Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज1300 छेद, 600 किलो बारूद, 60 एक्सपर्ट: ट्विन टावर के बाद पुणे में धराशायी...

1300 छेद, 600 किलो बारूद, 60 एक्सपर्ट: ट्विन टावर के बाद पुणे में धराशायी हुआ चांदनी चौक ब्रिज, मात्र 6 सेकेंड लगे; Video देखें

नोएडा के ट्विन टावर को गिराने के लिए उसके पिलरों में 9,400 छेद किए गए और उनमें करीब 3,500 किलोग्राम विस्फोटक भरे गए थे। इस प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए हर तरह के सुरक्षा उपाय किए गए थे। वहीं, पुणे में भी उन्हीं सुरक्षा उपायों को लागू किया गया।

यूपी के नोएडा स्थित सुपरटेक ट्विन टावर को सफलतापूर्वक गिराने के बाद अब महाराष्ट्र के पुणे के एक व्यस्त इलाके में पुराने पुल को सफलतापूर्वक गिराया गया है। यह ब्रिज काफी पुराना हो गया था, इसलिए इसे गिराने का फैसला लिया गया था।

इस पुल को एडिफिस इंजीनियरिंग नाम के फर्म ने शनिवार-रविवार (1-2 अक्टूबर 2022) की रात को गिराया। यह वही फर्म ने जिसने नोएडा के ट्विन टावर को भी गिराया था। जिला कलेक्टर राजेश देशमुख के अनुसार, जिस ब्रिज को गिराया गया है, वह चाँदनी चौक नाम के व्यस्ततम इलाके में स्थित था और इसे सफलतापूर्वक अंजाम दिया गया।

एडिफिस ने इस पुल को भी गिराने में उसी तकनीक का इस्तेमाल किया, जिसका उपयोग वह ट्विन टावर को गिराने के लिए किया था। यानी, पुल को कंट्रोल्ड ब्लास्ट के जरिए पुल को गिराया गया। इस तकनीक में विस्फोटकों को ‘चार्जिंग’ प्रक्रिया के तहत टारगेट में फिट किया जाता है, उसके बाद उसमें विस्फोट किया जाता है।

पुल में भी चार्जिंग प्रक्रिया के तहत विस्फोटक को लगाया गया था। इसके बाद विस्फोट करने पर पुल अंदर की ओर गिर गया। इस स्थान पर अब नए प्रोजेक्ट के तहत नया निर्माण किया जाएगा। इसी निर्माण के लिए स्थानीय प्रशासन ने यह निर्णय लिया। वहीं, ट्विन टावर को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद गिराया गया था। टावर पर भवन निर्माण के नियमों के उल्लंघन का आरोप था।

एडिफिस इंजीनियरिंग के साथ एनएचआईए (NHAI) की टीम वहाँ मौजूद रही। पुल को गिराने के लिए पुल में ड्रिल कर 1,300 छेद किए गए। इसके लिए 60 एक्सपर्ट की मदद ली गई। इन छेदों में 600 किलोग्राम तरल विस्फोटकों को भरा गया और फिर उसे उड़ाया गया।

बता दें कि नोएडा के ट्विन टावर को गिराने के लिए उसके पिलरों में 9,400 छेद किए गए और उनमें करीब 3,500 किलोग्राम विस्फोटक भरे गए थे। इस प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए हर तरह के सुरक्षा उपाय किए गए थे। वहीं, पुणे में भी उन्हीं सुरक्षा उपायों को लागू किया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

कर्नाटक के बाद अब तमिलनाडु में YouTuber अजीत भारती के खिलाफ FIR, कॉन्ग्रेस नेता सैमुअल MC ने की शिकायत: राहुल गाँधी से जुड़ा है...

"कर्नाटक उच्च न्यायालय ने स्थगन का आदेश दे रखा है, उस पर कथित घटना और केस पर स्टे के बाद, वापस दूसरे राज्य में केस करना क्या बताता है? "

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -