Thursday, July 25, 2024
Homeविविध विषयअन्यकॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की उम्मीदों को बड़ा झटका: बाहर हुए नीरज चोपड़ा, वर्ल्ड...

कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की उम्मीदों को बड़ा झटका: बाहर हुए नीरज चोपड़ा, वर्ल्ड चैंपियनशिप में पट्टी बाँध सिल्वर पर मारा था भाला

“नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में हिस्सा नहीं लेंगे। वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप के फाइनल में चोटिल होने के कारण वह फिट नहीं हैं। उन्होंने हमें इस बारे में सूचित कर दिया है।”

इंग्लैंड के बर्मिंघम में इस साल होने वाले कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स (Common wealth Games2022) से पहले भारत को तगड़ा झटका लगा है। ओलंपिक चैंपियन और वर्ल्ड चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रचने वाले नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर हो गए हैं। चोट की वजह से उन्हें टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा है।

इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) के महासचिव राजीव मेहता ने नीरज के कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर होने की पुष्टि की है। मेहता ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, “नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में हिस्सा नहीं लेंगे। वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप के फाइनल में चोटिल होने के कारण वह फिट नहीं हैं। उन्होंने हमें इस बारे में सूचित कर दिया है।”

कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स (CWG) की शुरुआत 28 जुलाई से बर्मिंघम में होनी है। इस गेम्स के लिए नीरज चोपड़ा को भारत की सबसे बड़ी उम्मीद माना जा रहा था। ऐसे में उनका चोटिल होकर टूर्नामेंट से बाहर होना भारत के लिए बहुत बड़ा झटका है।

दरअसल, नीरज को विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के फाइनल के दौरान ही चोट लग गई थी। इसका खुलासा उन्होंने खुद किया था। वह जैवलिन थ्रो इवेंट के दौरान जाँघ पर पट्टी बाँधते भी नजर आए थे। इसके बाद उनका एमआरआई स्कैन हुआ था, जिसमें ग्रोइन इंजरी का पता लगा था। उन्हें तीन हफ्ते आराम की सलाह दी गई है। नीरज ने फाइनल के बाद कहा था, “मुझे चौथे थ्रो के बाद थोड़ा दर्द महसूस हुआ था। इसके बाद मैंने बैंडेज बाँधकर अगला थ्रो किया। फिलहाल, इवेंट से लौटा ही हूँ। इसलिए ज्यादा तकलीफ का पता नहीं चल रहा है। जाँच के बाद ही पता लगेगा यह चोट कितनी गंभीर है।”

गौरतलब है कि नीरज चोपड़ा ने वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल हासिल कर इतिहास रचा था। उन्होंने 88.13 मीटर भाला फेंक (बेस्ट ऑफ 6 में से) कर यह मेडल हासिल किया था। वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में उनसे पहले किसी भी भारतीय पुरुष ने कोई भी पदक नहीं जीता था। इससे पहले वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भारत के लिए एकमात्र मेडल अंजू बॉबी जॉर्ज ने 2003 में जीता था। उन्हें लॉन्ग जंप में ब्रॉन्ज मेडल मिला था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -