Thursday, July 25, 2024
Homeविविध विषयअन्यICC में अध्यक्ष के बाद सबसे ताकतवर पद पर जय शाह: बजट से लेकर...

ICC में अध्यक्ष के बाद सबसे ताकतवर पद पर जय शाह: बजट से लेकर तमाम वित्तीय फैसले भी उनके ही जिम्मे, महत्वपूर्ण समिति के बने प्रमुख

ICC की वित्त-वाणिज्यिक मामलों की समिति सभी बड़े वित्तीय नीतिगत फैसले लेती है। यह समिति वार्षिक बजट पर निर्णय लेती है। इसके बाद इस पर बोर्ड मुहर लगाता है। समिति के प्रमुख कामों में सदस्य देशों के बीच राजस्व को साझा शामिल है।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के सचिव जय शाह (Jay Shah) को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (ICC) का वित्त-वाणिज्यिक मामलों की समिति (F&CA) का प्रमुख चुना गया है। यह ICC की सबसे महत्वपूर्ण समिति है और इस समिति का प्रमुख हमेशा बोर्ड का सदस्य होता है। इसे अध्यक्ष के बाद सबसे ताकतवर पद माना जाता है।

उधर, न्यूजीलैंड के ग्रेग बार्कले (Greg Barclay) को शनिवार (9 नवंबर 2022) को फिर से आईसीसी (ICC) का चेयरमैन चुना गया। उनका कार्यकाल दो साल के लिए होगा। ग्रेग बार्कले को नवंबर 2020 में आईसीसी का चेयमरैन बनाया गया था। इससे पहले वह न्यूजीलैंड क्रिकेट के अध्यक्ष और 2015 में आईसीसी पुरूष क्रिकेट विश्व कप के निदेशक थे।

ग्रेग बार्कले को निर्विरोध चुना गया है। इसका मतलब है कि 17 सदस्यीय बोर्ड में उन्हें BCCI का भी समर्थन प्राप्त था। शाह का वित्त समिति का अध्यक्ष चुने जाने के बाद स्पष्ट हो गया है कि वह ICC बोर्ड में BCCI का प्रतिनिधित्व करेंगे।

ICC की वित्त-वाणिज्यिक मामलों की समिति सभी बड़े वित्तीय नीतिगत फैसले लेती है। यह समिति वार्षिक बजट पर निर्णय लेती है। इसके बाद इस पर बोर्ड मुहर लगाता है। समिति के प्रमुख कामों में सदस्य देशों के बीच राजस्व को साझा शामिल है।

एन श्रीनिवासन के समय में इस समिति का प्रमुख भारत का ही होता था। हालाँकि, बाद में स्थिति ऐसी नहीं रही। BCCI के पूर्व अध्यक्ष सौरव गांगुली पिछले साल तक इस समिति के सदस्य थे। जय शाह अगले कुछ दिनों में आईसीसी बोर्ड की वार्षिक बैठक के लिए मेलबर्न पहुंचेंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वकील चलाता था वेश्यालय, पुलिस ने की कार्रवाई तो पहुँचा हाई कोर्ट: जज ने कहा- इसके कागज चेक करो, लगाया ₹10000 का जुर्माना

मद्रास हाई कोर्ट में एक वकील ने अपने वेश्यालय पर कार्रवाई के खिलाफ याचिका दायर की। कोर्ट ने याचिका खारिज करके ₹10,000 का जुर्माना लगा दिया।

माजिद फ्रीमैन पर आतंक का आरोप: ‘कश्मीर टाइप हिंदू कुत्तों का सफाया’ वाले पोस्ट और लेस्टर में भड़की हिंसा, इस्लामी आतंकी संगठन हमास का...

ब्रिटेन के लेस्टर में हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा भड़काने वाले माजिद फ्रीमैन पर सुरक्षा एजेंसियों ने आतंक को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -