Friday, June 14, 2024
Homeविविध विषयअन्यगोवा में ध्वस्त किए गए थे 1000+ मंदिर, पुर्तगालियों के विध्वंस पर पुरातत्व विभाग...

गोवा में ध्वस्त किए गए थे 1000+ मंदिर, पुर्तगालियों के विध्वंस पर पुरातत्व विभाग ने सौंपी रिपोर्ट: कहा- फिर से सारे बनाना संभव नहीं, एक स्मारक बना दे सरकार

रिपोर्ट के मुताबिक, पुरातत्व विभाग के एक्सपर्ट पैनल ने 10 पन्नों की शुरुआती रिपोर्ट सरकार को सौंपी है। इससे पता चला है कि अधिकतर मंदिर गोवा के तिसवाड़ी, बारदेज और सैलसेट तालुका में ध्वस्त किए गए थे।

पुर्तगाली शासन के दौरान गोवा में 1000 से अधिक मंदिर ध्वस्त किए गए थे। पुरातत्व विभाग के एक्सपर्ट पैनल ने इन मंदिरों के बारे में जानकारी इकट्ठा की है। यह जानकारी राज्य के पुरालेख एवं पुरातत्व मंत्री सुभाष पाल देसाई ने दी है। उन्होंने बताया है कि पैनल ने ध्वस्त किए गए इन मंदिरों की जगह एक स्मारक बनाने की सिफारिश सरकार से की है। उनका मानना है कि इन सारे मंदिरों को फिर से बनाना संभव नहीं है।

पुर्तगाली शासन के दौरान नष्ट किए गए मंदिरों की पहचान और पुनर्निर्माण के लिए संभावित स्थलों की पहचान के लिए आवेदनों और दावों का आकलन करने के लिए इसी साल जनवरी में राज्य सरकार समिति बनाई गई थी। गोवा सरकार ने इसके लिए 20 करोड़ रुपए का बजट रखा था। इस बजट का प्रावधान गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही प्रमोद सावंत (Pramod Sawant) ने नष्ट किए गए हिंदू मंदिरों और विरासत स्थलों के जीर्णोद्धार और पुनर्निर्माण के लिए किया था।

गोवा के सीएम प्रमोद सावंत ने 6 जून 2023 में कहा था कि पुर्तगालियों ने अपने शासनकाल के दौरान राज्य में कई मंदिरों को ध्वस्त कर दिया था। पुर्तगालियों ने 1510 से 1961 तक गोवा पर शासन किया था।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, पुरातत्व विभाग के एक्सपर्ट पैनल ने 10 पन्नों की शुरुआती रिपोर्ट सरकार को सौंपी है। इससे पता चला है कि अधिकतर मंदिर गोवा के तिसवाड़ी, बारदेज और सैलसेट तालुका में ध्वस्त किए गए थे। विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, “समिति का काम इन साइटों की पहचान करना है। समिति को अब तक 19 आवेदन मिले हैं। कई मंदिरों को ध्वस्त कर दिया गया था। समिति ने पाया कि इतने सारे मंदिरों का पुनर्निर्माण करना संभव या व्यावहारिक नहीं है। भूमि अधिग्रहण भी एक चुनौती होगी। इसलिए पैनल ने सिफारिश की है कि सरकार एक स्मारक मंदिर का निर्माण करे।”

गोवा के पुरातत्व विभाग की गठित इस समिति ने अन्य स्थलों पर भी आगे की खोज और खुदाई का सुझाव दिया है। दिवेर द्वीप पर सप्तकोटेश्वर मंदिर के पुनर्निर्माण की सिफारिश की है। यह मंदिर कदंब राजवंश के दौरान द्वीप पर बनाया गया था और 16वीं शताब्दी में पुर्तगालियों ने इसे ध्वस्त कर दिया था।

अधिकारी ने आगे बताया, “दिवेर द्वीप में भूमि पहले से ही सरकार के अधीन है। यह एक संरक्षित स्थल है। इसलिए समिति को वहाँ मंदिर का पुनर्निर्माण करने की संभावना दिखती है। अन्य स्थलों पर, जहाँ यह पाया गया कि मंदिर की नींव या स्तंभ के अवशेष हैं, पैनल ने ऐसे स्थलों की सुरक्षा करने और आगे की जाँच करने की सिफारिश की है।”

उन्होंने आगे कहा, “राज्य के अन्य हिस्से जैसे पोंडा और क्वेपेम उस वक्त मराठा शासन के अधीन थे और कई देवताओं और मूर्तियों को तिसवाड़ी से बिचोलिम तालुका और सैलसेट से पोंडा स्थानांतरित कर दिया गया था।” अधिकारी ने बताया, “समिति (तोड़े गए मंदिरों की) किसी निश्चित संख्या तक नहीं पहुँची है। यह (एक हजार) के करीब है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -