगे बढ़ता है…उससे घर को कोई फायदा नहीं होता और उसकी सिर्फ शिकायतें ही आ रही हैं, तो गलती किसकी होगी? इस बार सना बेटे को दोषी बताती हैं और पिता के फैसले को सही।

इसके बाद अपनी बात आगे बढ़ाते हुए युवक कहता है कि उनके समुदाय के लोगों के माथे पर टैग लग गया है कि वे आतंकी हैं और केवल उनके कहने से कि वो ऐसे नहीं हैं- कुछ नहीं होगा। पूरा विश्व मानता है कि वो अब आतंकी हैं। युवक के मुताबिक भारत के पास एक पुख्ता वजह है उन्हें अपने मुल्क से निकालने के लिए, जिसका समर्थन कई देश करते हैं।

इसके बाद युवक भारत और अपने मुल्क की आर्थिक स्थिति पर बात करता है। वीडिय़ो में युवक को साफ कहते सुना जा सकता है कि अमेरिका और चाइना के बाद भारत अगला कमर्शियल मार्केट है। दुनिया भारत में निवेश कर रही है और दुनिया को बिजनेसमैन चलाते हैं, पैसा चलाता है, व्यापारिकता चलाती है। हम तुम या ईमान नहीं चलाता। इसलिए एक कमर्शियल मार्केट (भारत) जो 1अरब 30 करोड़ की मार्केट है, वो क्या निर्णय लेती है, ये हम 20 करोड़ (पाकिस्तान) को मानना पड़ेगा। बेवजह जुलूस निकालने से, इंटरव्यू करने से, सोशल मीडिया पर खबर डालने से, धमकी भरे पोस्ट डालने से कुछ नहीं होगा…। न हमसे हुआ है न हमसे होगा…हाँ एक दो बार जंग में हमने हल्का-फुल्का तीर मार लिया होगा, लेकिन ये भी सच है कि 90 लाख ने बांग्लादेश में सरेंडर भी किया है। अगर हम सोचते हैं टैंक, चॉपर, मिग 21 गिराकर हम भारत में संशोधन को रोक देंगे…तो ऐसा कभी नहीं होगा। भारत ने 70 साल पुराने कश्मीर पर फैसला लेकर दिखा दिया, हम वहाँ कुछ नहीं कर पाए। प्रैक्टिकली सोचें कि हम कहाँ पर खड़े हैं? हमारी ताकत क्या है? हमारी ग्रोथ क्या है? लड़के के मुताबिक उनके मुल्क को देखना चाहिए कि वो बाजार में और व्यापारिकता कहाँ हैं…क्योंकि फालतू की बातें करने से कुछ नहीं होगा।

गौरतलब कि फेसबुक से लेकर ट्विटर पर सना अमजद द्वारा युवक का इंटरव्यू जमकर वायरल हो रहा है। लोग युवक की समझदारी सुनकर कह रहे हैं कि करोड़ों में एक मिला है, जो जाहिल नहीं हैं। वहीं कुछ का कहना है कि इत्तेफाक से कभी-कभी समझदार पाकिस्तानी के भी दीदार हो जाते हैं जो आजतक लुप्त प्राय प्रजाति की श्रेणी में आते हैं।

जामिया में मजहबी नारे ‘नारा-ए-तकबीर’, ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ क्यों लग रहे? विरोध तो सरकार का है न?

मुस्लिमों के ‘आतंक’ से जलते बंगाल में CAB के ख़िलाफ़ ममता ने की 16-17 दिसंबर को विरोध-प्रदर्शन की घोषणा

ममता के बंगाल में जुमे की नमाज के बाद मुसलमानों ने योजना बनाकर की जमकर हिंसा, पत्थरबाजी, आगजनी

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कंगना रनौत, आशा देवी
कंगना रनौत 'महिला-विरोधी' हैं, क्योंकि वो बलात्कारियों का समर्थन नहीं करतीं। वामपंथी गैंग नाराज़ है, क्योंकि वो चाहता है कि कंगना अँग्रेजों के तलवे चाटे और महाभारत को 'मिथक' बताएँ। न्यूज़लॉन्ड्री निर्भया की माँ को उपदेश देकर कह रहा है ये 'न्याय' नहीं बल्कि 'बदला' है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,804फैंसलाइक करें
35,951फॉलोवर्सफॉलो करें
163,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: