Wednesday, November 30, 2022
Homeविविध विषयअन्यवकार युनूस का 'हिंदुओं के बीच नमाज' बस नमूना, पहले भी हिंदू और भारत...

वकार युनूस का ‘हिंदुओं के बीच नमाज’ बस नमूना, पहले भी हिंदू और भारत घृणा दिखाते रहे हैं पाकिस्तानी क्रिकेटर: पढ़िए ऐसी 7 कहानियाँ

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वकार यूनुस ने तो कहा कि उन्हें पूरे मैच (24 अक्टूबर को हुए भारत-पाक मैच) में सबसे अच्छी बात ये लगी कि रिजवान ने सभी हिंदुओं के सामने खड़े होकर नमाज पढ़ी।

भारत-पाकिस्तान मैच के बाद इस्लामी कट्टरपंथी पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाते हुए हिंदू घृणा दिखाने से नहीं चूँक रहे। ऐसे में पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वकार यूनुस ने तो कहा है कि उन्हें पूरे मैच में सबसे अच्छी बात ये लगी कि रिजवान ने सभी हिंदुओं के सामने खड़े होकर नमाज पढ़ी। उनके इस बयान पर जब लोगों ने आपत्ति जताई और विरोध हुआ तो उन्होंने माफी माँगते हुए कहा कि उनके मुँह से ये बात आवेश में निकल गई थी। 

वकार ने ट्वीट कर माफी माँगी और लिखा, “आवेश में आकर मैंने ऐसी बात कह दी, मैंने ऐसा कुछ कहा, जो मेरा कहने का मतलब नहीं था, जिससे काफी लोगों की भावनाएँ आहत हुई हैं। मैं इसके लिए माफी माँगता हूँ, मेरा ऐसा मकसद बिल्कुल नहीं था, सच में गलती हो गई। खेल लोगों को रंग और धर्म से हटकर जोड़ता है।”

यहाँ बता दें कि विवादों में घिरने के बाद भले ही वकार ने माफी माँग ली हो लेकिन यह पहला मौका नहीं है जब पाकिस्तान क्रिकेटर ने सार्वजनिक तौर पर भारत और हिंदुओं के ख़िलाफ़ अपनी घृणा का प्रदर्शन किया है।

शोएब अख्तर ने मैच से पहले किया दो राष्ट्र सिद्धांत का प्रचार

हाल में हुए मैच से पहले पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाज शोएब अख्तर और हरभजन सिंह आजतक के एक कार्यक्रम में साथ दिखे। यहाँ हँसी-मजाक हुआ और एक दूसरे पर कई तंज कसे गए। लेकिन इस दौरान शोएब ने दो राष्ट्र सिद्धांत का प्रचार करते हुए हरभजन को कहा कि वो इसमें यकीन रखते हैं और उनकी अपनी विचारधारा है। अगर उन्होंने इस पर बात करनी शुरू कर दी तो चीजें बहुत आगे चली जाएँगी।

‘आएगा गजवा-ए-हिंद, जीतेंगे कश्मीर’

बीते दिनों एक वीडियो वायरल हुई थी। इसमें शोएब अख्तर समा टीवी से बात करते हुए कह रहे थे कि “ये हमारी पाक किताब में लिखा है कि गजवा ए हिंद आएगा। अटक की नदी दोबारा खून से लाल रंग की होगी। अफगानिस्तान की सेना अटक पहुँचेंगी। उसके बाद शमल मशरिक से सेनाएँ उठेंगी। अलग-अलग दल उज्बेकिस्तानन आदि से पहुँचेंगे… जो लाहौर तक फैले ऐतिहासिक क्षेत्र खोरासन को दर्शाता है। बाद में वह ताकतें कश्मीर को जीतेंगी और फिर बाद इंशाल्लाह काफिला बढ़ता (बाकी बचे भारत की ओर) रहेगा।”

भारत सुरक्षित नहीं है- जावेद मियानंद

साल 2019 में जावेद मियानंद ने बयान दिया था, “आईसीसी को आगे आना चाहिए और दुनिया, आईसीसी के सहयोगी देशों को बताना चाहिए कि भारत में खेलना बंद करें क्योंकि यह देश सुरक्षित नहीं है। दूसरे देश भारत से बेहतर हैं। भारत में लोग अपने ही देशवासियों से लड़ रहे हैं। क्या हो रहा है, देखिए और ऐक्शन लीजिए।” उस समय भारतीय क्रिकेटर विनोद कांबली ने जावेद को आड़े हाथ लेकर कहा था कि रिटार होने के बाद भी उंगली करने की आदत नहीं गई।

शाहिद अफरीदी का जहर

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी अक्सर भारत विरोधी बातें करते हैं। एक बार उन्होंने भारत के लिए जहर उगलते हुए कहा था,उन्हें तो ठीक-ठाक मारा है हमने। इतना मारा है कि कई बार माफियाँ माँगी हैं उन्होंने।” उन्होंने दावा किया कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध दबाव ज्यादा रहने से उन्हें खेलने में खूब मजा आता था। 

‘इस्लाम अपनाओ जन्नत जाओगे’

पाकिस्तानी क्रिकेटर अहमद शहजाद का एक वीडियो कुछ दिन पहले वायरल हुआ था। वीडियो 2014 की थी। जब श्रीलंका और पाकिस्तान का मैच हो रहा था। वायरल वीडियो में दिलशान बल्लेबाजी कर के लौट रहे हैं और उनके साथ चल रहे अहमद शाहजाद उन्हें कह रहे हैं कि अगर आप नॉन-मुस्लिम हैं और इस्लाम अपना लेते हैं तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि फिर अपने जीवन में आप क्या करते हो, आप अंततः जन्नत हो जाओगे।

तलवार से मार सकता हूँ इंसान: आर्टिकल 370 हटने पर जावेद की धमकी

आर्टिकल 370 हटने से कई पाकिस्तानी आग बबूला थे। ऐसे में पूर्व क्रिकेटर जावेद ने भारत को तलवार दिखाकर धमकी दी थी। उन्होंने कहा था, “कश्मीरी भाइयों फ़िक्र ना करो, हम आपके साथ हैं। मेरे पास बल्ला भी है छक्का मारा था अब ये (तलवार) चलेगा। जब बल्ले से छक्का मार सकता हूँ तो इससे (तलवार) से इंसान क्यों नहीं मार सकता।” 

मोहम्मद शमी मुस्लिम होने के कारण टीम से बाहर: मोइन खान

साल 2019 में श्रीलंका के साथ हुए मैच में मोहम्मद शमी की जगह जडेजा को जगह मिलने के बाद पाक के पूर्व क्रिकेटर मोइन खान ने नफरत फैलाने का काम किया था। उनका कहना था कि शमी को मौका इसलिए नहीं मिला क्योंकि भाजपा मुस्लिमों के आगे बढ़ने नहीं देना चाहती।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe