Monday, July 22, 2024
Homeविविध विषयअन्यजिस कुत्ते को बचाने में चली गई बाइकर की जान, अब वो 'पश्चताप' करने...

जिस कुत्ते को बचाने में चली गई बाइकर की जान, अब वो ‘पश्चताप’ करने उसके घर पहुँचा: माँ की गोद में सिर रख जताया दुख, देखें Video

पालतू कुत्तों की वफादारी की कई कहानियाँ आपने अक्सर सुनीं होंगी लेकिन सड़क पर घूमने वाले आवारा कुत्ते में भी कितने इमोशन्स होते हैं ये समझने के लिए एक कर्नाटक की घटना के बारे में जानना बेहद जरूरी है।

पालतू कुत्तों की वफादारी की कई कहानियाँ आपने अक्सर सुनीं होंगी लेकिन सड़क पर घूमने वाले आवारा कुत्ते में भी कितने इमोशन्स होते हैं ये समझने के लिए एक कर्नाटक की घटना के बारे में जानना बेहद जरूरी है।

कर्नाटक के दावणगेरे में पिछले दिनों एक आवारा कुत्ते की जान बचाने के चक्कर में तीपेश नाम के लड़के ने अपनी जान गवा दी थी। जवान लड़के के चले जाने से घर में मातम का माहौल था। ऐसे में नाते-रिश्तेदारों का घर आ आकर सांत्वना देना एक आम बात थी। लेकिन इन सबके बीच उसी कुत्ते का घर आना लोगों को चौंका गया जिसे बचाते हुए तीपेश की जान गई थी।

सोचिए ये कितना अचंभित करने वाला होगा कि एक सड़क पर घूमने वाला कुत्ता कई किलोमीटर दूर से चलकर उसी तीपेश के घर आ पहुँचा, जिसने उसकी जान बचाई थी। तीपेश की माँ तो बताती हैं कि वो कुत्ता उनके घर पर तभी से आने की कोशिश कर रहा था जब से उनके बेटे का अंतिम संस्कार हुआ था, मगर इलाके के कुत्ते उसे भगा दे रहे थे।

आखिर में कुछ दिन बाद वही कुत्ता अचानक तीपेश के घर आ पहुँचा और जाकर सीधे तीपेश की माँ यशोदम्मा की गोद में अपना सिर रख दिया। घरवालों को जरा देर भी नहीं लगी समझने में कि किस तरह वो कुत्ता उनके बेटे की मौत पर दुख जताने के लिए इतनी दूर से उनके घर आया है और ऐसी हरकत करके वो बताने की कोशिश कर रहा है कि उसे भी बहुत दुख है तीपेश के जाने का।

रिपोर्ट्स की मानें तो रिश्तेदारों का कहना है कि कुत्ता करीब 8 किलोमीटर तक चलने के बाद तीपेश के घर पहुँचा था। उसने उसी वाहन का पीछा करके घर का पता लगाया था जिसमें तीपेश के शव को लाया गया। अंतिम संस्कार के वक्त भी वो कुत्ता आसपास ही था और हैरानी तो सबको तब हुई जब वो 3 दिन बाद घर में घुसकर सीधे तीपेश की माँ के पास जाकर बैठ गया।

तिपेश के घरवालों का कहना है कि वो कुत्ते से नाराज नहीं है। हादसे में उन्होंने अपना बेटा-भाई खोया है। इसमें उस कुत्ते की क्या गलती। आज वो कुत्ता अपने व्यवहार के चलते तीपेश के घरवालों के साथ ही रहता है। हर मीडिया अखबार में उसकी चर्चा हो रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हज पर मुस्लिम मर्द दबाते हैं बच्चियों-औरतों के स्तन, पीछे से सटाते हैं लिंग, घुसाते हैं उँगली… और कहते हैं अल्हम्दुलिल्लाह: जिन-जिन ने झेला,...

कुछ महिलाओं की मानें तो उन्हें यकीन नहीं हुआ इतनी 'पाक' जगह पर लोग ऐसी हरकत कर रहे हैं और ऐसा करके किसी को कोई पछतावा भी नहीं था।

बाइडेन बाहर, कमला हैरिस पर संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ओबामा ने चली चाल, समर्थन पर कहा – भविष्य में क्या होगा, कोई नहीं...

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों की दौड़ से बाइडेन ने अपना नाम पीछे लिया तो बराक ओबामा ने उनकी तारीफ की और कमला हैरिस का समर्थन करने से बचते दिखे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -