Friday, May 31, 2024
Homeदेश-समाजCAA पर बवाल में जख्मी तारिक AMU में पढ़ाएगा: जिस VC को छात्रों ने...

CAA पर बवाल में जख्मी तारिक AMU में पढ़ाएगा: जिस VC को छात्रों ने ‘निष्कासित’ किया था उसकी मुहर

"मानवीय आधार पर वीसी ने मोहम्मद तारिक को एडहॉक पर केमेस्ट्री डिपार्टमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्त किया है। जिस दिना हिंसा हुई थी तारिक के हाथ में गंभीर चोटें आई थी। इस बात को ध्यान में रखते हुए केमेस्ट्री फैकल्टी से सलाह-मशविरे के बाद उसकी नियुक्ति की गई है।"

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध के नाम पर हुई हिंसा के दौरान जख्मी हुए लोगों को पुरस्कृत करने का काम शुरू हो गया है। पहले दिल्ली के जामिया हिंसा के दौरान घायल मिन्हाज को आप विधायक अमानतुल्लाह ने 5 लाख रुपए देते हुए वक्फ बोर्ड में नौकरी देने का ऐलान किया था। अब अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) ने अपने यहॉं हुए बवाल में जख्मी छात्र मोहम्मद तारिक को एडहॉक पर असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्त किया है। उनकी नियुक्ति केमेस्ट्री डिपार्टमेंट में की गई है।

मीडिया रिपोर्टों में बताया गया है कि वाइस चांसलर तारिक मंसूर ने मानवीय आधार पर उनकी नियुक्ति को मंजूरी दी है। एएमयू के एक अधिकारी के हवाले से बताया गया है, “मानवीय आधार पर वीसी ने मोहम्मद तारिक को एडहॉक पर केमेस्ट्री डिपार्टमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्त किया है। तारिक के पास पीएचडी की डिग्री है और उसने NET और JRF भी क्वालिफाई कर रखा है। जिस दिना हिंसा हुई थी तारिक के हाथ में गंभीर चोटें आई थी। इस बात को ध्यान में रखते हुए केमेस्ट्री फैकल्टी से सलाह-मशविरे के बाद उसकी नियुक्ति की गई है।”

बता दें कि जिस वाइस चांसलर तारिक मंसूर ने इस नियुक्ति को मंजूरी दी है उन्हें रविवार (22 दिसंबर) को अलीगढ़ में इंटरनेट सेवाओं की बहाली के तुरंत बाद, शिक्षकों, छात्रों और ग़ैर-शिक्षण कर्मचारियों ने निष्कासित कर दिया था। बाक़ायदा नोटिस जारी कर बताया गया था कि वाइस चांसलर प्रोफ़ेसर तारिक मंसूर और विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार एस अब्दुल हामिद को निष्कासित कर दिया गया है। जब तक दोनों इस्तीफा नहीं देंगे और कैंपस छोड़कर नहीं जाएँगे तब तक सभी लोग विश्वविद्यालय प्रशासन का बहिष्कार करेंगे।

छात्रों का आरोप था कि वाइस चांसलर तारिक मंसूर ने ही कैंपस में यूपी पुलिस को विरोध-प्रदर्शन के दौरान अंदर घुसने की अनुमति दी थी। ग़ौरतलब है कि नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध के नाम पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में 15 दिसंबर 2019 को जमकर बवाल कटा था। छात्रों ने एडमिशन ब्लॉक के बाहर निकलकर पुलिस पर पथराव और हवाई फायरिंग की थी। इसके बाद स्थिति पर क़ाबू पाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज और आँसू गैस के गोले दागने पड़े थे।

‘जंग की मशाल उठाकर करो प्रदर्शन’ – AMU में भड़काऊ स्पीच देने पर डॉ कफील खान हिरासत में

AMU में हिंदुत्व मुर्दाबाद के नारों के साथ नागरिकता संशोधन बिल की जलाई कॉपियाँ, 720 पर FIR

AMU के छात्र उस्मानी और तल्हा खान ने पोस्टर में बाबरी की जगह दिखाया आडवाणी का सिर, FIR दर्ज

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -