Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजअलीगढ़ में राम बारात पर पथराव: दावा- मस्जिद के पास जमा हुए थे हमलावर,...

अलीगढ़ में राम बारात पर पथराव: दावा- मस्जिद के पास जमा हुए थे हमलावर, फरसा-तलवार से हिंदू श्रद्धालुओं पर हमला

हिंदुओं की ओर से दी गई शिकायत में दावा किया गया है कि राम बारात पर हमला सुनियोजित था। हमलावर एक मस्जिद के पास जमा हुए थे। हाथों में तलवार, तमंचे, डंडे, फरसा आदि लिए हुए थे।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से साम्प्रदायिक तनाव की खबर है। राम बारात में शामिल श्रद्धालुओं ने मुस्लिम कट्टरपंथियों पर हमले का आरोप लगाया है। हमले में लोहे के रॉड और तलवारों का इस्तेमाल होने की खबर है।

आरोपितों के नाम दानिश कुरैशी, यूनिस खान, सलमान, हारून, नासिर, वाहिद, फरीद, कैफ, कलुआ, शमशाद, शाहिद, उवैद, उजैफ, दिलशाद, बिलाल, तल्हा, हनीफ, ज़ाकिर, मौसिम, बाबू, जीशान, जाविद, अतीक, निज़ाम और राजुद्दीन आदि बताए गए हैं। पुलिस ने दोनों पक्षों की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है। घटना रविवार (15 अक्टूबर 2023) की है।

घटना अलीगढ़ के चंडौस थाना क्षेत्र की है। सुनील शर्मा ने पुलिस को दी शिकायत में बताया है कि हर साल की तरह इस बार भी परंपरागत तरीके से रामलीला के बाद राम बरात निकाली गई थी। जब बारात कसेरू अड्डा से गुजरी तो उस पर 100-150 असमाजिक तत्वों ने हमला बोल दिया। वे बारात को रोकना चाहते थे। हमलावरों के हाथों में तलवार, तमंचे, डंडे, फरसा आदि थे। शिकायतकर्ता के अनुसार हमला सुनियोजित था और हमलावर एक मस्जिद के पास जमा हुए थे।

ऑपइंडिया के पास शिकायत की कॉपी मौजूद है। इसके अनुसार बारात पर पथराव भी किया गया। अचानक हुए हमले के बाद श्रद्धालुओं में भगदड़ मच गई। शिकायत के अनुसार हिंसा में विष्णु नाम का युवक घायल हुआ है। दावे के मुताबिक उस पर फरसे से हमला किया गया था। शिकायतकर्ता के अनुसार कम से कम 25 लोग हमले में घायल हुए हैं। पीड़ित ने बताया कि उनके पास प्रशासन द्वारा दी गई अनुमति है, जिसमें रूट मैप भी तय था।

हिन्दू पक्ष ने प्रशासन पर भी ढिलाई का आरोप लगाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस घटना से दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए। मौके पर मौजूद पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने भीड़ को तितर-बितर किया। तनावपूर्ण हालात को देखते हुए कई लोगों ने अपनी दुकानें बंद कर ली। घटना के बाद हिन्दू संगठनों ने थाने के आगे प्रदर्शन किया।

हमले के सामने आए वीडियो में शोभायात्रा में चल रहे वाहन के शीशे भी क्षतिग्रस्त दिखाई दे रहे हैं। इस हिंसा का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक IPS कलानिधि नैथानी ने बताया कि राम बारात के साथ DSP और SDM भी चल रहे थे। हालात बिगड़ने से पहले ही पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए स्थिति सामान्य की। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर हिंसा का आरोप लगा कर तहरीर दी है।

फिलहाल हालात शांतिपूर्ण हैं। पुलिस मामले की जाँच कर रही है। DIG अलीगढ़ शलभ माथुर के मुताबिक CCTV फुटेज और अन्य साक्ष्यों को जाँचा जा रहा है और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि थोड़े समय के लिए हुए विवाद के बाद राम बारात बिना किसी व्यवधान के पूर्ण हुई। में पर्याप्त पुलिस बल तैनात किया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -