Sunday, July 21, 2024
Homeविविध विषयअन्यइधर बेटे ने ठोके 171 रन, उधर काँवड़ लेकर पैदल उत्तराखंड के लिए निकले...

इधर बेटे ने ठोके 171 रन, उधर काँवड़ लेकर पैदल उत्तराखंड के लिए निकले पिता: नए घर में शिफ्ट हुआ यशस्वी जायसवाल का परिवार

उनकी काँवड़ लिए फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। बताया जा रहा है कि भूपेंद्र जायसवाल उत्तर प्रदेश से उत्तराखंड तक पैदल यात्रा करेंगे। 

टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने डेब्यू टेस्ट मैच में शतक जड़ फैंस का दिल एक बार फिर जीत लिया। यशस्वी के शतक से खुश हो उनके पिता काँवड़ यात्रा के लिए निकल पड़े हैं। वहीं दूसरी ओर उनका परिवार यशस्वी की इच्छा पूरी करते हुए पुराने मकान को छोड़ नए घर में शिफ्ट हो गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच में यशस्वी जायसवाल के शतक लगाने से बेहद से उनके पिता भूपेंद्र जायसवाल बेहद खुश हुए। इसके बाद वह उत्तर प्रदेश के भदोही से काँवड़ लेकर उत्तराखंड के बैजनाथ धाम को निकल चुके हैं। उनकी काँवड़ लिए फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। बताया जा रहा है कि भूपेंद्र जायसवाल उत्तर प्रदेश से उत्तराखंड तक पैदल यात्रा करेंगे। 

काँवड़ यात्रा के लिए निकलने से पहले भूपेंद्र जायसवाल ने कहा है कि उनकी भोलेनाथ से प्रार्थना है कि उनका दोहरा शतक मारे। बेशक यशस्वी जायसवाल पहले टेस्ट मैच में दोहरे शतक से चूक गए हों। लेकिन 20 जुलाई से शुरू होने वाले दूसरे टेस्ट मैच में उनके पास दोहरा शतक जड़ने का एक और मौका होगा। 

यशस्वी की जिद के आगे झुका परिवार

यशस्वी जायसवाल टेस्ट सीरीज के लिए वेस्टइंडीज दौरे पर हैं। जब वह अपने टेस्ट करियर की शुरुआत कर शतक की ओर बढ़ रहे थे तब उनका परिवार यशस्वी की इच्छा पूरी करने में जुटा हुआ था। दरअसल, यशस्वी पुराने मकान को छोड़कर नए घर में शिफ्ट होना चाहते थे। वह हमेशा से ही घरवालों से नए घर में शिफ्ट होने की बात करते थे। हालाँकि, अब उनका परिवार किराए के मकान से मुंबई में 5BHK के एक फ्लैट में शिफ्ट हो गया है।

इंडियन एक्सप्रेस से हुई बातचीत में यशस्वी के भाई तेजस्वी ने कहा है, “यशस्वी हमसे लगातार यह कहता था कि प्लीज जल्दी शिफ्ट हो जाओ। अब मैं इस घर में नहीं रहना चाहता। टेस्ट मैच के दौरान भी वह हमसे घर शिफ्टिंग को लेकर सवाल कर रहा था। पूरी जिंदगी में उसकी एक ही इच्छा था कि अपना घर हो। सबको पता है कि वह किन परिस्थितियों में रहा है। वह मुंबई में खुद का घर होने के महत्व को समझता है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -