Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजAltNews सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर को झटका, यूपी की अदालत ने ख़ारिज की जमानत याचिका:...

AltNews सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर को झटका, यूपी की अदालत ने ख़ारिज की जमानत याचिका: 20 जुलाई को पुलिस रिमांड पर सुनवाई

इस मामले में मोहम्मदी थाना प्रभारी अंबर सिंह ने कहा था कि जुबैर के खिलाफ पिछले साल 25 नवंबर को एक निजी न्यूज चैनल के रिपोर्टर आशीष कटियार ने मामला दर्ज कराया था।

उत्तर प्रदेश में लखीमपुर खीरी स्थित मोहम्मदी की सेशन कोर्ट ने 2021 के एक ट्वीट के मामले में ऑल्ट न्यूज के को फाउंडर सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर को बड़ा झटका देते हुए उसकी जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। जुबैर के वकील हरजीत सिंह ने पुष्टि की है कि उसकी पुलिस रिमांड पर 20 जुलाई को अदालत सुनवाई करेगी।

कोर्ट में मामले की सुनवाई एसीजेएम रुचि श्रीवास्तव ने की। दरअसल, पिछले साल 18 सितंबर 2021 को जुबेर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई थी। इसी मामले में लखीमपुर खीरी कोर्ट ने जुबैर को तलब किया था।

जुबैर के खिलाफ शिकायत दर्ज होने के बाद 18 सितंबर, 2021 को उनके खिलाफ दर्ज एक मामले में लखीमपुर खीरी अदालत ने उन्हें तलब किया था। इससे पहले सोमवार को ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर को समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के आरोप में पिछले साल उनके खिलाफ दर्ज एक मामले में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। सोमवार को ही लखीमपुर खीरी पुलिस ने भी एक स्थानीय अदालत में एक आवेदन दायर कर उससे पूछताछ करने के लिए 14 दिनों की पुलिस कस्टडी की माँग की थी।

इस मामले में मोहम्मदी थाना प्रभारी अंबर सिंह ने कहा था कि जुबैर के खिलाफ पिछले साल 25 नवंबर को एक निजी न्यूज चैनल के रिपोर्टर आशीष कटियार ने मामला दर्ज कराया था।

उन्होंने कहा, “अपनी शिकायत में कटियार ने जुबैर पर अपने चैनल के बारे में ट्वीट कर लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाया था।”

दिल्ली की अदालत ने दी थी जमानत

गौरतलब है कि इससे पहले शुक्रवार (15 जुलाई ) को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने जुबैर को आपत्तिजनक ट्वीट ‘हनुमान होटल’ के मामले में जमानत दे दी थी। अदालत ने जुबैर को 50 हजार रुपए के निजी मुचलके एवं इतने ही रुपए मूल्य के जमानती के आधार पर बेल मंजूर की थी।

दिल्ली पुलिस ने बीते माह 27 जून को मोहम्मद जुबैर को दुश्मनी को बढ़ावा देने और धार्मिक भावनाओं को आहत करने, सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक अशांति फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। दिल्ली पुलिस ने जुबैर के खिलाफ आईपीसी की धारा 153/295 के तहत केस दर्ज किया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -