Saturday, July 20, 2024
Homeविविध विषयअन्यबजरंग-विनेश की तरह बिना ट्रायल नहीं जाऊँगी एशियन गेम्स: डायरेक्ट एंट्री के विरोध में...

बजरंग-विनेश की तरह बिना ट्रायल नहीं जाऊँगी एशियन गेम्स: डायरेक्ट एंट्री के विरोध में साक्षी मलिक, कहा- मुझे भी मिला ऑफर, मना कर दिया

"मैं कुश्ती के भले के लिए ही प्रदर्शन में थी। मैं इस तरह बिना ट्रायल नाम भेजने के विरोध में हूँ, क्योंकि मैं नहीं चाहती कि किसी का हक छीना जाए। कुश्ती में हमारी आपस में लड़ाई कराने जैसी यह जो नीति बनी है, मैं उसके खिलाफ हूँ।"

बजरंग पुनिया और विनेश फोगाट को एशियन गेम्स में डायरेक्ट एंट्री का पहलवान साक्षी मलिक ने भी विरोध किया है। उन्होंने कहा कि वे बिना ट्रायल के मौके देने के पक्ष में नहीं हैं। उन्हें भी बजरंग और विनेश की तरह ऑफर दिया गया था। लेकिन उन्होंने इससे इनकार कर दिया।

भारतीय कुश्ती संघ (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ पहलवानों के धरना-प्रदर्शन का बजरंग और विनेश की तरह ही साक्षी मलिक भी प्रमुख चेहरा थीं। बिना ट्रायल मौके देने का ठीकरा साक्षी ने सरकार पर फोड़ा है। कहा है कि इससे पहलवानों की एकता तोड़ी जा रही है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “सरकार ने एशियन गेम्स में सीधे नाम भेजकर पहलवानों की एकता को तोड़ने का काम किया है। मैं न कभी बिना ट्रायल खेलने गई हूँ और न ही इसका समर्थन करती हूँ। सरकार की इस मंशा से विचलित हूँ। हमने ट्रायल्स की डेट आगे बढ़वाने की बात कही थी, लेकिन सरकार ने हमारी झोली में यह बदनामी डाल दी है।”

वहीं न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा, “मैं कुश्ती के भले के लिए ही प्रदर्शन में थी। मैं इस तरह बिना ट्रायल नाम भेजने के विरोध में हूँ, क्योंकि मैं नहीं चाहती कि किसी का हक छीना जाए। कुश्ती में हमारी आपस में लड़ाई कराने जैसी यह जो नीति बनी है, मैं उसके खिलाफ हूँ।” उन्होंने यह भी कहा है, “मुझे 3-4 दिन पहले सरकार की तरफ से फोन आया था कि हम बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट को एशियन गेम्स के लिए भेज रहे हैं। आप भी मेल कर दो, आपको भी भेज देंगे। मैंने साफ मना कर दिया। मैं कभी भी बिना ट्रायल के किसी टूर्नामेंट में न ही गई हूँ और न जाना चाहती हूँ।”

उल्लेखनीय है कि एशियन गेम्स के लिए बजरंग और विनेश को डायरेक्ट एंट्री देने का कई पहलवान विरोध कर चुके हैं। यह मामला कोर्ट में भी चला गया है। दिल्ली हाई कोर्ट ने इस मामले को लेकर WFI से जवाब माँगा है। मामले की अगली सुनवाई 22 जुलाई को होगी। एशियन गेम्स 23 सितंबर से चीन से हानझोउ में होने वाला है। दिल्ली हाई कोर्ट में महिला पहलवान अंतिम पंघाल और पहलवान सुजीत कलकल ने याचिका दायर की है। याचिका में कहा गया है कि एक पारदर्शी प्रक्रिया के तहत सभी खिलाड़ियों का ट्रायल हो और किसी को डायरेक्ट एंट्री न मिले। साथ ही ट्रायल की वीडियोग्राफ़ी करने का भी निवेदन किया गया है।

वहीं ओलंपिक मेडलिस्ट पहलवान रहे योगेश्वर दत्त ने भी इसका विरोध किया है। कहा है कि कुश्ती की बहुत बदनामी हो रही है। उन्होंने कहा, “पूरा देश कन्फ्यूज है कि ये हो क्या रहा है। चीफ कोच से मैंने बात कि उन्होंने कहा कि उनका इससे कोई लेना-देना नहीं है। कमिटी में कुछ लोग हैं, जिन्होंने ये फैसला लिया है। चीफ कोच की सहमति के बिना फैसले नहीं लिए जा सकते। कोई कैम्प लगा कर फिटनेस टेस्ट भी नहीं लिया गया। कई पहलवान दुःख में हैं, वो ट्रायल के लिए गुहार लगा रहे हैं। कमिटी ने कोई निष्पक्षता नहीं बरती है। अगर बिना ट्रायल भेजना है तो पूरी टीम भेजिए – ऐसा क्यों नहीं हुआ, इसका जवाब देना पड़ेगा।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -