बसपा विधायक के फार्म में चल रही थी गोकशी: शकू, जाहिद, ओसफ, जुबैर, नानू और तस्लीम गिरफ्तार

एसपी ने बताया कि घटनास्थल पर जो माँस, सींग और चमड़ा जब्त की गई है, शुरुआती जाँच में ये पुष्टि होती है कि वो गाय के ही हैं। मौके से करीब 2 क्विंटल गोमांस और छुरे आदि बरामद हुए।

यूपी के बिजनौर पुलिस ने बसपा विधायक रुचि वीरा के फार्म हाउस पर देर रात छापा मारकर गोकशी के आरोप में 6 लोगों को गिरफ्तार किया, जबकि 7 लोग फरार हो गए। पुलिस ने गोकशी के मामले में 13 आरोपितों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की है।

एसपी लक्ष्मी निवास मिश्रा के मुताबिक, थाना कोतवाली शहर बिजनौर के झाकड़ी बांगर गाँव के पास कई बीघा जमीन पर पूर्व सपा विधायक रुचि वीरा का फॉर्म हाउस है। पुलिस को मुखबिर से लगातार सूचना मिल रही थी कि पूर्व विधायक के फार्म हाउस में काफी समय से गोकशी का धंधा चल रहा है। गुरुवार (जुलाई 25, 2019) को पुलिस इलाके में गश्त लगा रही थी कि एक मुखबिर ने उन्हें सूचना दी कि कुछ लोग खेत में गाय का वध कर रहे हैं। मुखबिर ने फार्म के गन्ने के खेत में गोकशी की बात कही। पुलिस जब खेत के लगभग 400 मीटर अंदर पहुँची, तो उन्होंने तकरीबन 12 से 13 लोगों को गाय काटते पाया। इस मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया, जबकि 7 अन्य चकमा देकर फरार होने में सफल हो गए। मौके से करीब 2 क्विंटल गोमांस और छुरे आदि बरामद हुए।

एसपी ने बताया कि घटनास्थल पर जो माँस, सींग और चमड़ा जब्त की गई है, शुरुआती जाँच में ये पुष्टि होती है कि वो गाय के ही हैं। हालाँकि, बरामद शरीर के अंगों और माँसों के नमूने प्रयोगशाला में भेजे गए हैं। इसकी जाँच की जा रही है। आरोपितों की पहचान शकू, जाहिद, ओसफ, जुबैर, गुफरान, नेमुद्दीन, नानू, शकील, नवीन, तस्लीम, रईस, फेम और अबरार के रूप में हुई है। इनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। जिसमें से शकू, जाहिद, ओसफ, जुबैर, नानू और तस्लीम को गिरफ्तार किया गया है। इस गोकशी के मामले में पुलिस बसपा विधायक रुचि वीरा के खिलाफ भी संलिप्तता की जाँच कर रही है। विधायक की संलिप्तता पाए जाने पर पुलिस उनके खिलाफ भी कार्रवाई की बात कह रही है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रुचि वीरा के पति और जिला पंचायत बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष उदयन वीरा ने कहा, “हमारा गो-वध से कोई लेना-देना नहीं है। यह सच है कि झाकरी बांगर में हमारा फार्म है। हमने वहाँ एक चौकीदार रखा है। उसके पास ही उसकी चाबी रहती है। गोहत्या करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। जहाँ भी नापाक हरकतें हो रही हैं, उसे रोकना पुलिस का काम है।”

पुलिस के मुताबिक, साकू रुचि का चौकीदार है और उसकी की मिलीभगत से चोरी छिपे गोकशी कराई जा रही थी। हालाँकि, रुचि वीरा साकू को अपना चौकीदार मानने से इनकार कर रही है। रुचि ने लोकसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी से इस्तीफा देकर बहुजन समाज पार्टी ज्वाइन किया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: